समाचार ब्यूरो
08/08/2019  :  09:08 HH:MM
आढ़तियों को खरीद प्रक्रिया से अलग नहीं किया जायेगा : अमरिन्दर
Total View  670

चंडीगढ़ पंजाब के मुख्यमंत्री कैह्रश्वटन अमरिन्दर सिंह ने आढ़तियों की श्ंाकाओं को दूर करते हुए कहा कि उनको खरीद प्रणाली से अलग नहीं किया जायेगा। इसके साथ ही उन्होंने आढ़तियों को भरोसा दिया कि केंद्र द्वारा तय प्रक्रिया के मुताबिक राज्य में सार्वजनिक वित्तीय प्रबंधन प्रणाली (पी.एफ.एम.एस) को निर्विघ्न ढंग से अमल में लाने के लिए राज्य सरकार पूर्ण रूप से सहयोग करेगी।

आज यहाँ किसान भवन में आढ़तियों के संगठन फेडरेशन ऑफ आढ़ती एसोसिएशन द्वारा करवाए एक समागम को संबोधन करते हुए मुख्यमंत्री ने स्पष्ट किया कि केंद्रीय भंडार के लिए गेहूँ और धान की खरीद प्रक्रिया से आढ़तियों को बाहर करने संबंधी ए.पी.एम.सी. एक्ट में कोई संशोधन नहीं किया जायेगा। उन्होंने भरोसा दिया कि किसानों के आढ़तियों के साथ बहुत पुराने सम्बन्ध हैं और राज्य सरकार किसानों को आढ़तियों के द्वारा फसल की अदायगी करने की प्रक्रिया बरकरार रखेगी।कैह्रश्वटन अमरिन्दर सिंह ने आढ़तियों की तरफ से पी.एफ.एम.एस. विधि को अपनाने के किये फैसले पर भी संतोष ज़ाहिर किया क्योंकि इसको अमल में न लाने के कारण भारत सरकार ने राज्य सरकार की 1000 करोड़ रुपए की अदायगी रोकी हुई है। उन्होंने कहा कि वित्तीय संकट से जूझ रहा राज्य इस रकम के जारी होने में और देरी नहीं सह सकता और इसमें आढ़तियों को अदा किये जा चुके 500 करोड़ रुपए की राशि भी शामिल है। मुख्यमंत्री ने राज्य की खरीद एजेंसियों और मंडी बोर्ड को पी.एफ.एम.एस. सॉफ्टवेयर को बरतने का प्रशिक्षण देने के हुक्म देते हुए किसानों के बैंक खातों को पी.एफ.एम.एस. पर अपलोड करने और आढ़तियों के बैंक खातों के साथ लिंक करने में भी सहायता करने के लिए कहा। अनाज की निर्विघ्न खरीद को यकीनी बनाने के लिए राज्य सरकार की वचनबद्धता को दोहराते हुए कैह्रश्वटन अमरिन्दर सिंह ने कहा कि इस प्रणाली से किसानों और आढ़तियों को बहुत फायदा हुआ है क्योंकि इससे भ्रष्ट प्रचलनों पर रोक लगी है जो अकालियों के शासन के दौरान खरीद कार्यों के समय होते थे।मुख्यमंत्री ने कहा कि अकालियों की सरकार के दौरान नगद कजऱ् सीमा (सी.सी.एल.) खरीद सीजन के अंत में जारी होती थी जबकि उनकी सरकार आने के बाद इसका बंदोबस्त खरीद शुरू होने से भी पहले कर लिया जाता है। उन्होंने कहा कि अनाज की समय पर अदायगी और ढुलाई को यकीनी बनाने में आढ़तियों से सहयोग मिलता है। कैह्रश्वटन अमरिन्दर सिंह ने बताया कि पिछले पाँच खरीद सीजऩों के दौरान किसानों को गेहूँ और धान की फसलों की बिक्री से 1.24 लाख करोड़ रुपए की कमाई हुई है जबकि अकालियों की सरकार होते हुए इस समय के दौरान किसानों को इन फसलों से 94,200 करोड़ रुपए की कमाई हुई थी। उन्होंने कहा कि इससे कांग्रेस सरकार के सत्ता में आने के बाद किसानों की आय में 32 प्रतिशत का इजाफा हुआ है। मुख्यमंत्री ने आगे बताया कि उनकी सरकार के सत्ता संभालने के बाद से आढ़तियों को कमिशन के रूप में 3100 करोड़ रुपए की आय हुई है जबकि अकाली सरकार के दौरान उनको सिर्फ
2356 करोड़ रुपए की आय हुई थी जो अब 32 प्रतिशत अधिक बनती है। इस मौके पर खाद्य और सिविल स्पलाईज़ मंत्री भारत भूषण आशु, स्कूल शिक्षा और लोक निर्माण मंत्री विजय इंदर सिंगला, राजस्व मंत्री गुरप्रीत सिंह कांगड़, मुख्यमंत्री के मीडिया सलाहकार रवीन ठुकराल, पंजाब मंडी बोर्ड के चेयरमैन लाल सिंह, पनसप के चेयरमैन तेजिन्दर सिंह बिट्टू, फतेहगड़ साहिब से विधायक कुलजीत सिंह नागरा, प्रमुख सचिव खाद्य और सिविल सह्रश्वलाईज़ के.ए.पी. सिन्हा, मुख्यमंत्री के विशेष प्रमुख सचिव गुरकिरत किरपाल सिंह, खाद्य और सिविल सह्रश्वलाईज़ के डायरैक्टर अनिन्दिता मित्रा और मंडी बोर्ड के सचिव धर्मपाल गुप्ता उपस्थित थे। इस मौके पर कैह्रश्वटन अमरिन्दर सिंह के पुत्र रणइन्दर सिंह भी मौजूद थे।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   6812701
 
     
Related Links :-
ट्रांसपोर्ट माफिया के दबाव में बढ़ाया कैह्रश्वटन सरकार ने बस किराया : कौर
तनिष्क के सहभागी-कैरेटलेन अब पश्चिम विहार में
विदेशी और घरेलू निवेशकों पर सरचार्ज में बढ़ोतरी वापस ली
जना स्मॉल फ ाइनेंस बैंक ने रोहतक में खोली नई शाखा
किया मोटर्स ने भारत में लॉन्च की स्‍टाइलिश बोल्‍ड एसयूवी सेल्टोस
बैंकरों का गुरुग्राम में दो दिवसीय कार्यक्रम
सौ साल पुराने सदर बाजार के व्यापारियों की समस्याएं होंगी दूर : नवीन गोयल
मारुति उद्योग कामगार यूनियन प्रतिनिधिमंडल जापान दौरे पर
ट्रैफिक चालान के लिए खरीदी जाएंगी ई-चालान मशीनें :रजिया सुल्ताना
सौरव गांगुली के साथ ब्राण्ड कैम्पेन ‘‘शाइन ऑन’’ शुरू