Breaking News
पार्क ह्रश्वलाजा जीरकपुर में अदिरा ईवेंट्स का ‘ट्राइसिटी का करवा चौथ बैश’ संपन्न  |  भारत में कैंसर दूसरा सबसे बड़ा हत्यारा  |  भाजपा की सरकार होते हुए भी कालका ने विपक्ष जैसा शासनकाल सहन किया : प्रदीप चौधरी  |  भाजपा और कांग्रेस में दल बदल करवाने में लगी हुई है होड़ : योगेश्वर शर्मा  |  कांग्रेस ही भारत को न.1 बना सकती है : जैन  |  उनकी सरकार ने कमीशन एजेंटों, बिचोलियों और दलालों की खत्म करने की दिशा में काम किया है: मनोहर लाल बिचोलिये कैंसर के समान घातक है  |  जोनल यूथ फेस्ट में विद्यार्थियों की धूम, लगी पुरस्कारों की झड़ी  |  अलीपुर के पूर्व सरपंच जेजेपी में शामिल, कांग्रेस के गुरविंद्र भी आए  |  
 
 
समाचार ब्यूरो
04/07/2019  :  09:56 HH:MM
एफबीआई ने लंदन की कोर्ट में किया दावा पाकिस्तान में ही रह रहा है अंडरवल्र्ड डॉन दाऊद इब्राहिम
Total View  759

लंदन पाकिस्तान सार्वजनिक मंचों पर अपराधियों और आतंकियों को शरण देने से हमेशा इनकार करता रहा है। अब अमेरिकी जांच एजेंसी एफबीआई ने भी लंदन की एक अदालत में दावा किया है कि उसके पास इस बात के पुख्ता सबूत है कि अंडरवल्र्ड डॉन और आतंकी सरगना दाऊद इब्राहिम पाकिस्तान में ही शरण लिए हुए है।

वह इस समय अपने अंतरराष्ट्रीय अपराध सिंडिकेट को कराची से ही ऑपरेट कर रहा है। दाऊद इब्राहिम के खास सहयोगी जाबिर मोतीवाला के अमेरिका प्रत्यर्पण के ट्रायल के पहले दिन अमेरिका की तरफ से वकील जॉन हार्डी ने कोर्ट में पक्ष रखा। उन्होंने कहा एफबीआई न्यूयॉर्क में डी कं पनी के लिंक की जांच कर रही है। डी कंपनी का नेटवर्क पाकिस्तान, भारत और यूएई में फैला हुआ है। इस कंपनी का प्रमुख दाऊद इब्राहिम है, जो पाकिस्तान में रह रहा है। एफबीआई की तरफ से उसका पक्ष रखते हुए जॉन हार्डी ने कहा दाउद और उसके भाई 1993 में भारत से भागने में सफल रहे थे। पिछले 10 साल में डी-कंपनी ने अमेरिका में भी अपने पैर फैलाने शुरू कर दिए हैं। खास तौर पर मनी लॉन्ड्रिंग और उगाही के काम डी कंपनी अंजाम दे रही है। दाऊद के खास सहयोगी जाबिर मोतीवाला को अमेरिका ले जाकर पूछताछ का मामला लंदन की कोर्ट में चल रहा है। मोतीवाला को लंदन से एफबीआई ने 2018 में अंडरकवर एजेंट के जरिए जाल बिछाकर पकड़ा था। जॉन हार्डी ने मोतीवाला के प्रत्यर्पण की दलील देते हुए कहा एफबीआई जांच से स्पष्ट हुआ है कि मोतीवाला सीधे दाउद को रिपोर्ट करता था। डॉन के इस करीबी सहयोगी का काम उगाही, मनी लॉन्ड्रिंग, वसूली करना था।

अमेरिकी की प्रत्यर्पण अपील के खिलाफ मोतीवाला ने अपील की है। अमेरिकी जांच एजेंसी उसे अमेरिका ले जाकर ड्रग्स ट्रैफिकिंग, मनी लॉन्ड्रिंग और दूसरे अपराधों का ट्रायल शुरू करना चाहती है। मोतीवाला मंगलवार को लंदन कोर्ट में पेश हुआ। उस पर ड्रग्स ट्रैफिकिंग, मनी लॉन्ड्रिंग, उगाही और आतंकवाद के लिए पैसे जुटाने जैसे आरोप हैं। लिएना बेजेंट ने क्राउन प्रॉसिक्यूशन सर्विस का प्रतिनिधित्व करते हुए कहा कि इस बात के प्रमाण हैं कि मोतीवाला की डी-कंपनी चलाने वालों के साथ बैठक हुई थी और वह लगातार कई तरह की आपराधिक गतिविधियों में संलग्न रहा है। जज ने मोतीवाला की जमानत याचिका को खारिज कर विडियो लिंक के जरिए 28 अगस्त की सुनवाई में पेश होने का आदेश दिया है।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   7076607
 
     
Related Links :-
भारत ने संयुक्त राष्ट्र में स्थापित किया गांधी सोलर पार्क
कश्मीर पर सवाल पूछने वाले पाक पत्रकारों पर खीझे ट्रंप, कई बार फटकारा कश्मीर एक जटिल मुद्दा, दोनों पक्ष राजी हों तो मैं हमेशा मध्यस्थता को तैयार: ट्रंप
दिल्ली समेत उत्तर भारत में तेज भूकंप के झटके पीओके में तबाही १९ की मौत, ३०० घायल
क्लाइमेट समिट : पीएम मोदी ने कहा 80 देश भारत की इंटरनेशनल सोलर अलायंस की पहल के साथ जुड
यूरोपीय यूनियन ने पाक को लताड़ा, कहा भारत में आतंकी पड़ोसी मुल्क से आते हैं चांद से नहीं
दुबई में संगतों को 550वें प्रकाश पर्व समागमों में शामिल होने का न्योता
पाकिस्‍तान के दो सैनिकों को भारतीय जवानों ने जवाबी कार्रवाई में मार गिराया सफेद झंडा दिखाकर ले गए शव
यूएनएचआरसी में कुरैशी ने कबूला जम्मू-कश्मीर भारत का राज्य
भारत-फ्रांस को घनिष्टतापूर्वक शांति अग्रदूत के रूप में करना चाहिए काम: नायडू
‘कश्मीर सालिडेरिटी डे’ के पोस्टर दूतावास की दीवारों पर लगाए गए पाक ने तेहरान स्थित दूतावास में लगाए भारत विरोधी पोस्टर