Breaking News
पार्क ह्रश्वलाजा जीरकपुर में अदिरा ईवेंट्स का ‘ट्राइसिटी का करवा चौथ बैश’ संपन्न  |  भारत में कैंसर दूसरा सबसे बड़ा हत्यारा  |  भाजपा की सरकार होते हुए भी कालका ने विपक्ष जैसा शासनकाल सहन किया : प्रदीप चौधरी  |  भाजपा और कांग्रेस में दल बदल करवाने में लगी हुई है होड़ : योगेश्वर शर्मा  |  कांग्रेस ही भारत को न.1 बना सकती है : जैन  |  उनकी सरकार ने कमीशन एजेंटों, बिचोलियों और दलालों की खत्म करने की दिशा में काम किया है: मनोहर लाल बिचोलिये कैंसर के समान घातक है  |  जोनल यूथ फेस्ट में विद्यार्थियों की धूम, लगी पुरस्कारों की झड़ी  |  अलीपुर के पूर्व सरपंच जेजेपी में शामिल, कांग्रेस के गुरविंद्र भी आए  |  
 
 
समाचार ब्यूरो
30/05/2019  :  09:05 HH:MM
जिला एवं सत्र न्यायधीश ने जिला कारागार का किया औचक निरीक्षण्
Total View  737

करनाल जिला एवं सत्र न्यायधीश एवं जिला विधिक सेवाएं प्राधिकरण के अध्यक्ष जगदीप जैन ने मंगलवार देर सायं जिला कारागार करनाल का औचक निरीक्षण किया। इस दौरान उनके साथ जिला विधिक सेवाएं प्राधिकरण सीजेएम एवं सचिव हितेश गर्ग, जुविनायल जस्टिस बोर्ड की प्रिंसिपल मैजिस्ट्रेट अनुराधा, एसीजेएम हरीश गोयल, जेएमआईसी हरलीन पाल सिंह तथा जेएमआईसी मुकेश कुमार भी मौजूद थे। सेशन जज ने हर बैरक में जाकर कैदियों से बातचीत की और उनकी समस्याओं को सुना।

कारागार में बंद कैदियों की मुख्य समस्या उनके फोन नम्बर चालू न होना थी। जिसके द्वारा वे अपने घरवालों से बात कर सकें। सैशन जज ने जेल अधीक्षक को आदेश दिए कि जल्द ही इनकी समस्याओं का समाधान किया जाए। इस दौरान कैदियों ने बताया कि जेल में चिकित्सों की भी कमी है जिसके कारण उन्हें बहुत सारी परेशानियों का सामना कर पड़ रहा है।एक अन्य निर्देश में सेशन जज ने जेल प्रशासन को कहा कि जेल में स्थित कैंटीन में टोकन की व्यवस्था की जाए ताकि लंबी-लंबी लाईनें न लगें और कैदियों का आपसी झगड़ा न हो। गौरतलब है कि पिछले दिनों कैंटीन के आगे लंबी लाईन के कारण दो कैदियों का आपसी झगड़ा हो गया था। सैशन जज ने अपने निरीक्षण के दौरान कैंटीन में जाकर बंदियों को मिल रहे सामान की भी जांच की।

इस दौरान उन्होंने रसोईघर में जाकर कैदियों के लिए बन रहे खाने को भी चखा तथा जेल की सफाई व्यवस्था का भी जायजा लिया। इस दौरान प्रिंसिपल मैजिस्ट्रेट अनुराधा ने जेल स्थित मुंडाखाना का निरीक्षण किया और बाल अपराधियों से बातचीत की। डॉ. प्रियदर्शी
रंजन ने मीडिया को बताया कि अभी किडनी के 90 फीसदी रोगी डायलिसिस के जरिए अपनी जिंदगी बचा रहे है। सिर्फ दस फीसदी रोगी ही ट्रांसह्रश्वलांट अपना रहे है। उन्होंने आई किडनी एप के जरिए 16 स्वैप किडनी ट्रांसह्रश्वलांट किए है। मानव अंग ट्रांसह्रश्वलांट इसकी इजाजत देता है। लेकिन अभी बहुत कम स्वैप किडनी ट्रांसह्रश्वलांट किए जा रहे है। स्वैप किडनी ट्रांसह्रश्वलांट अभी सौ फीसदी सफल रहे है।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   1290765
 
     
Related Links :-
पिछले चुनाव के मुकाबले अब तक 5 गुना अधिक मूल्य की नकदी जब्त
तरन तारन बम ब्लास्ट की जांच में हुआ बड़ा खुलासा सुखबीर बादल पर आतंकी हमले की थी साजिश
हरियाणा में अब तक 130 गैर-लाइसेंसी हथियार जब्त
83 मतदान केंद्र क्रिटिकल और 2923 वल्नरेबल
सीआईए होडल ने किया 493 किलो गांजा सहित आरोपी को गिरफ्तार
ऑटो में मारपीट कर लूटपाट के चार आरोपी गिरफ्तार
पूर्व वित्त मंत्री चिदंबरम को झटका हाईकोर्ट से नहीं मिली जमानत
हरियाणा पुलिस की चुनाव से पहले कार्रवाइ
सडक़ के गड्ढों ने ली है 10 युवाओं की जान
चोरी की मोटर साईकिल सहित आरोपी गिरफतार