Breaking News
पाकिस्‍तान के दो सैनिकों को भारतीय जवानों ने जवाबी कार्रवाई में मार गिराया सफेद झंडा दिखाकर ले गए शव  |  टोरंटो स्थित रॉय थॉमसन हॉल में आयोजित टोरंटो इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल 2019 के दौरान अपनी फिल्म द स्काई इज पिंक के प्रीमियर में फरहान अख्तर, सोनाली बोस एवं प्रियंका चोपड़ा जोनस शिरकत करते हुए।  |  बागी 3 में वापस आई श्रद्धा कपूर  |  गुरुग्राम विवि का मलेशिया की एआईएमएसटी के साथ एमओयू  |  ब्राह्मण समाज के बाद पंजाबी समाज ने विधायक अग्रवाल को दिया आशीर्वाद  |  सीग्राम के रॉयल स्टैग ने बुमराह को बनाया ब्रांड एंबेसेडर  |  सलवान पब्लिक स्कूल ने उत्साह के साथ मनाया हिंदी दिवस  |  समाजसेवी नवीन गोयल हर एक रेहड़ी वाले को देंगे डस्टबिन मिलेनियम सिटी की सडक़ों पर नजर नहीं आएंगे फलों के छिलके और गंदगी  |  
 
 
समाचार ब्यूरो
11/09/2019  :  11:42 HH:MM
गुरुग्राम विवि में मनाया गया विश्व फिजियोथेरेपी दिवस
Total View  17

गुरुग्राम विश्व फिजियोथेरेपी दिवस के अवसर पर गुरुग्राम विश्वविद्यालय में कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में गुरुग्राम विश्वविद्यालय के माननीय कुलपति डॉ मार्कण्डेय आहूजा जी बतौर मुख्य अतिथि शामिल रहे। धर्मशीला नारायणा हॉस्पिटल, गुरुग्राम के चीफ फिजियोथेरेपिस्ट डॉ जया प्रकाश जयावेलू भी मुख्यअतिथि के तौर पर कार्यक्रम में मौजूद रहे। कार्यक्रम की शुरूआत दीप प्रवज्जलन के साथ हुई।
कार्यक्रम में फीजियोथेरेपी विभाग के सभी छात्र-छात्राएं मौजूद रहे। फिजियोथेरेपिस्ट डॉ जया प्रकाश जयावेलू ने छात्रों को संबोधित करते हुए कहा कि एक फिजियोथेरेपिस्ट के तौर पर काम करने के लिये सबसे जरूरी है कि आपका एटिट्यूड कैसा है क्योंकि सबसे महत्वपूर्ण यही है कि आप अपने काम के प्रति दृष्टिकोण कैसा रखते है। आपको ना सिर्फ फिजियोथेरेपी की बल्कि इससे जूड़ी सभी शाखाओं की जानकारी होना जरूरी है। तभी आप अपने मरीज को भरोसा दिला पाओगे कि आप उनके लिये क्यों बेहतर है। साथ ही उन्होंने छात्रों की रूचि देखते हुए अपने अस्पताल में विजिट के लिये भी कहा। साथ ही छात्रों के बेहतर भविष्य की कामना करते हुए उन्हें इंटर्नशिप के लिये भी ऑफर किया। वहीं, माननीय कुलपति डॉ मार्कण्डेय आहूजा जी ने कहा कि फिजियो अपने आप में ही जीवन की परिभाषा है आप अपने काम के प्रति ईमानदार रहे, काम करने का जूनुन हो तभी आपको सफलता हासिल होगी। वैसे लोग समझते हैं कि दवा की गोली खा लेने से दर्द छू मंतर हो जाएगा लेकिन ऐसा होता नहीं है। कुछ देर के आराम के बाद फिर दवा पर आप निर्भर हो जाते हैं जोकि हमारे शरीर के लिए सही नहीं है। दरअसल हमारे शरीर की क्षमता में ही शरीर का इलाज छुपा है। इसे फिजियोथेरेपी पद्धति ने पहचाना और लोगों का इलाज बिना दवा-गोली के होना शुरू हुआ। डॉ मार्कण्डेय आहूजा जी ने कहा कि जब शरीर की सहनशीलता नहीं रहती है तो वह तरह-तरह की बीमारियों व दर्द की चपेट में आ जाता है। फिजियोथेरेपी को अपनी जिंदगी का हिस्सा बनाकर दवाइयों पर निर्भरता कम करके हम स्वस्थ रह सकते हैं। और हम उम्मीद करते हैं कि आप सभी भविष्य के बेहतर फिजियोथेरेपिस्ट साबित होंगे। इस दौरान छात्रों ने पेंटिंग प्रदर्शनी भी लगाई। जिसमें फिजियोथेरेपी के महत्व को दर्शाया गया। पेंटिंग प्रतियोगिता में पहला स्थान बीपीटी द्वितीय वर्ष के शुभम कटारिया ने हासिल किया। जबकि दूसरे और तीसरे नंबर पर अज़म अहमद और पूजा रेवलिया रहे।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   9941289
 
     
Related Links :-
डीपीएमआई ने किया प्राथमिक चिकित्सा सत्र का आयोजन
गुरुग्राम जिले में 15 से 17 सितंबर तक पल्स पोलियो अभियान
घरेलू जड़ी बूटियां मुक्त रख सकती हैं तनाव से : दहिया
भारत ने यूनान के थेस्सालोनिकी अंतर्राष्ट्रीय मेले में लिया हिस्सा
सघन ओरल हेल्थ जागरूकता अभियान चलाया जाएगा : विज
स्वच्छ भारत मिशन हर भारतीय का अभियान बना : राष्ट्रपति कोविंद
‘मलेरिया मुक्त मेवात’ अभियान का शुभारंभ
अमेरिकन महिला को भारत में मिला चिकित्सा का उपहार
जब से बना नाला नहीं हुई सफाई
गुरुग्राम में नारायणा हेल्थ लाया रेडियोथेरेपी सिस्टम ‘ट्रूबीम एसटीएक्स’