25/06/2019  :  09:34 HH:MM
महिलाओं में शर्मसार करने वाली बीमारी का बढ़ रहा है प्रकोप
Total View  758

नई दिल्ली महिलाओं में आजकल एक ऐसी बीमारी तेजी से बढ़ रही है जिसके कारण उन्हें अक्सर असहज एवं शर्मसार स्थितियों का सामना करना पड़ता है। ओवर एक्टिव ब्लैडर (ओएबी) नामक इस बीमारी के कारण हंसने, खांसने और छींकने से भी मूत्र त्याग हो जाता है।

वल्र्ड कंटीनेंस सप्ताह के समापन के मौके पर आज मैक्स हेल्थकेयर के यूरोलॉजिस्ट डॉ. विमल दस्सी ने कहा कि कुछ समय से उनके पास इस बीमारी के इलाज के लिए आने वाली महिलाओं की संख्या में तेजी से इजाफा हो रहा है। शर्मनाक स्थितियां पैदा कर देने वाली इस बीमारी की मरीजों में 40 साल के आसापास की उम्र की महिलाएं काफी अधिक हैं। वैसे तो यह समस्या महिलाओं और पुरूषों दोनों में पाई जाती है लेकिन यह समस्या महिलाओं में अधिक है क्योंकि गर्भावस्था एवं प्रसव के दौरान महिलाओं का मूत्राशय प्रभावित होता है और साथ ही साथ महिलाओं में छोटा मूत्रमार्ग होता हैं। इस समयस्या के साथ सामाजिक पहलू यह जुड़ा है कि महिलाओं के लिए हर जगह मूत्रालय या शौचालय नहीं है जबकि हमारे देश में पुरूष सार्वजनिक जगहों पर भी मूत्र त्याग की जगह ढूंढ लेते हैं। शर्मनाक एवं असहज स्थितियां पैदा करने वाली इस समस्या के बारे में दुनिया भर में जागरूकता पैदा करने के लिए 17 जून से 23 जून के बीच वल्र्ड कंटीनेंस सप्ताह मनाया जा रहा है। डॉ. दस्सी ने बताया कि कभी यह बीमारी बुजुर्गों की बीमारी मानी जाती थी लेकिन अब यह कम उम्र में ही हो रही है। अनुमान है कि छह में से तकरीबन एक वयस्क इस बीमारी से प्रभावित हैं और उम्र बढऩे के साथ इसका प्रकोप बढ़ता है। उन्होंने बताया कि कुछ समय पहले उनके पास एक स्कूल की शिक्षिका आई थी जो दिन में 10 से 14 बार मूत्र त्याग के लिए
शौचालय जाती थी। कई मौकों पर क्लास के बीच में ही उन्हें मूत्र त्याग के लिए बाथरूम जाना पड़ जाता था। उस महिला की जांच से पता चला कि ओवर एक्टिर ब्लैडर सिंड्रोम से ग्रस्त हैं।’’






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   4173746
 
     
Related Links :-
रोटरी हेल्थ कार्निवाल में रोटेरियंस ने हेल्थ के प्रति किया जागरुक
डॉक्टर्स दिवाली की शुभकामनाएं देने मरीजों के घर पहुंच
डॉ.बेदी ने मिनिमली इनवेसिव सर्जरी में नए डेवलपमेंट्स पर गेस्ट लेक्चर दिया
डायबटीज से पीडि़तों के लिए आर्ट एग्जीबिशन
ऑर्थो कैम्प में 60 सीनियर सिटिजन की जांच की गई
रक्त की कमी से होने वाले थैलेसीमिया रोग का जागरुकता शिविर आयोजित
50 सीनियर सिटीजंस ने ‘मीट योअर डॉक्टर्स’ प्रोग्राम में हिस्सा लिया
भारत में कैंसर दूसरा सबसे बड़ा हत्यारा
वल्र्ड मेंटल हेल्थ डे: युवाओं ने खास अंदाज में दिया जागरूकता संदेश
स्तन कैंसर से बचने के लिए जागरूक और सावधान रहना जरूरी