Breaking News
बिहार में बाढ़ का तांडव, 29 लोगों की जान गई  |  भारत का लंबा प्रयास हो रहा निष्प्रभावी अफगानिस्तान-अमेरिका ने शांति वार्ता से भारत को किया अलग  |  गुरुग्राम को हरा भरा और प्रदूषण मुक्त करना सभी की जिम्मेदारी : राव  |  दिल्ली-एनसीआर क्षेत्र में महिलाओं की सुरक्षा को लेकर चर्चा  |  पुलिस आयुक्त मोहम्मद अकिल और उपायुक्त अमित खत्री सम्मानित  |  अशोक सांगवान की अध्यक्षता में गुरुग्राम महानगर विकास प्राधिकरण की बैठक जल भराव संबंधी शिकायतों के लिए बना कंट्रोल रूम  |  हुनरमंद युवा अपनी प्रतिभा के दम पर प्राप्त कर सकेगा रोजगार :बीरपंथी  |  बरसात के बाद जी.टी. रोड पर भरा पानी, राहगीर हुए परेशान  |  
 
 
समाचार ब्यूरो
16/05/2019  :  09:45 HH:MM
अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ ने पुतिन के साथ बातचीत के बाद कहा उ. कोरिया को लेकर अमेरिका और रूस के लक्ष्य एक समान
Total View  671

सोची अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ ने रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के साथ बातचीत के बाद कहा उत्तर कोरिया को लेकर अमेरिका और रूस के लक्ष्य एक समान हैं। पोम्पिओ ने रूसी के सोची में मंगलवार देर रात वार्ता के बाद कहा मेरा मानना है कि हमारे लक्ष्य एक समान हैं।

उनहोंने कहा मुझे उम्मीद है हम एक साथ काम करने की परिस्थितियां निर्मित कर सकते हैं। उन्होंने बताया पुतिन के आवास में करीब दो घंटे चली बातचीत में उन्होंने उत्तर कोरिया पर लंबी चर्चा की। पुतिन ने कुछ सप्ताह पहले ही उत्तर कोरिया के नेता किम
जोंग उन के साथ एक शिखर वार्ता की थी। पोम्पिओ ने बताया पुतिन और उनके बीच सीरिया पर भी लंबी वार्ता हुई। उल्लेखनीय है कि सीरिया को लेकर अमेरिका और रूस विपरीत पक्षों में हैं। उन्होंने बताया दोनों देशों ने सीरिया में युद्ध के बाद संविधान बनाने के लिए एक समिति गठित करने का समर्थन किया। पोम्पिओ ने सोची से रवाना होने से पहले हवाईअड्डे पर पत्रकारों से कहा कि सीरिया में आगे की योजना को लेकर हमारे बीच काफी सार्थक बातचीत हुई। हमारे बीच राजनीतिक प्रक्रिया को आगे ले जाने के संबंध में उन चीजों
पर बातचीत हुई जो हम मिलकर कर सकते हैं। इसी में हमारे साझा हित हैं। उन्होंने कहा संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद प्रस्ताव 2254 से जुड़ी राजनीतिक प्रक्रिया अटकी पड़ी है। मेरा मानना है कि हम इसे आगे बढ़ाने के लिए मिलकर काम करना आरंभ कर सकते हैं। संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद प्रस्ताव 2254 को 2015 में पारित किया गया था, जिसमें संयुक्त राष्ट्र के समर्थन में सीरिया नीत राजनीतिक प्रतिक्रिया की बात की गई है, लेकिन संयुक्त राष्ट्र दूत संवैधानिक समिति बनाने को लेकर संघर्ष कर रहे हैं। गौरतलब है कि सीरिया में आठ वर्ष से चल रहे संघर्ष में तीन लाख 70 हजार से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   4596012
 
     
Related Links :-
भारत का लंबा प्रयास हो रहा निष्प्रभावी अफगानिस्तान-अमेरिका ने शांति वार्ता से भारत को किया अलग
पाक प्रधानमंत्री इमरान खान को एसजीपीसी ने दिया नगर कीर्तन में शामिल होने का निमंत्रण
इमरान बोले- लूटा धन वापस करें नवाज-जरदारी
एफबीआई ने लंदन की कोर्ट में किया दावा पाकिस्तान में ही रह रहा है अंडरवल्र्ड डॉन दाऊद इब्राहिम
किम और ट्रम्प की बैठक ऐतिहासिक : उत्तर कोरिया
ऑस्ट्रेलियाई प्रधानमंत्री ने किया ट्वीट मोदी संग ली सेल्फी, कहा ‘कितना अच्छा हैं मोदी’
ईरान पर अमेरिका ने लगाए बेहद कड़े प्रतिबंध
रावलपिंडी में बम विस्फोट, बाल-बाल बचा मसूद अजहर
चीन में 6 तीव्रता का भूकंप, 11 की मौत, 122 जख्मी
सर्जिकल स्ट्राइक और क्रिकेट मैच की तुलना ठीक नहीं : पाक सेना