Breaking News
पटियाला हार्ट इंस्टीट्यूट को मिला प्रतिष्ठित ‘कायाकल्प अवॉर्ड’  |  हीरो इलेक्ट्रिक ने स्कूटरों की रेंज में आकर्षक ऑफर पेश किया  |  पराली न जलाने वाले प्रगतिशील किसानों के साथ मुख्यमंत्री की हुई बैठक कैह्रश्वटन अमरिन्दर सिंह ने समस्या के लडऩे के लिए मांगा सहयोग  |  भाजपा का चुनावी घोषणा पत्र झूठ का पुलिंदात्न: भूपेन्द्र हुड्डा  |  सरकारी अस्पतालों को ड्रग मुहैया कराने का मामला: स्वास्थ्य मंत्री बलबीर सिंह सिद्धू ने कहा वेयर हाऊस से सीधे तौर पर मिलेगी दवाओं की सह्रश्वलाइ  |  तृष्णा मंडल बनीं मिसेज इंडिया डैजलिंग 2019- 20 की विजेता  |  मंत्री ने इंडो-कैनेडियन अकादमिक प्रतिनिधिमंडल को किया रवाना  |  गांगुली होंगे बीसीसीआई के नए अध्यक्ष  |  
 
 
समाचार ब्यूरो
09/07/2019  :  12:55 HH:MM
विश्लेषकों ने कहा शेयर बाजार को रास नहीं आया केंद्रीय बजट
Total View  710

मुंबई केंद्रीय बजट के प्रभाव और अमेरिका में ब्याज में कटौती की संभावनाएं क्षीण होने से वैश्विक शेयर बाजारों में भारी बिकवाली के बीच सोमवार को बीएसई सेंसेक्स 793 अंकों का गोता लगाया. वहीं, नेशनल स्टॉक एक्सचेंज के निफ्टी में भी 250 अंक से अधिक की गिरावट आयी. बंबई शेयर बाजार का 30 शेयरों वाला सेंसेक्स एक समय 907 अंक नीचे चला गया था. हालांकि, बाद में यह थोड़ा सुधरकर 792.82 अंक यानी 2.01 फीसदी की गिरावट के साथ 38,720.57 अंक पर बंद हुआ।

इसी तरह नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 252.55 अंक यानी 2.14 फीसदी टूटकर 11,558.60 अंक पर बंद हुआ। पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) के भूषण पावर एंड स्टील लिमिटेड (बीपीएसएल) को दिये गये ऋण में 3,800 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी सामने आने के बाद पीएनबी के शेयर में 11 फीसदी की गिरावट दर्ज की गयी. बजाज फाइनेंस, ओएनजीसी, एनटीपीसी, हीरो मोटोकॉर्प और मारुति के शेयरों में सबसे अधिक गिरावट देखने को मिली. हालांकि, यस बैंक, एचसीएल टेक और टीसीएस के शेयरों में 5.56 फीसदी तक की बढ़त देखने
को मिली। कारोबारियों के मुताबिक, बजट 2019-20 में सूचीबद्ध कंपनियों के लिए सार्वजनिक हिस्सेदारी बढ़ाने, विदेशी पोर्टफोलियों निवेशकों एवं अमीरों पर कर बढ़ाने वाले प्रस्तावों से निवेशकों की धारणा कमजोर रही. वैश्विक शेयर बाजारों में भारी बिकवाली के समाचारों का भी स्थानीय शेयरों पर असर पड़ा। अमेरिका में रोजगार के ताजा आंकड़े उम्मीद से बेहतर है। इससे आगामी बैठक में अमेरिकी फेडरल रिजर्व द्वारा ब्याज में बड़ी कटौती की उम्मीद धूमिल हो गयी है। अमेरिका में ब्याज दर ऊंची होने से विदेशी निवेशक उभरते बाजारों से
धन निकाल कर अमेरिकी बॉन्ड बाजार में लगाने को आकर्षित हो सकते हैं. खासकर, इसका चीन, दक्षिण कोरिया और अन्य एशियाई बाजारों पर असर पड़ा. एशियाई बाजारों में उल्लेखनीय गिरावट दर्ज की गयी. शंघाई कंपोजिट इंडेक्स 2.58 फीसदी, हैंगसेंग 1.54 फीसदी, निक्की 0.98 फीसदी और कोस्पी 2.20 फीसदी की गिरावट के साथ बंद हुए।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   5973671
 
     
Related Links :-
हीरो इलेक्ट्रिक ने स्कूटरों की रेंज में आकर्षक ऑफर पेश किया
टाटा मोटर्स ने ग्राहक संवाद कार्यक्रम और सर्विस कैम्‍पेन की घोषणा की
उपभोक्ताओं की मांग पर पारले प्रोडक्टस वापस लाए रोला कोला
पैनासोनिक ने की 16 नए आउटलेट्स खोलने की घोषणा
बुनियादी असुविधाएं बन रहीं महिला व्यापारियों के लिए बेडिय़ा
एफबीबी ने नए अभियान ‘एफ बीबी हैज इट ऑल’ का ऐलान किया
रूपीक गोल्ड लोन्स अब दिल्ली में भी हुआ लॉन्च
पैनासोनिक ने दिल्ली और हरियाणा में 16 आउटलेट्स का किया उद्घाटन
नए कैम्पेन का लक्ष्य एथनिक स्‍नैक्‍स को युवाओं के लिए कूल बनाना है
आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल लाइफ ने एयरटेल पेमेंट्स बैंक को बनाया पार्टनर