30/04/2019  :  10:24 HH:MM
ठोस कचरा प्रबंधन को लेकर अधिकारियों की एक बैठक
Total View  749

गुरुग्राम नेशनल ग्रीन ट्रायब्यूनल (एनजीटी) द्वारा जिला गुरुग्राम में ठोस कचरा प्रबंधन को लेकर दी गई गाईड लाईन्स को अमलीजामा पहनाने के लिए आज उपायुक्त अमित खत्री ने अपने कार्यालय में शहरी स्थानीय निकाय, प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड तथा अन्य संबंधित विभागों के अधिकारियों की एक बैठक बुलाई जिसमें उन्होंने इन अधिकारियों को बल्क वेस्ट जनरेटर्स अर्थात् ज्यादा कचरा उत्पन्न करने वाले प्रतिष्ठानों तथा ईकाइयों की पहचान करके वहां पर ठोस कचरा प्रबंधन के ह्रश्वलांट लगवाने के निर्देश दिए ताकि बंधवाड़ी के मुख्य ह्रश्वलांट पर कचरे का दबाव कम हो।

उपायुक्त ने कहा कि 50 किलोग्राम से ज्यादा कचरा पैदा करने वाली ईकाइयो की पहचान करें और उन्हें अपने यहां ठोस कचरा प्रबंधन संयत्र लगाकर उस कचरे से कम्पोस्ट बनाने के लिए पे्ररित करें। उन्होंने कहा कि जिला में स्थित विश्वविद्यालयों, रैस्टोरेंट, मिठाई
की दुकानों, अस्पताल, बड़ी-बड़ी औद्योगिक ईकाइयों, आरडब्ल्यूए आदि को इस संबंध में संपर्क करके उन्हें कम्पोस्ट ह्रश्वलांट अपने यहां लगाने के लिए प्रोत्साहित किया जाए। इसी प्रकार, जिला के बड़े-बड़े गांवों की पंचायतों को भी इस मॉडल को अपनाने के लिए प्रेरित करें।
बैठक में नगर निगम गुरुग्राम के अधिकारियों ने बताया कि निगम क्षेत्र में लगभग 1800 बल्क वेस्ट जनरेटर्स की पहचान की गई है, जिनमें से लगभग 100 ने अपने परिसर में कम्पोस्ट बनाने के सयंत्र लगाकर चालू भी कर दिए हैं। बाकि बची हुई ईकाइयों में अगले तीन महीने में ऑनसाईट कम्पोस्टिंग यूनिट लगवाने का लक्ष्य रखा गया है। उन्होंने बताया कि जिन ईकाइयों के पास कम्पोस्ट ह्रश्वलांट लगाने की जगह है वहां पर वे ईकाइयां स्वयं ह्रश्वलांट लगवा रही हैं और जिनके पास जगह नहीं है उनके लिए नगर निगम कम्पोस्ट ह्रश्वलांट लगवाकर दे रहा है जिसके लिए उनसे चार्जिज लिए जाएंगे।

फरूखनगर नगरपालिका के अधिकारियों ने बताया कि फरूखनगर में 18 बल्क वेस्ट जनरेटर्स की पहचान की गई है। इसी प्रकार, सोहना में 25 ऐसे स्थलों की पहचान हुई है और पटौदी नगरपालिका क्षेत्र में 42 स्थलों की पहचान की गई है। बैठक में उपस्थित जिला विकास एवं पंचायत अधिकारी नरेंद्र सारवान ने बताया कि जिला के आठ गांवों में ठोस कचरा प्रबंधन के तहत कचरे के सैग्रीगेशन अर्थात् अलग-अलग तरह के कचरे की छंटनी करना शुरू किया गया है लेकिन वहां पर पोलिथीन व ह्रश्वलास्टिक का खरीददार नहीं मिल रहा। इस
पर नगर निगम के अधिकारियों ने बताया कि मई माह के अंत तक निगम द्वारा पोलिथीन व ह्रश्वलास्टिक वेस्ट से सडक़ बनाने का कार्य शुरू किया जाएगा।

उस समय ग्रामीण क्षेत्र के कचरे से निकलने वाले पोलिथीन व ह्रश्वलास्टिक को निगम खरीद लेगा। जिला ग्रामीण विकास अभिकरण के प्रोजैक्ट डायरेक्टर राजेश गुप्ता ने बैठक में बताया कि सोहना क्षेत्र के चार गांवों नामत: बादशाहपुर टेठड़, मण्डावर, दौला तथा हसनपुर
में अगले 6 महीने में कचरे से कम्पोस्ट बनाने के ह्रश्वलांट लगा दिए जाएंगे। सोहना क्षेत्र के अन्य 41 गांवों में भी यह कार्य अगले एक साल में शुरू करने का लक्ष्य रखा गया है। गुप्ता ने यह भी बताया कि फरूखनगर क्षेत्र के 8 गांवों नामत: बासलांबी, बिढेड़ा, घोषगढ़, फरीदपुर, इकबालपुर, मोकलवास तथा धानावास में घरघर से कचरा इक्क_ा करने तथा उसकी छंटनी करने का कार्य शुरू किया जा चुका है।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   9118385
 
     
Related Links :-
रोटरी हेल्थ कार्निवाल में रोटेरियंस ने हेल्थ के प्रति किया जागरुक
डॉक्टर्स दिवाली की शुभकामनाएं देने मरीजों के घर पहुंच
डॉ.बेदी ने मिनिमली इनवेसिव सर्जरी में नए डेवलपमेंट्स पर गेस्ट लेक्चर दिया
डायबटीज से पीडि़तों के लिए आर्ट एग्जीबिशन
ऑर्थो कैम्प में 60 सीनियर सिटिजन की जांच की गई
रक्त की कमी से होने वाले थैलेसीमिया रोग का जागरुकता शिविर आयोजित
50 सीनियर सिटीजंस ने ‘मीट योअर डॉक्टर्स’ प्रोग्राम में हिस्सा लिया
भारत में कैंसर दूसरा सबसे बड़ा हत्यारा
वल्र्ड मेंटल हेल्थ डे: युवाओं ने खास अंदाज में दिया जागरूकता संदेश
स्तन कैंसर से बचने के लिए जागरूक और सावधान रहना जरूरी