Breaking News
68वीं अखिल भारतीय पुलिस कुश्ती समूह प्रतियोगिता का विधिवत समापन   |  अब बंदरों के उत्पात से शहरवासियों को मिलेगी निजात,निगम ने किया हेल्पलाइन नंबर जारी,0180-2642500 पर करें कॉल  |  टेंडर ब्रांच क्लर्क संदीप शर्मा व क्लर्क कमलकांत को निगमायुक्त ने किया टर्मिनेट  |  1000 स्कूल होंगे बस्तामुक्त, अंग्रेजी को बढ़ावा देगी सरकार  |  हरियाणा का एक लाख 42 हजार करोड़ रुपए से अधिक का बजट पेश  |  फाइन आर्टस एसोएिसशन ने अपनी मांगों को लेकर डिप्टी सीएम से मुलाकात की  |  शीरा घोटाला और सुगर मिल मामलों में मुख्यमंत्री की क्लीन के विरोध में बलराज कुण्डू का समर्थन वापसी का ऐलान  |   दिल्ली हिंसा पर गुर्जर समाज की पंचायत, मदद का दिया भरोसा  |  
 
17/05/2019  :  09:56 HH:MM
गरीब-उत्थान कार्यक्रमों ने बनाए रखा ‘मोदी लहर’
Total View  764

गुरुग्राम लोकसभा चुनाव संपन्न होने के बाद हरियाणा में वोटिंग पैटर्न और मत-प्रतिशत को लेकर लोगों व राजनीतिक विश्लेषकों के बीच मत्था-पच्ची जारी है। वैसे, जबतक मतगणना संपन्न नहीं होती, तबतक जीत का आकलन और सीट-समीकरण पर राजनीतिक वाद-विवाद सामने आते ही रहेंगे।

12 मई को प्रदेश के सभी 10 सीटों पर संपन्न मतदान के बाद उम्मीद से अधिक वोटिंग से खासकर सत्ताधारी भारतीय जनता पार्टी के नेता- कार्यकर्ता काफी उत्साहित हैं। उनका मानना है कि चुनाव में जनता के बीच प्रधानमंत्री मोदी एक बड़ा फैक्टर रहे हैं। वोटरों ने केंद्र में एकबार फिर मोदी सरकार के लिए मतदान किया है। राजनीतिक विश्लेषकों की मानें तो, इस चुनाव में केंद्र व प्रदेश सरकार द्वारा गरीब-उत्थान को लेकर चलाई गई विभिन्न योजनाओं को बड़ा समर्थन मिला है। आयुष्मान, उज्ज्वला योजना, करोड़ों टॉयलेट निर्माण को लोगों ने सरकार का बड़ा काम माना। इसके अलावा, केंद्रीय सरकार द्वारा पांच लाख तक वार्षिक आय को टैक्स फ्री घोषित करने और सामान्य वर्ग के गरीबों को शैक्षणिक संस्थाओं में प्रवेश व सरकारी नौकरियों में 10 फीसद आरक्षण दिए जाने से मध्यम वर्ग बीजेपी के साथ एकजुट हुआ। विधायक उमेश अग्रवाल कहते हैं, इसमें कोई शक नहीं कि गरीबी उन्मूलन कार्यक्रमों का पार्टी को बड़ा लाभ मिला है। परंतु, हमारे कार्यकर्ताओं के पास जनता के सामने बताने और समझाने को और भी बहुत कुछ था और युवाओं खासकर नये मतदाताओं ने पीएम मोदी का भरपूर साथ दिया है।

हरियाणा में जहां चुनाव संपन्न हो चुका है वहीं, देश में भी अंतिम दौर में है। परंतु, परिणाम आने से पहले राजनीतिक विश्लेषकों के सामने चुनाव प्रचार में जनता के बीच पहुंचे मुद्दों और वादों को कसौटी पर रखकर उसके असर के विश्लेषण का एक मौका है। नोटबंदी, जीएसटी और बेरोजगारी को विपक्ष ने मुद्दा बनाने की कोशिश की परंतु, ये मुद्दे जनता में प्रभाव पैदा करने में असफल रहे। वैसे भी विपक्ष नोटबंदी और जीएसटी पर कई बार चुनाव लड़ चुका है। इसीलिए वे मोदी के खिलाफ हवा बनाने में सफल नहीं रहे। आगे, गुरुग्राम
विधायक उमेश अग्रवाल कहते हैं, लोकसभा चुनाव में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी स्वयं जनता के बीच एक बड़ा मुद्दा के रूप में थे। विपक्ष का ‘मोदी हटाओ’ का बेसुरा राग कानफोड़ू धून के अलावा कुछ नहीं था, जिसे कोई भी सुनना पसंद नहीं कर रहा था।
प्रधानमंत्री मोदी के प्रति जनता में उम्मीद बरकरार है। यही कारण है कि गर्मी के बावजूद बड़ी संख्या में लोग परिवार सहित मतदान करने घर से निकले। मोदी लहर को लेकर वे कहते हैं, पांच साल के बाद भी पीएम मोदी जनता के सर्वाधिक लोकप्रिय नेता हैं और 2014 में शुरू देशव्यापी ‘मोदी लहर’ कायम है। उन्होंने उत्साहित होकर कहा, लोकसभा चुनाव में वोटिंग ट्रेंड एक संकेत के तौर पर है कि हरियाणा में अगली सरकार भी भाजपा की ही बनेगी।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   9352913
 
     
Related Links :-
68वीं अखिल भारतीय पुलिस कुश्ती समूह प्रतियोगिता का विधिवत समापन
अब बंदरों के उत्पात से शहरवासियों को मिलेगी निजात,निगम ने किया हेल्पलाइन नंबर जारी,0180-2642500 पर करें कॉल
टेंडर ब्रांच क्लर्क संदीप शर्मा व क्लर्क कमलकांत को निगमायुक्त ने किया टर्मिनेट
1000 स्कूल होंगे बस्तामुक्त, अंग्रेजी को बढ़ावा देगी सरकार
हरियाणा का एक लाख 42 हजार करोड़ रुपए से अधिक का बजट पेश
फाइन आर्टस एसोएिसशन ने अपनी मांगों को लेकर डिप्टी सीएम से मुलाकात की
शीरा घोटाला और सुगर मिल मामलों में मुख्यमंत्री की क्लीन के विरोध में बलराज कुण्डू का समर्थन वापसी का ऐलान
दिल्ली हिंसा पर गुर्जर समाज की पंचायत, मदद का दिया भरोसा
सैलजा ने अवैध निर्माण, वन्य जीवों की मौत, पेड़ों की अवैध कटाई जैसे मुद्दे पर मुख्यमंत्री को पत्र लिख कर चिंत्ता जताईं
बेरोजगारी खत्म करने के लिए बजट में उद्योगों को ज्यादा से ज्यादा सुविधा दी जाए : बजरंग गर्ग