समाचार ब्यूरो
04/06/2019  :  09:14 HH:MM
डॉ. मनीष बैंकर ने कहा धूम्रपान से पड़ता है प्रजनन क्षमता पर दुष्प्रभाव
Total View  661

हिसार स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय के एक सर्वेक्षण से पता चलता है कि 42.4 प्रतिशत पुरुष और 14.2 प्रतिशत महिलाएं धूम्रपान करती हैं। सिगरेट में निकोटीन और कैडमियम होता है, जिसे हम साँस के जरिए जब अंदर लेते हैं, तो यह डीएनए संरचना को नुकसान पहुंचाते हैं। अध्ययनों से पता चलता है कि स्पर्म डीएनए को नुकसान के कारण गर्भावस्था की स्थिति देर से हासिल होती है और बारबार गर्भपात का जोखिम भी हो सकता है।

शुक्राणु की अच्छी गुणवत्ता की कुंजी डीएनए में निहित है, जो खराब हो सकते हैं या क्षतिग्रस्त हो सकते हैं। शरीर में अन्य कोशिकाओं की तरह स्पर्म में कोशिकाओं का इलाज नहीं किया जा सकता है, और इस तरह स्पर्म डीएनए फ्रेगमेन्टेशन की स्थिति आ जाती है, जो पुरुष बांझपन का एक प्रमुख कारण है। जब इस प्रकृति का एक शुक्राणु एक अंडे में निषेचन करता है, तो यूं समझ लीजिए कि गर्भपात के लिए भूमिका तैयार हो रही है। इसके अलावा, गर्भवती महिला अगर सिगरेट का नियमित उपयोग करती है, भले ही यह थोड़ी मात्रा
में हो, पर इससे भ्रूण का विकास अवरुद्ध होता है। भारी धूम्रपान करने वालों के मामले में शुक्राणु विश्लेषण आमतौर पर शुक्राणु के समग्र स्वास्थ्य को समझने के लिए किया जाता है, हालांकि, स्पर्म पैरामीटर्स को समझने के लिए इसके बाद डीएफआई परीक्षण किया जाना चाहिए। हाई डीएफआई के मामलों में, जोड़े असिस्टेड फर्टिलिटी ट्रीटमेंट में बेहतर सफलता के लिए आईसीएसआई (इंट्रासाइटोह्रश्वलास्मिक स्पर्म इंजेक्शन) के साथ मैग्नेटिक- एक्टिवेटेड सैल सॉर्टिंग (एमएसीएस) का विकल्प चुन सकते हैं।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   4560992
 
     
Related Links :-
अब भजन सुनते हुए करा सकते हैं एमआरआई
स्वच्छता गतिविधियों में भाग लेना अपने आप में एक बड़ी पहल है : भटनागर
मोहित मदनलाल ग्रोवर ने किया निशुल्क स्तन कैंसर जांच शिविर का आयोजन
पंजाब के सीएम ने शुरू की आयुष्मान भारत सरबत की सेहत योजना
स्वच्छ सर्वेक्षण ग्रामीण-2019 एप के माध्यम से दे सकते हैं फीडबैक
स्वच्छता हमारी सामूहिक जिम्मेदारी : सुभाष चंद्र
पीजीआई में इलाज न मिलने से मरीजों का बहुत बुरा हाल डॉक्टर्स एनएमसी बिल के विरोध में उतरे हड़ताल पर
जिला बार एसोसिएशन के ऐडवोकेट नें ‘लाइफ सेवर’ ट्रेनिंग में हिस्सा लिया
तीसरा स्वैच्छिक रक्तदान शिविर
आकाश इंस्टीट्यूट के छात्रों और शिक्षकों ने लगाए 324 पौधे