Breaking News
 
 
समाचार ब्यूरो
09/06/2019  :  13:51 HH:MM
धोखाधड़ी कर लाखों रुपए ऐंठने वाले पर पुलिस नहीं कर रही कार्रवाई तीन साल से शिकायत मिलने के बाद भी आरोपी से पूछताछ भी नहीं कर पाई पुलिस
Total View  30

दिल्ली कटवारिया सराय निवासी एक व्यक्ति के खिलाफ कई अलग-अलग मामलों में धोखाधड़ी करके लाखों रुपए ऐंठने, मारपीट, जान से मारने की धमकी जैसे गंभीर मामलों में दिल्ली पुलिस कोई कार्रवाई नहीं कर रही है।

ठगी का शिकार हुए लोग बार-बार पुलिस  अधिकारियों के चक्कर काटने को मजबूर हैं। लेकिन कार्रवाई के बजाय पुलिस शिकायतकर्ता को ही यहां से वहां दौड़ा रही है। मामला बसंत विहार और साकेत थाने से जुड़ा है और दक्षिणी दिल्ली के उच्च पुलिस अधिकारियों के संज्ञान में भी है। धोखाधड़ी के एक मामले में तो दिल्ली पुलिस ने साढ़े तीन साल से ज्यादा का समय बीत जाने के बावजूद आरोपी से पूछताछ करने की भी जरूरत नहीं समझी। कार्रवाई के बजाए शिकायतकर्ता के साथ जांच करने के नाम पर टालमटोल कर रही है।

मामला बेर सराय निवासी सुनील कुमार अग्रवाल, उनकी पत्नी, बेटी व भजनपुरा में रहने वाली उनकी बहन वंदना की शिकायत से जुड़ा है। शिकायतकर्ताओं ने कटवारिया सराय में रह रहे रंजीत त्रिवेदी पर भरोसे में लेकर धोखाधड़ी करने और लाखों रुपये हड़पने का आरोप लगाया है। करीब साढ़े तीन साल पहले 23 दिसंबर 2015 को बसंत विहार थाने में दर्ज कराई गई शिकायत में अग्रवाल ने रंजीत पर आरोप लगाया था कि उसने धोखाधड़ी करते हुए निवेश के नाम पर लाखों रुपए ले लिए और पूरा पैसा हड़प गया। यह रकम 45 लाख के
आसपास बताई जाती है। शिकायतकर्ता का कहना है कि आरोपी ने डीमैट खाता खोलकर उसका पैसा शेयर में लगाने को कहा। लेकिन खाते में मोबाइल नंबर अपना डालकर धोखाधड़ी करता रहा। जब मामला पकड़ में आया तो वह गाली गलौज और धमकी पर उतर आया।
आरोपी रंजीत ने शिकायतकर्ता की बेटी का अपहरण करने और परिजनों के जानमाल की क्षति पहुंचाने की धमकी भी दी। दिसंबर 2015 से शिकायतकर्ता लगातार मामले की जानकारी पुलिस को दे रहा है। लेकिन बदले में उसे सिर्फ आश्वासन मिलता रहा। शिकायतकर्ता
का कहना है कि उसे आर्थिक क्षति के अलावा मानसिक रूप से भी काफी उत्पीडऩ सहना पड़ा है। परिवार के लोग लगातार डर में रहने को मजबूर हैं। हाल में उसने फिर से मामले की शिकायत पुलिस के आला अधिकारियों से की है। 

लेकिन पुलिस ने अभी तक कोई कार्रवाई नहीं की है। आरोप है कि इसी तरह की ठगी आरोपी रंजीत ने भजनपुरा निवासी वंदना गोयल और उनके पति से भी की और प्रोपर्टी में निवेश के नाम पर उनसे 25 लाख रुपये हड़प लिए। इस मामले की प्राथमिकी भी चार अगस्त 2016 को साकेत थाने में दर्ज कराई गई। आरोप के मुताबिक आरोपी ने नोएडा में प्रॉपर्टी के नाम पर एडवांस 25 लाख रुपये लिए। बाद में प्रॉपर्टी दिलाने के बजाय शिकायतकर्ता से मिलने से भी बचने लगा। जब शिकायतकर्ता आरोपी के घर पैसे मांगने गए तो आरोपी उन्हें धमकाने लगा। मामले में सुस्ती से पुलिस की भूमिका पर भी सवाल खड़े हो गए हैं।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   8475659
 
     
Related Links :-
बाल यौन शोषण विषय पर एक कानूनी जागरूकता कैंप
गैरकानूनी सिगरेटें बनाने का केन्द्र बनता जा रहा है एनसीआर
पंथ के बाद ग्रंथ बेचने का सामने आया खुलासा
कठुआ गैंगरेप मामले में १७ माह बाद आया फैसला तीन दोषियों को उम्रकैद और तीन को ५-5 साल की सजा
नौकरी लगवाने के नाम पर ठगी करने के मामले में दो आरोपी गिरफ्तार
सीएम अमरिंदर सिंह ने कड़ी कार्यवाही करने को कहा नशा तस्करों से मिले पुलिस वालों की पहचान करने के निर्देश
हिजबुल की साजिश नाकाम, जासूसी करते छह आतंकी गिरफ्तार
एनआईए अदालत में पेश हुईं प्रज्ञा, कहा-कुछ नहीं जानती
कीटनाशक दवा की दुकानों पर छापे
मुठभेड़ में तीन आतंकी ढेर, इलाके में भडक़ी हिंसा