Breaking News
बिहार में बाढ़ का तांडव, 29 लोगों की जान गई  |  भारत का लंबा प्रयास हो रहा निष्प्रभावी अफगानिस्तान-अमेरिका ने शांति वार्ता से भारत को किया अलग  |  गुरुग्राम को हरा भरा और प्रदूषण मुक्त करना सभी की जिम्मेदारी : राव  |  दिल्ली-एनसीआर क्षेत्र में महिलाओं की सुरक्षा को लेकर चर्चा  |  पुलिस आयुक्त मोहम्मद अकिल और उपायुक्त अमित खत्री सम्मानित  |  अशोक सांगवान की अध्यक्षता में गुरुग्राम महानगर विकास प्राधिकरण की बैठक जल भराव संबंधी शिकायतों के लिए बना कंट्रोल रूम  |  हुनरमंद युवा अपनी प्रतिभा के दम पर प्राप्त कर सकेगा रोजगार :बीरपंथी  |  बरसात के बाद जी.टी. रोड पर भरा पानी, राहगीर हुए परेशान  |  
 
 
समाचार ब्यूरो
20/06/2019  :  10:59 HH:MM
इंटरनेशनल योगा डे व वल्र्ड म्यूजिक डे मनाया गया
Total View  693

मोहाली रयात बाहरा यूनिवर्सिटी, मोहाली में बुधवार को इंटरनेशनल योगा डे व वल्र्ड म्यूजिक डे मनाया गया। कार्यक्रम जिसका आयोजन डॉ. दीपक पुरी, सीनियर कार्डियोलॉजिस्ट, आईवी हॉस्पिटल और ग्लोबल चेयरमैन, कार्डियोमर्सन के सहयोग से किया था, शास्त्रीय संगीत और योग सेशन का एक मिश्रण था, जिसमें स्टूडेंट्स और फेकल्टी ने हिस्सा लिया।
डॉ. दलजीत सिंह, वाइस चांसलर, रयात बाहरा यूनिवर्सिटी भी इस कार्यक्रम में उपस्थित थे। इस दौरान डॉ. पुरी ने ‘जीवन शैली से संबंधित बीमारियों के प्रभाव और उन्हें रोकने के आसान तरीके पर एक इंटरएक्टिव सेशन का आयोजन किया। वहीं डॉ. नीना मेहता द्वारा म्यूजिक थैरेपी के लाभ पर एक इंटरएक्टिव सेशन संचालित किया गया। डॉ. तातनिया, एंडोक्रिनोलॉजिस्ट और योग विशेषज्ञ द्वारा योग सेशन आयोजित किया गया। डॉ.पुरी ने इस बात पर प्रकाश डाला कि योग और संगीत हमारे शरीर के भीतर तनाव को दूर करने और सकारात्मक वातावरण उत्पन्न करने में प्रमुख भूमिका निभा सकते हैं। यह कई जीवन शैली की बीमारियों जैसे दिल के दौरे, ब्लड प्रेशर, डिप्रेशन, कैंसर, पीठ दर्द और जोड़ों की समस्याओं को रोकने में मदद कर सकता है। उन्होंने कहा कि पश्चिम में किए गए कई अध्ययनों ने सकारात्मक परिणाम दिखाए हैं लेकिन अलग अलग समय पर रेंडम स्टडीज कर इसमें मेडिकल प्रभाव का अध्ययन करने की आवश्यकता है। डॉ. पुरी ने जोर दिया कि सभी व्यक्तियों विशेषकर युवाओं के शारीरिक, मानसिक और सामाजिक स्वास्थ्य में सुधार के लिए अधिक से अधिक लाभ उठाने के लिए चिकित्सकों और योग के साथसाथ विशेषज्ञ संगीतकारों के बीच सहयोग की आवश्यकता है। डॉ. नीना ने इस मौके पर कहा कि म्यूजिक थैरेपी को आज के सबसे अच्छे वैकल्पिक, गैर-इनवेसिव उपचारों और विभिन्न विकारों के लिए निवारक उपायों के रूप में माना जाता है। उन्होंने कहा कि यह मनोवैज्ञानिक, न्यूरोलॉजिकल और सामाजिक स्वास्थ्य को सकारात्मक रूप से प्रभावित करता है।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   6344006
 
     
Related Links :-
कृति का सपना उर्मिला जैसा मिले कोई रोल
कंगना रनौत ने ‘जजमेंटल है क्या’ में एक आर्टिस्ट की निभाई भूमिका
अब हज़ारों नहीं सिर्फ 1 रुपए में दिखाए अपने डांस का हुनर : शक्ति भारद्वाज
हिमाचल की चांदनी शर्मा का नया पंजाबी गीत रिलीज
जायरा वसीम पर फूट रहा है गुस्सा
अनुपम खेर और ईशा गुप्ता ने किया ‘वन डे: जस्टिस डिलिवर्ड’ का प्रचार
देश में प्रतिवर्ष 1600 हिन्दी फिल्में बनती है: नागपाल
वीवाईआरएल ओरिजिनल्स ने तेरे वास्ते के लॉन्च के साथ अवकाश मान को किया प्रस्तुत
सिंगर विलेन का प्रेरक ट्रैक एक रात यूट्यूब पर हुआ लोकप्रिय
चंडीगढ़ प्रेस क्लब की 40वीं वर्षगांठ पर कार्यक्रमों का सिलसिला शुरू