Breaking News
पटियाला हार्ट इंस्टीट्यूट को मिला प्रतिष्ठित ‘कायाकल्प अवॉर्ड’  |  हीरो इलेक्ट्रिक ने स्कूटरों की रेंज में आकर्षक ऑफर पेश किया  |  पराली न जलाने वाले प्रगतिशील किसानों के साथ मुख्यमंत्री की हुई बैठक कैह्रश्वटन अमरिन्दर सिंह ने समस्या के लडऩे के लिए मांगा सहयोग  |  भाजपा का चुनावी घोषणा पत्र झूठ का पुलिंदात्न: भूपेन्द्र हुड्डा  |  सरकारी अस्पतालों को ड्रग मुहैया कराने का मामला: स्वास्थ्य मंत्री बलबीर सिंह सिद्धू ने कहा वेयर हाऊस से सीधे तौर पर मिलेगी दवाओं की सह्रश्वलाइ  |  तृष्णा मंडल बनीं मिसेज इंडिया डैजलिंग 2019- 20 की विजेता  |  मंत्री ने इंडो-कैनेडियन अकादमिक प्रतिनिधिमंडल को किया रवाना  |  गांगुली होंगे बीसीसीआई के नए अध्यक्ष  |  
 
 
समाचार ब्यूरो
26/06/2019  :  10:11 HH:MM
एक छत के नीचे गांव विकास की योजनाएं
Total View  771

दूसरी बार सत्ता में आयी देश की नरेन्द्र मोदी सरकार सरकारी विभागों के कामकाज में बदलाव के लिये बड़े कदम उठाने जा रही है। इसी क्रम में देश में गांवों के विकास की योजनाओं को बनाने और इन्हें लागू करने के लिए केन्द्र की मोदी सरकार ने ग्रामीण विकास मंत्रालय और इससे जुड़े सभी विभागों एवं संगठनों का संचालन एक ही जगह से करने का फैसला किया है।

यह काम, मंत्रालय के दिल्ली में बनने वाले नए मुख्यालय के रूप में "ग्रामीण विकास भवन’से किया जायेगा। केन्द्र सरकार की भवन निर्माण एजेंसी, केन्द्रीय लोक निर्माण विभाग (सीपीडब्ल्यूडी) को दिल्ली में कस्तूरबा गांधी मार्ग पर ग्रामीण विकास भवन बनाने की  जिम्मेदारी सौंपी गई है। आगामी जुलाई में इसका निर्माण कार्य शुरू हो जायेगा। कार्ययोजना के मुताबिक लगभग 450 करोड़ की लागत से जुलाई 2021 में बनकर तैयार होने वाले नौ मंजिला ग्रामीण विकास भवन की दीवारें, देश के गांवों की अनूठी सांस्कृतिक विरासत और जीवनशैली की रंगत से दुनिया को रूबरू करायेंगी। अभी ग्रामीण विकास मंत्रालय का कामकाज फिलहाल, सीपीडब्ल्यूडी द्वारा दिल्ली में निर्मित ‘कृषि भवन’ से होता है। कृषि भवन में कृषि मंत्रालय के अलावा ग्रामीण विकास, पंचायती राज और उपभोक्ता मामलों के मंत्रालय सहित अन्य केन्द्रीय विभागों का कामकाज होता है। सीपीडब्ल्यूडी ने हाल ही में पर्यावरण मंत्रालय के मुख्यालय के रूप में विश्वस्तरीय हरित तकनीक पर आधारित इंदिरा पर्यावरण भवन और इससे पहले विदेश मंत्रालय के लिये जवाहर भवन का भी दिल्ली में निर्माण किया था। जबकि ग्रामीण विकास भवन और अक्षय ऊर्जा मंत्रालय के मुख्यालय के रूप में अक्षय ऊर्जा भवन निर्माणाधीन हैं। अंतरराष्ट्रीय मानकों के मुताबिक बन रहे ग्रामीण विकास भवन में, न सिर्फ मंत्रालय का मुख्यालय होगा बल्कि इसमें संबद्ध मंत्रियों से लेकर सभी अधिकारियों, संबद्ध विभागों एवं संगठनों के कार्यालय भी बनाए जा रहे है। जिससे एक ही जगह से गांवों के विकास का रोडमैप तैयार कर इस लागू भी किया जा सकेगा। लगभग 14 हजार वर्ग मीटर क्षेत्रफल में बनने वाले ग्रामीण विकास भवन में राष्ट्रीय और  अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन के लिए भव्य सभागार एवं विभिन्न श्रेणी के मीटिंग रूम की भी व्यवस्था होगी। गांवों के विकास को मोदी सरकार ने सबसे ज्यादा प्राथमिकता देने का फैसला किया है। एक ही छत के नीचे देश के गांवों के विकास की योजनाओं को तैयार कराने की
योजना इस दिशा में एक अहम कदम साबित होगा।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   4513751
 
     
Related Links :-
मास्टर स्ट्रोक के मास्टर पीएम मोदी
हर्ष और उल्लास का प्रतीक है दशहरा
नेतृत्व की कमजोरी, सबकी सीनाजोरी!
पाकिस्तानी पीएम इमरान के तख्तापलट की तैयारी में सेना?
सत्य और अहिंसा का दूसरा नाम था महात्मा गांधी
अब कश्मीर का हाल क्या है ?
नेतृत्व ने किए कई चौंकाने वाले फैसले
आजादी ही जिसकी दुल्हन थी
ट्रंप की नोबेल की चाह
‘हाउडी मोदी’: सदमे में पाकिस्तान