Breaking News
 
 
समाचार ब्यूरो
01/06/2019  :  08:44 HH:MM
भारत को अमेरिका की चेतावनी रूस से एस-400 प्रणाली खरीदी तो रक्षा संबंधों पर होगा गंभीर असर
Total View  38

वॉशिंगटन अमेरिका के डोनाल्ड ट्रंप प्रशासन ने चेतावनी दी है कि भारत ने यदि रूस से एस-400 मिसाइल रक्षा प्रणाली खरीदने के अपने फैसले की दिशा में कदम आगे बढ़ाया तो भारत-अमेरिका रक्षा संबंधों पर इसका गंभीर असर पड़ेगा। ‘एस-400’ सतह से हवा में लंबी दूरी तक मार करने में सक्षम रूस की अत्याधुनिक मिसाइल रक्षा प्रणाली है।
रूस से इसकी खरीद के लिए 2014 में सबसे पहले चीन ने समझौता किया था. भारत और रूस के बीच इस प्रणाली की खरीद के लिए पिछले साल अक्तूबर में पांच अरब डॉलर का समझौता हुआ था. यह समझौता प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के बीच व्यापक चर्चा के बाद हुआ था। विदेश विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने गुरुवार को संवाददाताओं को बताया कि रूस से एस-400 हवाई रक्षा प्रणाली खरीदने का निर्णय अहम है. उन्होंने इस विचार से असहमति जतायी कि यह कोई बड़ी बात नहीं है. अधिकारी ने इस नजरिये से असहमति जतायी कि रूस से एस-400 प्रणाली खरीदने के भारत के फैसले का तब तक कोई असर नहीं पड़ेगा जब तक वह अमेरिका से अपनी सैन्य खरीद बढ़ाता रहेगा. उन्होंने कहा, मैं असहमत हूं।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   1921356
 
     
Related Links :-
पीएम मोदी का सम्मान: किर्गिस्तान के राष्ट्रपति ने सम्मान में थामा छाता
एससीओ सम्मेलन से पूर्व पीएम मोदी ने की किर्गिस्तान के राष्ट्रपति से भेंट
बिश्केक में होने वाले हैं शंघाई सहयोग संगठन शिखर सम्मेलन अलग-अलग मुद्दों पर मोदी और जिनपिंग की होगी मुलाकात
एयरस्ट्राइक की दहशत में पाकिस्तान ने पीओके में बंद किए 11 आतंकी शिविर
पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति आसिफ जरदारी फर्जी बैंक खाता केस में गिरफ्तार
महात्मा गांधी की 150वीं जयंती पर रियाद में साइकिल रैली का आयोजन
मिसाइल परीक्षणों पर जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे ने कहा उ. कोरिया ने संरा सुरक्षा परिषद के प्रस्तावों का उल्लंघन किया
जी-20 शिखर सम्मेलन में ट्रंप से मिल सकते हैं मोदी
अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ ने पुतिन के साथ बातचीत के बाद कहा उ. कोरिया को लेकर अमेरिका और रूस के लक्ष्य एक समान
अमेरिका और रूस के बीच प्रगाड़ होंगे संबंध