समाचार ब्यूरो
25/09/2019  :  10:21 HH:MM
ईपीएफ पर मिलेगा ८.६५ फीसदी ब्याज
Total View  61

नई दिल्ली केंद्र सरकार ने वित्त वर्ष 2018-19 के लिए ईपीएफ पर 8.65 फीसदी के ब्याज दर को मंजूरी दे दी है। केंद्र के इस फैसले से छह करोड़ से अधिक सक्रिय अंशधारकों को फायदा होगा। कर्मचारी भविष्य निधि संगठन ने इस साल फरवरी में वित्त वर्ष 2018-19 के लिए ईपीएफ पर 8.65 फीसदी ब्याज दर देने का फैसला किया था, लेकिन वित्त मंत्रालय से मंजूरी नहीं मिल पाने के कारण आज तक इसे सब्सक्राइबर्स के खातों में क्रेडिट नहीं किया जा सका था।
ईपीएफओ ने हालांकि कहा था कि वह वित्त मंत्रालय से औपचारिक अनुमति का इंतजार कर रहा है, क्योंकि इस तरह के विलंब के कारण डिपॉजिट पर मिलने वाले रिटर्न पर प्रतिकूल असर पड़ता है। ब्याज दर में 10 आधार अंकों (0.10फीसदी) की बढ़ोतरी की गई है, क्योंकि वित्त वर्ष 2017-18 में इस पर ब्याज दर 8.55 फीसदी थी। वित्त वर्ष 2016-17 में भी ईपीएफ पर ब्याज पर 8.55 फीसदी ही थी। केंद्रीय श्रम मंत्री संतोष गंगवार ने मंगलवार को कहा कि इस महीने की शुरुआत में ही उन्होंने सीबीटी के फैसले को पूरा करने के प्रति आश्वस्त किया था और उनके मंत्रालय ने अब इसे अधिसूचित कर दिया है। वित्त वर्ष 2018-19 में ईपीएफ पर 8.65 फीसदी ब्याज दर देने के बाद ईपीएफओ के पास केवल 151 करोड़ रुपये का सरह्रश्वलस बचा है, जो पहले के स्तर से कम है। वित्त वर्ष 2017-18 में उसके पास 586 करोड़ रुपये का सरह्रश्वलस था।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   5165897
 
     
Related Links :-
महिंद्रा ब्लेजो ने लांच के 3 साल में कुशल ट्रक के रूप में स्थापित किया
शहरों में बड़ी जमीने खाली रखने वालों पर लगेगा टैक्स : योगेंद्र यादव
कांग्रेस प्रत्याशी संजय अग्रवाल का पलवार भाजपा सरकार ने अर्थव्यवस्था की धज्जियां उड़ा दी है
ट्राइसिटी में मैनेजमेंट ट्रेनी से लेकर महाप्रबंधक तक
हीरो इलेक्ट्रिक ने स्कूटरों की रेंज में आकर्षक ऑफर पेश किया
टाटा मोटर्स ने ग्राहक संवाद कार्यक्रम और सर्विस कैम्‍पेन की घोषणा की
उपभोक्ताओं की मांग पर पारले प्रोडक्टस वापस लाए रोला कोला
पैनासोनिक ने की 16 नए आउटलेट्स खोलने की घोषणा
बुनियादी असुविधाएं बन रहीं महिला व्यापारियों के लिए बेडिय़ा
एफबीबी ने नए अभियान ‘एफ बीबी हैज इट ऑल’ का ऐलान किया