समाचार ब्यूरो
16/07/2019  :  09:46 HH:MM
गुरुग्राम को हरा भरा और प्रदूषण मुक्त करना सभी की जिम्मेदारी : राव
Total View  663

गुरुग्राम हरियाणा के वन मंत्री राव नरबीर सिंह ने आज कहा कि गुरुग्राम शहर को हरा-भरा करना सभी की जिम्मेदारी है और यह कार्य अकेले सरकार नहीं कर सकती। उन्होंने कहा कि गुरुग्राम में सिटी फॉरेस्ट विकसित किया जाएगा, जैसा कि पूरे एनसीआर में कहीं नहीं होगा और इसकी जगह की घोषणा 15 अगस्त से पहले कर दी जाएगी।

राव नरबीर सिंह आज गुरुग्राम के स्वतंत्रता सेनानी जिला परिषद हॉल में वन विभाग द्वारा आयोजित ग्राम पंचायतों तथा आरडब्लूए प्रतिनिधियों के सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने वहां नजदीक ही पौधा लगाकर सभी लोगों को इस बरसात के मौसम में पौधे
लगाने व उनकी देखभाल करने का आह्वान किया। इस वर्ष प्रदेश में वन विभाग का एक करोड़ पौधे लगाने का लक्ष्य है जिसमें से लगभग दो लाख पौधे अकेले गुरुग्राम में लगाए जाएंगे। साथ ही राव नरबीर सिंह ने कहा कि एनसीआर क्षेत्र में गुरुग्राम सबसे प्रदूषित शहर है, लेकिन जब तक आम आदमी की सहभागिता नहीं होगी तब तक गुरुग्राम हरा भरा नहीं हो सकता। आज हम सभी मन बनाएं कि गुरुग्राम को सुंदर और प्रदूषण मुक्त बनाएंगे। इसके लिए सभी नागरिक जिम्मेदारी लेकर पौधे लगवाए, उनका बच्चों की तरह पालन पोषण
करें और पॉलिथीन का प्रयोग बंद करें तथा जितना हो सके पानी की बचत करें। इसे अपना धर्म, कर्म और कर्तव्य समझे। उन्होंने कहा कि यह हमारे अपने बच्चों के भविष्य के लिए जरूरी है, इसलिए अभी से सचेत हो जाएं। गुरुग्राम हिंदुस्तान का अग्रणी जिला है और पूरे देश की निगाहें हमारी तरफ है, हम गुरुग्राम को ऐसा शहर बनाएं कि यह देश में उदाहरण बने।राव नरबीर सिंह ने कहा कि हम अपने बेटा-बेटी के जन्मदिन पर, शादी की सालगिरह पर, बुजुर्गों की पुण्यतिथि आदि के अवसरों पर पौधे लगाकर उस याद को चिर स्थाई कर
सकते हैं। उन्होंने कहा कि पिछले वर्ष से राज्य सरकार ने स्कूलों के छठी से बारहवीं तक के हर बच्चे से पौधा लगवाने का पौधागिरी कार्यक्रम शुरू किया और पौधे दिए भी गए परंतु क्या किसी ने यह देखा कि उनमें से कितने पौधे लगे और कितने जीवित रहे। कोई तो जिम्मेदारी ले, यह सभी का सामाजिक दायित्व है। वन मंत्री ने कहा कि गुरुग्राम में विभिन्न कंपनियां, रिहायशी सोसायटी तथा रेजिडेंट वेलफेयर एसोसिएशन अपने नजदीक सडक़ के स्ट्रेच के साथ ग्रीन बेल्ट विकसित करने तथा पौधे लगाने के लिए गुरुग्राम महानगर विकास प्राधिकरण (जीएमडीए) के साथ एमओयू साइन कर सकते हैं। इनमें कोशिश करें कि सीवरेज ट्रीटमेंट ह्रश्वलांट का ट्रीटेड पानी ही सिंचाई के लिए प्रयोग हो। जिला के गांव घामडोज में लगभग 40 एकड़ भूमि पर बंध बनाकर पानी की स्टोरेज की जाएगी। शनिवार को ही ऐसी जगहों की पहचान के लिए उन्होंने मुख्यमंत्री मनोहर लाल के साथ हवाई सर्वेक्षण किया, जिला में ढलान वाले क्षेत्रों में झील विकसित करने की संभावनाओं पर विचार किया जा रहा है। इससे पहले, गुरु जल प्रोजेक्ट से सुबी ने जल शक्ति अभियान के अंतर्गत जिला में चलाई
जाने वाली गतिविधियों की विस्तार से जानकारी दी और बताया कि गुरु जल टीम द्वारा जिला में 30 जलाशयों की पहचान की गई है जिन्हें विकसित करके उनमें पानी का भंडारण किया जाएगा तथा जल संचय के प्रयास किए जाएंगे।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   388217
 
     
Related Links :-
चंडीगढ़ में होने वाले छात्र संघ चुनाव को लेकर इनसो ने बनाई रणनीति
चौधरी देवी लाल का जन्म दिवस पर सम्मान दिवस
दूसरे दलों में रहते हुए भी हमारे घनिष्ठ थे अरुण जेटली: मुलायम
पूर्व पीएम मनमोहन ने जेटली को दी श्रद्धांजलि
संयुक्त राष्ट्र से वापस लिया जाएगा गुलाम कश्मीर पर दिया प्रस्ताव : स्वामी
कैह्रश्वटन अमरिन्दर सिंह द्वारा अरुण जेतली के निधन पर दुख व्यक्त
पटेल के अधूरे सपने को पीएम ने पूरा किया : शाह
पीएम मोदी की रूस यात्रा की तैयारी को लेकर 27 को मास्को जाएंगे जयशंकर
अब पूरे देश में एक कानून लागू होगा : राजनाथ सिंह
नहीं रहे पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली