Breaking News
बिहार में बाढ़ का तांडव, 29 लोगों की जान गई  |  भारत का लंबा प्रयास हो रहा निष्प्रभावी अफगानिस्तान-अमेरिका ने शांति वार्ता से भारत को किया अलग  |  गुरुग्राम को हरा भरा और प्रदूषण मुक्त करना सभी की जिम्मेदारी : राव  |  दिल्ली-एनसीआर क्षेत्र में महिलाओं की सुरक्षा को लेकर चर्चा  |  पुलिस आयुक्त मोहम्मद अकिल और उपायुक्त अमित खत्री सम्मानित  |  अशोक सांगवान की अध्यक्षता में गुरुग्राम महानगर विकास प्राधिकरण की बैठक जल भराव संबंधी शिकायतों के लिए बना कंट्रोल रूम  |  हुनरमंद युवा अपनी प्रतिभा के दम पर प्राप्त कर सकेगा रोजगार :बीरपंथी  |  बरसात के बाद जी.टी. रोड पर भरा पानी, राहगीर हुए परेशान  |  
 
 
समाचार ब्यूरो
05/07/2019  :  09:09 HH:MM
2019-20 में जीडीपी ग्रोथ 7 प्रतिशत रहने की उम्मीद
Total View  44

नई दिल्ली वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने गुरुवार को संसद में 2018-19 का आर्थिक सर्वेक्षण पेश किया। इसमें कहा गया है कि आबादी की बढ़ती उम्र को देखते हुए तैयारी करनी होगी। इसके लिए हेल्थकेयर में निवेश बढ़ाने और चरणबद्ध तरीके से रिटायरमेंट की उम्र बढ़ाने की जरूरत है।

राज्यसभा में गुरुवार को पेश आर्थिक सर्वे में ऐसा प्रस्ताव रखा गया है। इसके समर्थन में जर्मनी, अमेरिका, यूके, चीन, जापान सहित कई देशों का उदाहरण भी दिया गया है। रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत में महिला और पुरुषों की जीवन प्रत्याशा लगातार बढ़ रही है। अन्य देशों के अनुभवों के आधार पर पुरुषों और महिलाओं की रिटायरमेंट उम्र में बढ़ोतरी पर विचार हो सकता है। यह पेंशन सिस्टम में व्यावहारिकता बढ़ाने की कुंजी है और यह महिला श्रम बल के पुराने आयु समूह में पेंशन की भागीदारी को बढ़ाएगा। रिटायरमेंट उम्र में वृद्धि अनिवार्य है, इसलिए इस परिवर्तन का एडवांस में संकेत देना आवश्यक है। इससे पेंशन और अन्य रिटायरमेंट प्रावधानों की अग्रिम योजना में मदद मिलेगी। बढ़ती हुई वृद्ध जनसंख्या और पेंशन फंडिंग पर बढ़ते दबाव के कारण बहुत से देशों ने पेंशन योग्य रिटायरमेंट उम्र को बढ़ाना शुरू कर दिया है। आर्थिक सर्वे के मुताबिक मौजूदा वित्त वर्ष (2019-20) में जीडीपी ग्रोथ रेट 7 प्रतिशत रहने की उम्मीद है। यह दर्शाता है कि 2018-19 में धीमापन रहने के बाद अर्थव्यवस्था पटरी पर लौट रही है। 2018-19 में विकास दर 6.8प्रतिशत रही थी। यह 5 साल में सबसे कम है। आर्थिक सर्वे के मुताबिक बीते 5 साल में विकास दर औसत 7.5प्रतिशत रही। बीते वित्त वर्ष (2018-19) में वित्तीय घाटा जीडीपी का 3.4 प्रतिशत रहने का अनुमान बरकरार रखा है। अंतरिम बजट में भी यही अनुमान था। मुख्य आर्थिक सलाहकार कृष्णमूर्ति सुब्रमनियन द्वारा तैयार आर्थिक सर्वेक्षण में कहा गया है कि कॉन्ट्रैक्ट लागू करने और विवादों के निपटारे में पिछडऩा 5 ट्रिलियन डॉलर की इकोनॉमी का लक्ष्य पाने में एक बड़ी चुनौती है। 2025 तक 5 ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था का लक्ष्य हासिल करने के लिए हर साल 8प्रतिशत ग्रोथ की जरूरत है। इसमें खपत और निवेश की अहम भूमिका होगी। मांग, नौकरी, निर्यात और उत्पादकता में एक साथ ग्रोथ के लिए भी निवेश अहम है। निवेश बढ़ेगा तो बेरोजगारी घटेगी। मुख्य आर्थिक सलाहकार कृष्णमूर्ति सुब्रमणियन का यह पहला आर्थिक सर्वेक्षण है। उन्होंने इसे गांधी जी के जंतर से प्रेरित बताया है। गांधी जी ने एक बार अपने साथियों से कहा था कि जो सबसे गरीब आदमी तुमने देखा हो, उसकी शक्ल याद करो और अपने दिल से पूछो कि जो कदम उठाने का तुम विचार कर रहे हो वह उस
आदमी के लिए कितना उपयोगी होगा।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   1497365
 
     
Related Links :-
पंजाब के सुपरस्टार क्रिकेटर मनन वोहरा लेनोवो के नए स्मार्ट बैण्ड कार्डिय
स्टार्टअह्रश्वस और उद्यमियों के लिए ‘द ग्रोथ हैकिंग बुक’ का विमोचन
अदाणी विद्या मंदिर को एसोचैम एजुकेशन एक्‍सिलेंस अवॉर्ड
थॉमस कुक इंडिया ने लॉन्च की अपनी पहली एआई संचालित चैटबॉट टी.सी
पॉवर2एसएमई ने बढ़ाया व्यापार का दायरा. पंजाब में किया विस्तार
फिनो पेमेंट्स बैंक की पंजाब, हरियाणा और हिमाचल में नेटवर्क विस्तार की योजना
बोले मुख्य सचिव केशनी आनंद अरोड़ा मेरी फसल मेरा ब्यौरा स्कीम के तहत रजिस्टे्रशन करवाने वाले किसान को मिलेगे 10 रु. प्रति एकड
मारुति मजदूर संघ साथियों को न्याय दिलाने के लिए करेगा प्रदर्शन
भारत की पहली इलेक्ट्रिक एसयूवी कोना इलेक्ट्रि चंडीगढ़ में लॉन्च
ग्लोबल सिटी 1002 एकड़ भूमि पर होगी विकसित