समाचार ब्यूरो
04/06/2019  :  09:08 HH:MM
कैंसर सर्वाइवर्स ने डॉक्टर्स के साथ भंगड़ा डाला
Total View  652

चंडीगढ़ नेशनल कैंसर सर्वाइवर्स दिवस के मौके पर रविवार को सेक्टर 35 स्थित आईएमए भवन में 100 से अधिक कैंसर सर्वाइवर्स ने खूब मनोरंजन और आनंद किया। इस मौके पर मैक्स अस्पताल से डॉ.सचिन गुप्ता, डॉ.सुनंदन शर्मा, डॉ.गौतम गोयल, डॉ. रितेश परूथी, डॉ. पंकज कुमार और डॉ.सजल कक्कड़ सहित अन्य डॉक्टरों ने कैंसर सरवाईवर्स के साथ रैम्प वॉक की और भंगड़ा किया।

संदीप डोगरा, सीनियर वाइस प्रेसिडेंट और जोनल हैड, मैक्स हेल्थकेयर, पंजाब ने कहा कि ‘‘नेशनल कैंसर सर्वाइवर्स डे के इस अवसर पर हम कैंसर से संघर्ष कर इस पर जीत हासिल करने वाले लोगों का सम्मान करने और दुनिया को यह दिखाने के लिए इक_ा हुए हैं कि कैंसर के इलाज के बाद भी जीवन उतना ही आनंदपूर्ण है, जितना उससे पहले था। पिंजौर निवासी 37 वर्षीय सुरभि, जो कि एक कैंसर सर्वाइवर हैं, ने कहा कि ‘‘मेरा इलाज लगभग 9 महीने तक चला जो कि बहुत लंबा था, लेकिन इसने मुझे एक व्यक्ति के रूप में काफी मजबूत बना दिया और अब मैं निडर हूं और किसी भी चुनौती का सामना करने के लिए तैयार हूं, जो जिंदगी मेरे सामने लेकर आएगी। कैंसर के खिलाफ इस संघर्ष यात्रा ने जीवन और व्यक्तित्व के प्रति मेरे दृष्टिकोण को पूरी तरह से बदल दिया और मेरा आत्म विश्वास भी बढ़ा है।इसी तरह, जालंधर की अमृतपाल कौर ने कहा कि ‘‘अब जीवन के कई पहलू मेरे लिए बदल गए हैं, जो कि पहले मेरे साथ चल रहे लोगों के समान ही थे। छोटे छोटे मुद्दों पर अब परेशान होना बंद कर दिया गया है और सबसे महत्वपूर्ण बात, मैंने
अपने आहार, फिटनेस का ध्यान रखना शुरू कर दिया है। और सबसे महत्वपूर्ण बात, मैंने उन चीजों को करना शुरू किया है जो कि मुझे खुशी देते हैं।’’ चंडीगढ़ निवासी लखविंदर ने कहा कि ‘‘कैंसर से लडऩे की मेरी इच्छा पूरी तरह से इलाज के दौरान मुझे अपने परिवार से मिले ह्रश्वयार और समर्थन से मिली। एक सर्वाइवर के तौर पर में, मैं परिवार के प्रत्येक सदस्य से अनुरोध करता हूं कि वे रोगी के आसपास जब भी हों, सकारात्मक, शांत और आशान्वित रहें।’’

कैंसर सर्वाइवर्स को संबोधित करते हुए, डॉ. सचिन गुप्ता, असोसीअट डायरेक्टर, मेडिकल एंड हेमाटो ऑन्कोलॉजी ने कहा कि ‘‘यह हर किसी के लिए एक खास दिन है, फिर चाहे आप कैंसर सर्वाइवर्स हों, उनके परिवार के सदस्य, दोस्त, या मेडिकल प्रोफेशनल हो। यह दिन
कैंसर के इतिहास के साथ रहने वाले सभी लोगों को एक-दूसरे से जुडऩे, सफलता का जश्न मनाने और उन लोगों को पहचानने का अवसर प्रदान करता है, जिन्होंने कैंसर के खिलाफ संघर्ष के रास्ते में उनका साथ किया है।’






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   5245245
 
     
Related Links :-
अब भजन सुनते हुए करा सकते हैं एमआरआई
स्वच्छता गतिविधियों में भाग लेना अपने आप में एक बड़ी पहल है : भटनागर
मोहित मदनलाल ग्रोवर ने किया निशुल्क स्तन कैंसर जांच शिविर का आयोजन
पंजाब के सीएम ने शुरू की आयुष्मान भारत सरबत की सेहत योजना
स्वच्छ सर्वेक्षण ग्रामीण-2019 एप के माध्यम से दे सकते हैं फीडबैक
स्वच्छता हमारी सामूहिक जिम्मेदारी : सुभाष चंद्र
पीजीआई में इलाज न मिलने से मरीजों का बहुत बुरा हाल डॉक्टर्स एनएमसी बिल के विरोध में उतरे हड़ताल पर
जिला बार एसोसिएशन के ऐडवोकेट नें ‘लाइफ सेवर’ ट्रेनिंग में हिस्सा लिया
तीसरा स्वैच्छिक रक्तदान शिविर
आकाश इंस्टीट्यूट के छात्रों और शिक्षकों ने लगाए 324 पौधे