02/08/2019  :  09:51 HH:MM
पानीपत औद्योगिक क्षेत्र के साथ-साथ हैण्डलूम के रूप में भी जाना जाता है : गोयल
Total View  758

पानीपत प्रदेश के उद्योग, वाणिज्य, पर्यावरण, जलवायु परिवर्तन, कौशल विकास एवं औद्योगिक प्रशिक्षण मंत्री विपुल गोयल ने वीरवार को स्थानीय जिमखाना कल्ब में पानीपत डायर्स एसोशिएशन की ओर से आयोजित कार्यक्रम में बोलते हुए कहा कि भारत के मानचित्र पर पानीपत का नाम औद्योगिक क्षेत्र के साथ-साथ हैण्डलूम के रूप में भी जाना जाता है।

पानीपत के औद्योगिक क्षेत्र के विकास कार्यों के लिए 128 करोड़ रुपये औद्योगिक विभाग की ओर से दिए गए हैं। जिनमें सीवरेज, सडक़ इत्यादि कार्यो पर खर्च किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि विगत 1 फरवरी 2017 से एक ही छत के नीचे औद्योगिक क्षेत्रों की अनापत्ति प्रमाण पत्र देने का कार्य किया जा रहा है। ऑनलाइन 72 प्रकार की एनओसी 45 दिनों में जारी कर दी जाती है। यदि 45 दिनों में किसी औद्योगिक संस्थान को एनओसी नही मिलती तो उसे डिम्ड टू क्लीयर माना जाता है। पिछली केबिनेट में औद्योगिक संस्थानों के लिए यह भी फैसला लिया गया कि नई इंडीस्ट्री लगाने के साथ-साथ पुरानी इंडीस्ट्री के नवीनिकरण को भी ऑनलाइन दिया जाएगा। यह सब इंस्पेक्ट्री राज को खत्म करने और भ्रष्टाचार को समाप्त करने के लिए किया गया है ताकि पारदर्शिता बनी रहे। किसी भी इंस्पेक्टर को किसी औद्योगिक संस्थान में जाने से पहले अपने विभागाध्यक्ष से अनुमति लेनी होगी। औद्योगिक क्षेत्र में पिछले चार सालों में इतना काम हुआ है कि इज ऑफ डूईंग बिजनेस के मामले में हरियाणा प्रदेश 14वें स्थान से 3 स्थान पर आ गया है। यही नही निजि क्षेत्र में नए- नए औद्योगिक संस्थानों के माध्यम से 4 लाख नौकरियां समायोजित की गई हैं।

उन्होंने कहा कि सभी औद्योगिक संस्थान पानी बचाने और पौधे लगाने की मुहिम को आगे बढ़ाए। जल की बहुत ही ज्वलन समस्या है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने स्वयं इसके लिए पहल की है। पूरे देश के 234 जिले डार्क जोन में है जिनमें से हरियाणा के भी 18 जिले और
पानीपत जिला के 2 ब्लॉक डार्क जोन में है। इसके लिए जल शक्ति मंत्रालय के अधिकारी इन जिलों में दौरा कर रिपोर्ट तैयार कर रहे हैं। प्रदेश सरकार भी इसके लिए किसानों को धान की जगह दूसरी फसलों को उगाने के लिए प्रोत्साहित कर रही है लेकिन इसमें आमजन की सहभागिता बहुत ही जरूरी है। पर्यावरण, पानी की समस्या से निजात पाने के लिए ज्यादा से ज्यादा पौधारोपण करें। आप दो कदम चले तो प्रदेश सरकार आपके साथ चार कदम चलेगी। पानीपत ग्रामीण विधायक महिपाल ढांडा ने कहा कि यह पहली बार हो रहा है कि पानीपत के लिए 128 करोड़ रुपये की धनराशि औद्योगिक क्षेत्र के लिए खर्च की जा रही है। उन्होंने उद्योगपतियों से जुड़ी समस्याओं को भी मंत्री विपुल गोयल के समक्ष रखते हुए कहा कि जल बोर्ड का गठन भी प्रदेश में करवाए और इस मामले को विधानसभा में भी रखें। पानीपत शहरी विधायक रोहिता रेवड़ी ने कार्यक्रम में पधारने पर मंत्री विपुल गोयल का स्वागत करते हुए कहा कि इन आधारभूत सुविधाओं से औद्योगिक संस्थानों का मनोबल बढ़ेगा और उनकी समस्याएं दूर होगी।

इसके बाद उद्योग मंत्री विपुल गोयल ने पुरानी कचहरी के पास महाराजा हेमचन्द्र विक्रमादित्य चौक पर लगभग 17 करोड़ की लागत से बनने वाली सडक़ की आधारशिला रखी और कहा कि बेहतर यातायात के साधान और सडक़ें देश की आर्थिक स्थिति को बेहतर बनाने के स्तम्भ हैं। इसलिए सरकार औद्योगिक विकास के साथ-साथ ढाचागत विकास पर भी जोर दे रही है। यहां पर पंडित जलेश शर्मा ने पूरी विधि विधान के साथ आधारशीला रखवाई। उद्योग मंत्री ने महाराजा हेचन्द्र विक्रमादित्य की प्रतिमा पर माल्यार्पण भी किया। भाजपा के जिला अध्यक्ष प्रमोद विज ने बिजली और एनजीटी से सम्बंधित मामलों की पैरवी करते हुए उद्योग मंत्री को इन समस्याओं से अवगत करवाया। इस मौके पर वरिष्ठ भाजपा नेता सुरेन्द्र रेवड़ी, डायर्स एसोशिएसन के प्रधान भीम राणा, हरचरण सिंह धामू इत्यादि मौजूद थे। उद्योग मंत्री विपुल गोयल ने जिमखाना कल्ब में सैक्टर-29 पार्ट 2 की सडक़ों, नहरी पानी, सीवरेज व बरसाती पानी की लाईनों का नवीनिकरण के कार्य का लोकापर्ण भी किया।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   4091082
 
     
Related Links :-
सिंडिकेट बैंक के 94वें स्थापना दिवस के उपलक्ष्य पर रक्तदान शिविर का आयोजन
मंडी में किसानों को अपनी धान बेचने के लिए खाने पड़ रहे हैं धक्के
विद्युत उत्पादन निगम को 16वें नेशनल अवार्ड फॉर एक्सीलेंस इन कोस्ट मैनेजमैंट-2018 में प्रथम स्थान प्राप्त हुआ
गुरुनानक देव का प्रकाश पर्व: एयर इंडिया ने विमान पर ‘एक ओंकार’ का चिह्न बनाया
निसान ने टोक्यो मोटर शो में आरिया कॉन्सेह्रश्वट का अनावरण किया
येस बैंक ने मलोट में खोली नई शाखा
किसानों को बागवानी की खेती के लिए प्रोत्साहित किया जा रहा है
जिला में आतिशबाजी की बिक्री के लिए स्थान निर्धारत किए
फ न्र्स एन पेटल्स हरियाणा में बढ़ा रही है अपना नेटवर्क
येस बैंक ने एमईआईटीवाई स्टार्टअप समिट में जीता डिजिटल पेमेंट्स अवॉर्ड