Breaking News
पाकिस्‍तान के दो सैनिकों को भारतीय जवानों ने जवाबी कार्रवाई में मार गिराया सफेद झंडा दिखाकर ले गए शव  |  टोरंटो स्थित रॉय थॉमसन हॉल में आयोजित टोरंटो इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल 2019 के दौरान अपनी फिल्म द स्काई इज पिंक के प्रीमियर में फरहान अख्तर, सोनाली बोस एवं प्रियंका चोपड़ा जोनस शिरकत करते हुए।  |  बागी 3 में वापस आई श्रद्धा कपूर  |  गुरुग्राम विवि का मलेशिया की एआईएमएसटी के साथ एमओयू  |  ब्राह्मण समाज के बाद पंजाबी समाज ने विधायक अग्रवाल को दिया आशीर्वाद  |  सीग्राम के रॉयल स्टैग ने बुमराह को बनाया ब्रांड एंबेसेडर  |  सलवान पब्लिक स्कूल ने उत्साह के साथ मनाया हिंदी दिवस  |  समाजसेवी नवीन गोयल हर एक रेहड़ी वाले को देंगे डस्टबिन मिलेनियम सिटी की सडक़ों पर नजर नहीं आएंगे फलों के छिलके और गंदगी  |  
 
 
समाचार ब्यूरो
31/05/2019  :  09:44 HH:MM
‘तंबाकू मुक्त’ भारत तथा विश्व का निर्माण योग
Total View  717

विश्व तंबाकू दिवस को पहली बार 7 अप्रैल 1988 को विश्व शान्ति की सबसे बड़ी वैश्विक संस्था संयुक्त राष्ट्र संघ की इकाई विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्लू.एच.ओ.) की वर्षगांठ पर मनाया गया। इसके बाद हर वर्ष 31 मई को विश्व तंबाकू निषेध दिवस के रूप में मनाने की घोषणा की गयी। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने वर्ष 2008 में सभी तंबाकू विज्ञापनों, प्रमोशन आदि पर बैन लगाने का आह्वान किया।

विश्व तंबाकू निषेध दिवस का वर्ष 2019 के लिए थीम है- तंबाकू और फेफड़ों का स्वास्थ्य। विश्व के लोगों को तंबाकू मुक्त और स्वस्थ के प्रति आसानी से जागरूक बनाने के लिये पूरे विश्व भर में एक मान्यता-प्राप्त वैश्विक संस्था डब्लू.एच.ओ. के आह्वान पर इस अभियान में विश्व भर में कई वैश्विक संगठन, सदस्य देशों की केन्द्र, राज्य सरकारें, सार्वजनिक स्वास्थ्य संगठन आदि इस दिवस को पूरे उत्साह से मनाते हैं। सम्पूर्ण स्वास्थ्य की दृष्टि से अत्यन्त महत्वपूर्ण इस महान दिवस को अत्यन्त ही सन्देशपरक बनाने के लिए विभिन्न प्रकार के स्थानीय जागरूकता कार्यक्रम आयोजित किये जाते हैं। नशे की लत का मैं भी किशोर तथा युवा अवस्था में भुक्त भोगी रहा हूं। मेरे स्वर्गीय पिता जो कि एक अच्छे चिकित्सक थे फिर भी वह दिन-रात सिगरेट तथा शराब के नशे में पूरी तरह डूबे रहते थे। पिताजी से ही इस बुरी आदत का मैं भी शिकार बन गया था। अब मैं प्रबल इच्छा शक्ति के बूते नशे की आदत से पूरी तरह मुक्त हूं। जबसे मैंने जीवन का एक बड़ा मकसद बनाया तब से मैं तथा मेरा परिवार भी नशा मुक्त तथा शाकाहारी जीवन जी रहा है। मैं 63 वर्षीय व्यक्ति हूं। विगत 38 वर्षों से लेखन को मैंने अपना मकसद प्राप्त करने का हथियार बनाया है।

सार्थक जीवन जीने के लिए जीवन में कोई न कोई मकसद होना जरूरी है। ईश्वर ने यह मानव शरीर किसी विशेष उद्देश्य से दिया है। अनमोल मानव जीवन को व्यर्थ नशे में बरबाद नहीं करना चाहिए। मानव जन्म हमें लोक कल्याण के द्वारा एकमात्र अपनी आत्मा के विकास के लिए मिला है। इसलिए जीवन के प्रत्येक पल को पूरे उत्साह के साथ जीना चाहिए। उत्साह सबसे बड़ी जीवन शक्ति तथा निराशा सबसे बड़ी कमजोरी है। जीवन के प्रत्येक क्षण खुश रहने का स्वभाव विकसित करें। प्रत्येक मनुष्य को जीवन का मकसद ऐसा चुनना चाहिए जिसमें हम अपने शरीर, मन, मस्तिष्क तथा आत्मा की पूरी शक्ति लगा सके। मेरे जीवन का मकसद आपको पूरा लेख पढऩे पर स्पष्ट हो जायेगा। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी ने भी हाल में ’ड्रग्स-फ्र ी इंडिया‘ अभियान चलाने की बात कही है। उन्होंने चिन्ता व्यक्त करते हुए कहा कि हमारे देश के युवा गुटका, चरस, गांजा, अफीम, स्मैक, शराब और भांग आदि के नशे में पड़ कर बर्बाद हो रहे हैं। इस कारण से वे आर्थिक, सामाजिक, मानसिक और आध्यात्मिक रूप से विकलांगता की ओर अग्रसर हो रहे हैं। वे अपने व परिवार को समाज में नीचा दिखा रहे हैं। अनुभवी काउंसलरों तथा योग शिक्षकों द्वारा रोगी को मानसिक, आध्यात्मिक, शारीरिक रूप से प्रार्थना व नियमित योग द्वारा रोगी का खोया हुआ आत्म विश्वास फिर से जागृत कर उसे नशे के जाल से निकाला और समाज में स्थापित किया जा सकता है। प्रधानमंत्री ने कहा कि ड्रग्स थ्री डी बुराइयों को लाने वाला है और ये बुराइयां जीवन में डार्कनेस (अंधेरा), डिस्ट्रक्शन (बर्बादी) तथा डिवास्टेशन (तबाही) हैं। उन्होंने कहा कि मुझे लगता है जिनके जीवन में कोई ध्येय नहीं है, लक्ष्य नहीं है, जीवन में एक खालीपन है, वहां ड्रग्स का प्रवेश सरल होता है। ड्रग्स से अगर बचना है और अपने बच्चे को बचाना है, तो उसे ध्येयवादी बनाइए। जीवन में कुछ अलग करने के इरादे वाला बनाइए, बड़े सपने देखने वाला बनाएं। फिर बाकी बेकार तथा नकारात्मक चीजों की तरफ उनका मन ही नहीं लगेगा।

संयुक्त राष्ट्र संघ की इकाई विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा तंबाकू के सेवन को अन्तर्राष्ट्रीय स्तर की एक भयानक समस्या का दर्जा दिया गया है। चरस, गांजा, अफीम, स्मैक की अवैध खेती तथा व्यापक स्तर की तस्करी में विश्व स्तर के कई आतंकवादी संगठन तथा समाज विरोधी तत्व सक्रिय हैं। नशे का आदी बनकर हम अपनी मेहनत से कमाये पैसों से आतंकवादियों तथा असामाजिक तत्वों को फलने-फूलने में अपरोक्ष रूप से मदद करते हैं। इसलिए नशा करने के पहले इस बिन्दू पर अवश्य विचार कर लेना चाहिए। योग और आध्यात्म दोनों ही मनुष्य के तन और मन दोनों को सुन्दर एवं उपयोगी बनाते हैं। योग का मायने हैं जोडऩा। योग मनुष्य की आत्मा को परमात्मा की आत्मा से जोड़ता है। इसलिए हमारा मानना है कि प्रत्येक बच्चे को बचपन से ही योग एवं आध्यात्म की शिक्षा अनिवार्य रूप से दी
जानी चाहिए। सम्पूर्ण स्वास्थ्य के लिए ’योग‘ वर्तमान समय की सारे विश्व की अनिवार्य आवश्यकता है और यह हमारी महान सांस्कृतिक विरासत भी है। नशे की आदत तब पड़ती है जब इंसान का खुद पर आत्म नियंत्रण नहीं रहता। जब इंसान मन तथा इंद्रियों के नियंत्रण में आने लगता है तो नशे की आदत सर पर चढ़ जाती है। इस मानसिक तथा आत्म नियंत्रण को पाने में योग मदद करता है। योग-प्रणायाम तथा ध्यान हमारी मानसिक तथा आध्यात्मिक शक्ति को बढ़ाता है। योग से आत्म नियंत्रण में वृद्धि होने से व्यक्ति की अंदर से किसी भी प्रकार का नशा करने की इच्छा ही नहीं होती है। योग तथा व्यायाम नशे की बुराई को दूर करने में पूरी तरह से सहायक है। बशर्ते दैनिक जीवन में योग को नियमित तौर पर अपनाया जाए। योग को अपनी दिनचर्या में शामिल किया जाए। आज विश्व भर के आधुनिक विद्यालयों के द्वारा बच्चों को एकांकी शिक्षा अर्थात केवल विषयों की भौतिक शिक्षा ही दी जा रही है, जबकि मनुष्य की तीन वास्तविकतायें होती हैं। पहला- मनुष्य एक भौतिक प्राणी है, दूसरा- मनुष्य एक सामाजिक प्राणी है तथा तीसरा मनुष्य- एक आध्यात्मिक प्राणी है। इस प्रकार मनुष्य के जीवन में भौतिकता, सामाजिकता तथा आध्यात्मिकता का संतुलन जरूरी है। हमारा मानना है कि मनुष्य के सम्पूर्ण व्यक्तित्व के विकास के लिए उसे सर्वश्रेष्ठ भौतिक शिक्षा के साथ ही उसे सामाजिक एवं आध्यात्मिक शिक्षा भी देनी चाहिए। इस प्रकार सर्वशक्तिमान परमेश्वर को अर्पित मनुष्य की ओर से की जाने वाली समस्त सम्भव सेवाओं में से सर्वाधिक महान सेवा है- (अ) बच्चों की शिक्षा, (ब) उनके चरित्र का निर्माण तथा (स) उनके हृदय में परमात्मा के प्रति अटूट प्रेम उत्पन्न करना। हमारा अनुभव तथा दृढ़ विश्वास है कि संतुलित शिक्षा प्राप्त बालक जीवन में कभी भी नशे के प्रति किसी भी कीमत पर आकर्षित नहीं हो सकता। एक आंकड़े के अनुसार विश्व में तंबाकू के इस्तेमाल के कारण 70 लाख व्यक्तियों की प्रतिवर्ष मृत्यु हो जाती है। लाखों लोग तंबाकू की खेती और इसके व्यापार से अपनी आजीविका कमाते हैं। ऐसे में स्वाभाविक रूप से यह प्रश्न उठता है कि इस कारण से इस समस्या का हल कैसे संभव है? ऐसे लोगों को दूसरे समाजोपयोगी व्यवसायों में समायोजित करने की योजना दृढ़तापूर्वक बनायी जानी चाहिए। तंबाकू में जिस रसायन की मात्रा सबसे अधिक पायी जाती है वो है निकोटिन। निकोटिन स्वास्थ्य के लिए बहुत ही हानिकारक है।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   31152
 
     
Related Links :-
गले पड़ा नया ट्रैफिक कानून
चांद से हर हाल में होगा मिलन...
हरियाणा में लड़ाई एकतरफा है?
राजीव गांधी : विश्व राजनीति पर गहरी छाप
हांगकांग में गहराता संकट
कश्मीर : खस्ता-हाल पाकिस्तान
हंगामा क्यों है बरपा?
यौन उत्पीडऩ की भयावहता
संसद का गौरव बना रहे
संकल्प लें : पानी बचाएंगे, बिन पानी सब सून...