Breaking News
पार्क ह्रश्वलाजा जीरकपुर में अदिरा ईवेंट्स का ‘ट्राइसिटी का करवा चौथ बैश’ संपन्न  |  भारत में कैंसर दूसरा सबसे बड़ा हत्यारा  |  भाजपा की सरकार होते हुए भी कालका ने विपक्ष जैसा शासनकाल सहन किया : प्रदीप चौधरी  |  भाजपा और कांग्रेस में दल बदल करवाने में लगी हुई है होड़ : योगेश्वर शर्मा  |  कांग्रेस ही भारत को न.1 बना सकती है : जैन  |  उनकी सरकार ने कमीशन एजेंटों, बिचोलियों और दलालों की खत्म करने की दिशा में काम किया है: मनोहर लाल बिचोलिये कैंसर के समान घातक है  |  जोनल यूथ फेस्ट में विद्यार्थियों की धूम, लगी पुरस्कारों की झड़ी  |  अलीपुर के पूर्व सरपंच जेजेपी में शामिल, कांग्रेस के गुरविंद्र भी आए  |  
 
 
समाचार ब्यूरो
29/05/2019  :  09:24 HH:MM
7वीं आर्थिक गणना का कार्य होगा कॉमन सर्विस सेंटरों के माध्यम से होगा सर्वे
Total View  724

करनाल भारत सरकार के सांख्यिकी और कार्यक्रम कार्यान्वयन मंत्रालय की ओर से अगले महीने जून में 7वीं आर्थिक गणना का कार्य शुरू किया जा रहा है, शुरुआत किस तिथि से होगी, यह भी जल्द तय होगा। हरियाणा में इस कार्य का जिम्मा आर्थिक एवं सांख्यिकी विशलेषण विभाग को दिया गया है। खास बात यह है कि इस बार की गणना मैन्युअल ना करके डिजीटल तरीके से की जाएगी और यह कार्य जिलो में चल रहे कॉमन सर्विस सेंटर के सुपरवाईजऱों की देखरेख में पढ़े-लिखे बेरोजगारों की टीम घर-घर जाकर सर्वे के द्वारा पूरा करेगी।

इसे लेकर बीती 27 मई को राज्य स्तरीय प्रशिक्षण कार्यशाला शहर के पंचायत भवन में आयोजित की जा चुकी है, जिसमें सांख्यिकीय व योजना विभाग के प्रदेश व जिला स्तर के अधिकारियों के साथ-साथ कॉमन सर्विस सेंटरों के जिला प्रबंधक व जिला समन्वयक को आमंत्रित किया गया था। कॉमन सर्विस सेंटर के क्षेत्रीय प्रबंधक संदीप राणा ने इस सम्बंध में जानकारी देते हुए बताया कि आर्थिक गणना का कार्य कैसे किया जाना है, इस बारे कार्यशाला में प्रशिक्षण दिया गया। बताया गया कि आर्थिक गणना का कार्य पहली बार कागजी
तौर पर ना करके इसे डिजीटल तरीके से किया जाएगा, जिसमें समय की बचत होगी। इसके साथसाथ गणना करने वाली टीम में शामिल बेरोजगार युवाओं को रोजगार मिलेगा, जो घर-घर जाकर परिवारों का आर्थिक सर्वे करेंगे। उन्होंने बताया कि सर्वे में सामान्य बिन्दु रहेंगे, मसलन परिवार के मुखिया का नाम, कुल सदस्य, व्यवसाय तथा सभी स्त्रोतों से प्राप्त अनुमानित पारिवारिक आय इत्यादि। इसको करने की पूरी जिम्मेदारी कॉमन सर्विस सेंटर की रहेगी, जिसमें सांख्यिकीय एवं योजना अधिकारी सहयोग करेंगे। जिले में वर्तमान में करीब 750 सीएससी सेंटर हैं, जबकि प्रदेश में इनकी संख्या 15 हजार के लगभग है। उन्होंने बताया कि सर्वे टीम दिनभर परिवारों के पास जाकर आर्थिक गणना का डाटा एकत्र करेगी और सांय के समय उसे सीएससी के सुपरवाईजर को सौंपेगी। सुपरवाईजर एकत्र किए गए डाटे को
अपनी देखरेख में तैयार करके उसे जिला स्तर पर सांख्यिकी या ह्रश्वलानिंग अधिकारी के कार्यालय में भेजेंगे, जहां से डाटा प्रदेश व भारत सरकार को जाएगा। आर्थिक गणना के कार्य को समूचित रूप से सम्पन्न करने के लिए क्षेत्रीय प्रबंधक संदीप राणा ने जिला के सभी परिवारों से अपील की है कि वे एन्यूमरेटर्स अर्थात गणकों को सही-सही जानकारी दें, ताकि एक मुकम्मल सर्वे किया जा सके। क्योंकि उसी के आधार पर भारत सरकार लोगों के लिए नीतियां एवं कल्याणकारी योजनाएं बना सकेगी।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   5515579
 
     
Related Links :-
जोनल यूथ फेस्ट में विद्यार्थियों की धूम, लगी पुरस्कारों की झड़ी
स्कूल में अंगे्रजी विषय की प्रश्नोतरी प्रतियोगिता का आयोजन
शिक्षकों ने रामायण का मंचन, बच्चों को बताया दशहरा का महत्व
एसएमडी लिटिल चैम्ह्रश्वस स्मार्ट स्कूल में दशहरे का आयोजन
बचपन ह्रश्वले स्कूल में दशहरा का त्योहार मनाया गया
गुरुग्राम विश्वविद्यालय में गुरु नानक जी के विचारों पर हुई चर्चा
मैं शिक्षा और चिकित्सा सुविधाओं को बेहतर बनाने के लिए काम करूंगा : संजय
बीजेपी के राज में बेरोजगारी और अराजकता का माहौल: कुमारी शैलजा
एसएमडी लिटिल चैंप स्मार्ट स्कूल सेक्टर-2 पंचकूला में मनाई गांधी जयंती
प्रशासनिक सेवाओं के विद्यार्थी तैयार कर रहा विश्वविद्यालय