Breaking News
भाजपा ने महज 10 महीने में कांग्रेस से हथिया ली दो राज्यों की सत्ता   |  अवैध रूप से सीएंडडी वेस्ट डंपिंग करने वालों पर की जा रही है कार्रवाई  |  कोराना (कोविड-19) से स्वच्छता, सतर्कता व जागरुकता ही बचाव : नरेश नरवाल  |  आज का देश की महिलाओं व हमारी बच्ची के लिए ऐतिहासिक दिन है : बजरंग गर्ग  |  कोविड 2019 संक्रमण को फैलने से रोकने के उपायों के बारे में आम जनता को ज्यादा से ज्यादा जागरूक करें : उपायुक्त  |  संदिग्ध मरीजों के लिए गुरुग्राम जिला में 22 आइसोलेटिड वार्ड तथा 4 क्वारंर्टाइन सुविधा बनाई गई  |  स्वयंसेवी संस्थाओं द्वारा संक्रमण से बचने के लिए लोगों को जागरूक किया जा रहा है  |  भाजपा ने प्रदेश पदाधिकारियों तथा प्रदेश मोर्चा अध्यक्षों की घोषणा की   |  
 
 
समाचार ब्यूरो
28/05/2019  :  09:13 HH:MM
कैंसर के इलाज के लिए रेडिएशन थेरेपी की नई उपलब्धियां
Total View  821

फरीदाबादत्न कैंसर के इलाज के लिए रेडिएशन थेरेपी में तकनीकी स्तर पर बड़े पैमाने पर उन्नति हुई है। वर्तमान समय में इलाज का लक्ष्य केवल बीमारी से निजात दिलाना ही नहीं, बल्कि इलाज के बाद बेहतर व गुणवत्तापूर्ण जीवन देना भी है। जागरूकता और लगातार हो रही उन्नति की जानकारी साझा करने के उद्देश्य से हाल ही में कंटीन्यूइंग मेडिकल एजुकेशन (सीएमई) शीर्षक से चिकित्सकों का एक कॉन्क्लेव आयोजित किया गया।
कॉन्क्लेव का आयोजन इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए) फरीदाबाद की अध्यक्ष डॉ. पुनीता हसीजा, एवम् सचिव डॉ. शिप्रा गुप्ता के नेतृत्व में राजीव गांधी कैंसर इंस्ट्टयूट एंड रिसर्च सेंटर (आरजीसीआईआरसी) के विशेषज्ञों डॉ. मुनीश गैरोला (रेडिएशन ओंकोलॉजी डायरेक्टर) एवम् डॉ. सज्जन राजपुरोहित (मेडिकल ओंकोलॉजी कंसल्टेंट) साथ मिलकर किया था। राजीव गांधी कैंसर इंस्टीट्यूट एंड रिसर्च सेंटर के रेडिएशन ओंकोलॉजी डायरेक्टर डॉ. मुनीश गैरोला ने कहा, रेडिएशन थेरेपी की नई तकनीकें कैंसर ट्यूमर को रेडिएशन की हाई डोज देते हुए सामान्य टिश्यू की हिफाजत करने में मददगार हैं। इंटेंसिटी मॉड्यूलेटेड रेडियोथेरेपी (आईएमआरटी) और इमेज गाइडेड रेडिएशन थेरेपी (आईजीआरटी) जैसी टेक्नोलॉजी ने रेडिएशन के जरिये कैंसर के इलाज में क्रांतिकारी बदलाव किया है। परिणामस्वरूप रेडिएशन के कारण होने वाले दुष्प्रभावों में बहुत कमी आई है। पहले ऐसे दुष्प्रभाव के बहुत मामले सामने आते थे। डॉ. गैरोला ने आगे बताया, स्तन कैं सर (विशेषरूप से बाएं स्तन) के इलाज के मामले में पहले रेडिएशन से दिल पर प्रभाव पड़ता था, जिसके कारण दिल की बीमारियों का खतरा रहता था। डीआईबीएच (डीप इंस्पाइरेशन ब्रीथ होल्ड) तकनीक के जरिये वर्तमान समय में हम कैंसर की गांठ तक रेडिएशन की पर्याप्त मात्रा पहुंचाते हुए दिल की पूरी तरह हिफाजत करने में सक्षम हो गए हैं।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   7796707
 
     
Related Links :-
रोटरी हेल्थ कार्निवाल में रोटेरियंस ने हेल्थ के प्रति किया जागरुक
डॉक्टर्स दिवाली की शुभकामनाएं देने मरीजों के घर पहुंच
डॉ.बेदी ने मिनिमली इनवेसिव सर्जरी में नए डेवलपमेंट्स पर गेस्ट लेक्चर दिया
डायबटीज से पीडि़तों के लिए आर्ट एग्जीबिशन
ऑर्थो कैम्प में 60 सीनियर सिटिजन की जांच की गई
रक्त की कमी से होने वाले थैलेसीमिया रोग का जागरुकता शिविर आयोजित
50 सीनियर सिटीजंस ने ‘मीट योअर डॉक्टर्स’ प्रोग्राम में हिस्सा लिया
भारत में कैंसर दूसरा सबसे बड़ा हत्यारा
वल्र्ड मेंटल हेल्थ डे: युवाओं ने खास अंदाज में दिया जागरूकता संदेश
स्तन कैंसर से बचने के लिए जागरूक और सावधान रहना जरूरी