23/07/2019  :  10:59 HH:MM
राज्यमंत्री मनीष ग्रोवर ने दिए निर्देश सभी सहकारी समितियां अपना सारा रिकॉर्ड ऑनलाइन करे
Total View  752

चंडीगढ़ हरियाणा के सहकारिता राज्य मंत्री मनीष कुमार ग्रोवर ने कहा कि राज्य की सभी सहकारी समितियों को अपना रिकॉर्ड ऑनलाइन करने के लिए निर्देश दिए गए हैं और रिकॉर्ड ऑनलाईन अपलोड होने के बाद सहकारी समितियों व विभाग की कार्यप्रणाली में पारदर्शिता आएगी तथा समिति के विवादों में कमी होगी। इसके अलावा, उन्होंने कहा कि संभावना है कि आगामी 15 अगस्त, 2019 तक सभी समितियों का डाटा अपलोड कर लिया जाएगा और इस निश्चित तिथि के उपरांत किसी भी समिति का मैम्बरशिप स्थानातंरण ऑनलाइन ही किया जाएगा।
यह जानकारी सोमवार को यहां देते हुए ग्रोवर ने बताया कि सहकारिता विभाग में वर्तमान में लगभग 18200 सहकारी समितियां पंजीकृत हैं जिसमें से 10500 कार्य कर रही है और जिनमें से मुख्यत: सहकारी ऋण एवं सेवा समितियां (पैक्स), श्रम एवं निर्माण समितियां, ग्रुप हाऊसिंग समितियां, हाऊस बिल्डिंग समितियां व परिवहन समितियां शामिल हैं। उन्होंने कहा कि विभाग ने पहले ही सहकारी समितियों का पंजीकरण ऑनलाइन करना शुरू कर दिया है, अब विभाग में कोई भी सहकारी समिति मैन्यूअली पंजीकृत नहीं की जा रही है और विभाग द्वारा सभी सहकारी समितियों को निर्देश दिए गए हैं कि वे अपनी समिति से संबंधित रिकार्ड व जानकारी विभाग के वेब पोर्टल द्धह्लह्लश्च://ह्म्ष्ह्यद्धड्डह्म्4ड्डठ्ठड्ड.द्दश1.द्बठ्ठ पर अपलोड करें जिसके लिए सभी सहकारी समितियों को युजरनेम व पासवर्ड दिए जा चुके हैं। उन्होंने बताया कि प्राथमिकता के तौर पर राज्य की सभी गु्रप हाऊसिंग सोसायटी व हाऊस बिल्डिंग सोसायटी का डाटा अपलोड किया जा रहा है जो लगभग 1200 हैं और जिनमें से अभी तक लगभग 400 ग्रुप हाऊसिंग सोसायटी व हाऊस बिल्डिंग सोसायटी का डाटा विभाग के पोर्टल पर अपलोड किया जा चुका है। उन्होंने बताया कि पोर्टल पर मुख्यत: सहकारी समिति का नाम, पंजीकरण संख्या व तिथि, समिति के सदस्यों की संख्या, समिति के चुनाव व पदाधिकारियों की विस्तृत जानकारी, समितियों को जमीन कब अलाट हुई, कब्जा व दखल प्रमाण पत्र की तिथि, समिति की पिछली आडिट की तिथि, समितियों के भवन योजना की स्वीकृति, समिति में कौन सा ह्रश्वलाट व फलैट किस सदस्य के नाम पर है तथा रहन, समिति के देनदारियों का ब्यौरा मुख्य रूप से शामिल है। ग्रोवर ने बताया कि जानकारी अपलोड होने के बाद सहकारी समितियों व विभाग की कार्यप्रणाली में पारदर्शिता आएगी और समिति के विवादों में कमी होगी। उन्होंने बताया कि कोई भी नागरिक जो इन समितियों में ह्रश्वलाट व फलैट लेना चाहता है तो वह ऑनलाईन विभाग के पोर्टल के माध्यम से मूलभूत जानकारी सोसायटी के बारे में ले सकता है। उन्होंने सभी सोसायटियों के पदाधिकारियों से आग्रह भी किया है कि वे सोसायटियों के ऑनलाइन डाटा कार्य को सफल करने के लिए अपना सहयोग प्रदान करें।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   9210783
 
     
Related Links :-
सिंडिकेट बैंक के 94वें स्थापना दिवस के उपलक्ष्य पर रक्तदान शिविर का आयोजन
मंडी में किसानों को अपनी धान बेचने के लिए खाने पड़ रहे हैं धक्के
विद्युत उत्पादन निगम को 16वें नेशनल अवार्ड फॉर एक्सीलेंस इन कोस्ट मैनेजमैंट-2018 में प्रथम स्थान प्राप्त हुआ
गुरुनानक देव का प्रकाश पर्व: एयर इंडिया ने विमान पर ‘एक ओंकार’ का चिह्न बनाया
निसान ने टोक्यो मोटर शो में आरिया कॉन्सेह्रश्वट का अनावरण किया
येस बैंक ने मलोट में खोली नई शाखा
किसानों को बागवानी की खेती के लिए प्रोत्साहित किया जा रहा है
जिला में आतिशबाजी की बिक्री के लिए स्थान निर्धारत किए
फ न्र्स एन पेटल्स हरियाणा में बढ़ा रही है अपना नेटवर्क
येस बैंक ने एमईआईटीवाई स्टार्टअप समिट में जीता डिजिटल पेमेंट्स अवॉर्ड