Breaking News
भाजपा ने महज 10 महीने में कांग्रेस से हथिया ली दो राज्यों की सत्ता   |  अवैध रूप से सीएंडडी वेस्ट डंपिंग करने वालों पर की जा रही है कार्रवाई  |  कोराना (कोविड-19) से स्वच्छता, सतर्कता व जागरुकता ही बचाव : नरेश नरवाल  |  आज का देश की महिलाओं व हमारी बच्ची के लिए ऐतिहासिक दिन है : बजरंग गर्ग  |  कोविड 2019 संक्रमण को फैलने से रोकने के उपायों के बारे में आम जनता को ज्यादा से ज्यादा जागरूक करें : उपायुक्त  |  संदिग्ध मरीजों के लिए गुरुग्राम जिला में 22 आइसोलेटिड वार्ड तथा 4 क्वारंर्टाइन सुविधा बनाई गई  |  स्वयंसेवी संस्थाओं द्वारा संक्रमण से बचने के लिए लोगों को जागरूक किया जा रहा है  |  भाजपा ने प्रदेश पदाधिकारियों तथा प्रदेश मोर्चा अध्यक्षों की घोषणा की   |  
 
 
समाचार ब्यूरो
15/06/2019  :  10:05 HH:MM
चमकी बुखार का कहर, बिहार में 54 बच्चों की मौत
Total View  791

मुजफ्फरपुर चमकी बुखार के कहर से बिहार इन दिनों बेहाल है। मुजफ्फरपुर में संदिग्ध एक्यूट इंसेफलाइटिस सिंड्रोम (एईएस) यानी चमकी बुखार के कारण मरने वाले बच्चों की संख्या 54 हो गई है। मुजफ्फरपुर जिले के श्रीकृष्णा मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल में अभी तक 46 बच्चों की मौत हो चुकी है। वहीं केजरीवाल मातृ सदन (केएमएस) में 8 बच्चों की मौत हो चुकी है। गुरुवार तक कु ल मिलाकर यह आंकड़ा 54 तक पहुंच गया।

इस साल जनवरी से कुल 179 संदिग्ध एईएस मामले सामने आए हैं। इस बीच यह भी सवाल उठने लगे हैं कि कहीं इन बच्चों की मौत के पीछे लीची तो वजह नहीं है? मौतों के कारणों की जांच के लिए स्वास्थ्य विशेषज्ञों की सात सदस्यीय केंद्र सरकार की टीम मुजफ्फपुर में है। बिहार के स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने दावा किया है कि अधिकांश मौतें हाइपोग्लाइसीमिया (शरीर में अचानक शुगर की कमी) के कारण हुई हैं। इसका कारण इस इलाके में चिलचिलाती गर्मी, नमी और बारिश का न होना बताया जा रहा है। पहले की रिपोर्टों
में कुछ स्वास्थ्य विशेषज्ञों ने एईएस के कारण हो रही इन मौतों के पीछे लीची का होना बताया था। कहा जा रहा है कि मुजफ्फरपुर के आस-पास उगाई जाने वाली लीची में कुछ जहरीले तत्व हैं, जो इस बीमारी और मौतों का कारण हैं। गर्मियों के दौरान इस इलाके के गरीब परिवारों से संबंधित बच्चों को आमतौर पर नाश्ते के लिए सुबह से ही लीची खाने को दी जाती है। ऐसा माना जाता है कि यह फल बच्चों में घातक मेटाबॉलिक बीमारी पैदा करता है, जिसे हाइपोग्लाइसीमिया इंसेफेलोपैथी कहा जाता है। लीची में मिथाइल  साइक्लोप्रोपाइल-ग्लाइसिन (एमसीपीजी) नाम का एक केमिकल भी पाया जाता है। जब शरीर में देर तक भूखे रहने और पोषण की कमी के कारण शरीर में शुगर लेवल कम हो जाता है तो यह मस्तिष्क को प्रभावित करता है। बिहार के स्वास्थ्य अधिकारियों ने माता-पिता को सलाह दी है कि वे अपने बच्चों को खाली पेट लीची न खिलाएं और आधा पका हुआ या बिना लीची वाला भोजन ही करें।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   6086338
 
     
Related Links :-
रोटरी हेल्थ कार्निवाल में रोटेरियंस ने हेल्थ के प्रति किया जागरुक
डॉक्टर्स दिवाली की शुभकामनाएं देने मरीजों के घर पहुंच
डॉ.बेदी ने मिनिमली इनवेसिव सर्जरी में नए डेवलपमेंट्स पर गेस्ट लेक्चर दिया
डायबटीज से पीडि़तों के लिए आर्ट एग्जीबिशन
ऑर्थो कैम्प में 60 सीनियर सिटिजन की जांच की गई
रक्त की कमी से होने वाले थैलेसीमिया रोग का जागरुकता शिविर आयोजित
50 सीनियर सिटीजंस ने ‘मीट योअर डॉक्टर्स’ प्रोग्राम में हिस्सा लिया
भारत में कैंसर दूसरा सबसे बड़ा हत्यारा
वल्र्ड मेंटल हेल्थ डे: युवाओं ने खास अंदाज में दिया जागरूकता संदेश
स्तन कैंसर से बचने के लिए जागरूक और सावधान रहना जरूरी