Breaking News
पार्क ह्रश्वलाजा जीरकपुर में अदिरा ईवेंट्स का ‘ट्राइसिटी का करवा चौथ बैश’ संपन्न  |  भारत में कैंसर दूसरा सबसे बड़ा हत्यारा  |  भाजपा की सरकार होते हुए भी कालका ने विपक्ष जैसा शासनकाल सहन किया : प्रदीप चौधरी  |  भाजपा और कांग्रेस में दल बदल करवाने में लगी हुई है होड़ : योगेश्वर शर्मा  |  कांग्रेस ही भारत को न.1 बना सकती है : जैन  |  उनकी सरकार ने कमीशन एजेंटों, बिचोलियों और दलालों की खत्म करने की दिशा में काम किया है: मनोहर लाल बिचोलिये कैंसर के समान घातक है  |  जोनल यूथ फेस्ट में विद्यार्थियों की धूम, लगी पुरस्कारों की झड़ी  |  अलीपुर के पूर्व सरपंच जेजेपी में शामिल, कांग्रेस के गुरविंद्र भी आए  |  
 
 
समाचार ब्यूरो
16/05/2019  :  09:45 HH:MM
अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ ने पुतिन के साथ बातचीत के बाद कहा उ. कोरिया को लेकर अमेरिका और रूस के लक्ष्य एक समान
Total View  724

सोची अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ ने रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के साथ बातचीत के बाद कहा उत्तर कोरिया को लेकर अमेरिका और रूस के लक्ष्य एक समान हैं। पोम्पिओ ने रूसी के सोची में मंगलवार देर रात वार्ता के बाद कहा मेरा मानना है कि हमारे लक्ष्य एक समान हैं।

उनहोंने कहा मुझे उम्मीद है हम एक साथ काम करने की परिस्थितियां निर्मित कर सकते हैं। उन्होंने बताया पुतिन के आवास में करीब दो घंटे चली बातचीत में उन्होंने उत्तर कोरिया पर लंबी चर्चा की। पुतिन ने कुछ सप्ताह पहले ही उत्तर कोरिया के नेता किम
जोंग उन के साथ एक शिखर वार्ता की थी। पोम्पिओ ने बताया पुतिन और उनके बीच सीरिया पर भी लंबी वार्ता हुई। उल्लेखनीय है कि सीरिया को लेकर अमेरिका और रूस विपरीत पक्षों में हैं। उन्होंने बताया दोनों देशों ने सीरिया में युद्ध के बाद संविधान बनाने के लिए एक समिति गठित करने का समर्थन किया। पोम्पिओ ने सोची से रवाना होने से पहले हवाईअड्डे पर पत्रकारों से कहा कि सीरिया में आगे की योजना को लेकर हमारे बीच काफी सार्थक बातचीत हुई। हमारे बीच राजनीतिक प्रक्रिया को आगे ले जाने के संबंध में उन चीजों
पर बातचीत हुई जो हम मिलकर कर सकते हैं। इसी में हमारे साझा हित हैं। उन्होंने कहा संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद प्रस्ताव 2254 से जुड़ी राजनीतिक प्रक्रिया अटकी पड़ी है। मेरा मानना है कि हम इसे आगे बढ़ाने के लिए मिलकर काम करना आरंभ कर सकते हैं। संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद प्रस्ताव 2254 को 2015 में पारित किया गया था, जिसमें संयुक्त राष्ट्र के समर्थन में सीरिया नीत राजनीतिक प्रतिक्रिया की बात की गई है, लेकिन संयुक्त राष्ट्र दूत संवैधानिक समिति बनाने को लेकर संघर्ष कर रहे हैं। गौरतलब है कि सीरिया में आठ वर्ष से चल रहे संघर्ष में तीन लाख 70 हजार से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   1292068
 
     
Related Links :-
भारत ने संयुक्त राष्ट्र में स्थापित किया गांधी सोलर पार्क
कश्मीर पर सवाल पूछने वाले पाक पत्रकारों पर खीझे ट्रंप, कई बार फटकारा कश्मीर एक जटिल मुद्दा, दोनों पक्ष राजी हों तो मैं हमेशा मध्यस्थता को तैयार: ट्रंप
दिल्ली समेत उत्तर भारत में तेज भूकंप के झटके पीओके में तबाही १९ की मौत, ३०० घायल
क्लाइमेट समिट : पीएम मोदी ने कहा 80 देश भारत की इंटरनेशनल सोलर अलायंस की पहल के साथ जुड
यूरोपीय यूनियन ने पाक को लताड़ा, कहा भारत में आतंकी पड़ोसी मुल्क से आते हैं चांद से नहीं
दुबई में संगतों को 550वें प्रकाश पर्व समागमों में शामिल होने का न्योता
पाकिस्‍तान के दो सैनिकों को भारतीय जवानों ने जवाबी कार्रवाई में मार गिराया सफेद झंडा दिखाकर ले गए शव
यूएनएचआरसी में कुरैशी ने कबूला जम्मू-कश्मीर भारत का राज्य
भारत-फ्रांस को घनिष्टतापूर्वक शांति अग्रदूत के रूप में करना चाहिए काम: नायडू
‘कश्मीर सालिडेरिटी डे’ के पोस्टर दूतावास की दीवारों पर लगाए गए पाक ने तेहरान स्थित दूतावास में लगाए भारत विरोधी पोस्टर