समाचार ब्यूरो
05/10/2019  :  11:13 HH:MM
नरगिस ने महिलाओं की भूमिका को सशक्त बनाया
Total View  61

हिंदी सिनेमा को शुरुआती दौर में जिन अभिनेत्रियों ने एक अलग उंचाई दी है उनमें एक नाम उस दौर की खूबसूरत अभिनेत्री नरगिस का भी है। नरगिस उन अभिनेत्रियों में थीं जिन्होंने इतिहास रचा। मदर इंडिया, आवारा, बरसात और श्री 420 जैसी फिल्मों में महिलाओं की भूमिका को सशक्त रुप में वह सामने लाईं। नरगिस के बचपन का नाम फातिमा राशिद था।

नरगिस के पिता उत्तमचंद मोहनदास एक जाने-माने डॉक्टर थे। उनकी मां जद्दनबाई मशहूर नर्तक और गायिका थी। मां के सहयोग से ही नरगिस फिल्मों से जुड़ीं और उनके करियर की शुरुआत हुई फिल्म ‘तलाश-ए-हक’ से। जिसमें उन्होंने बतौर बाल कलाकर काम किया। उस समय उनकी उम्र महज 6 साल की थी। इस फिल्म के बाद वो बेबी नरगिस के नाम से मशहूर हो गयीं। इसके बाद उन्होंने कई फिल्में की। नरगिस राज्यसभा के लिए नामांकित होने और पद्मश्री पुरस्कार पाने वाली पहली हीरोइन थीं।

राज कपूर से बढ़ी नजदीकियां : 1940 से लेकर 1950 के बीच नरगिस ने कई बड़ी फिल्मों में काम किया। जैसे ‘बरसात’, ‘आवारा’, ‘दीदार’ और ‘श्री 420’। तब राज कपूर का दौर था। नरगिस ने राज कपूर के साथ 16 फिल्में की और ज़्यादातर फिल्में सफल साबित हुईं। इस बीच दोनों में नजदीकियां भी बढऩे लगीं और दोनों को एक-दूसरे से ह्रश्वयार हो गया और दोनों ने शादी करने का मन भी बना लिया। उसने दूसरे निर्माताओं की फिल्मों में काम करके आर.के फिल्म्स की खाली तिजोरी को भरने का काम भी किया।
ब्रेक-अप : राज कपूर जब 1954 में मॉस्को गए तो अपने साथ नरगिस को भी ले गए। कहते हैं यहीं दोनों के बीच कुछ गलतफहमी हुई और दोनों के बीच इगो की तकरार इतनी बढ़ी कि वह यात्रा अधूरी छोडक़र नरगिस इंडिया लौट आईं। 1956 में आई फिल्म ‘चोरी चोरी’ नरगिस और राज कपूर की जोड़ी वाली अंतिम फिल्म थी। वादे के मुताबिक, राज कपूर की फिल्म ‘जागते रहो’ में भी नरगिस ने अतिथि कलाकार की भूमिका निभाई थी। यहां से दोनों के रास्ते बदल गए।

सुनील दत्त से ह्रश्वयार और शादी : राज कपूर से अलग होने के ठीक एक साल बाद नरगिस ने 1957 में महबूब ख़ान की ‘मदर इंडिया’ की शूटिंग शुरू की। मदर इंडिया की शूटिंग के दौरान सेट पर आग लग गई। सुनील दत्त ने अपनी जान पर खेलकर नरगिस को बचाया और दोनों में ह्रश्वयार हो गया। मार्च 1958 में दोनों की शादी हो गई। दोनों के तीन बच्चे हुए, संजय, प्रिया और नम्रता। अपनी किताब ‘द ट्रू लव स्टोरी ऑफ नरगिस एंड सुनील दत्त’ में नरगिस कहती हैं कि राज कपूर से अलग होने के बाद वो आत्महत्या करने के बारे में सोचने लगी थीं, लेकिन उन्हें सुनील दत्त मिल गए,जिन्होंने उन्हें संभाल लिया। नरगिस कहती हैं कि उन्होंने अपने और राज कपूर के बारे में सुनील दत्त को सब- कुछ बता दिया था। सुनील दत्त पर नरगिस को काफी भरोसा था और दुनिया जानती है यह जोड़ी ताउम्र साथ रही।

समाज सेवा : नरगिस एक अभिनेत्री से ज्यादा एक समाज सेविका थीं। उन्होंने असहाय बच्चों के लिए काफी काम किया। उन्होंने सुनील दत्त के साथ मिलकर ‘अजंता कला सांस्कृतिक दल’ बनाया जिसमें तब के नामी कलाकार-गायक सरहदों पर जा कर तैनात सैनिकों का हौसला बढ़ाते थे और उनका मनोरंजन करते थे। गौरतलब है कि कैंसर जैसी गम्भीर बीमारी से जूझते हुए नरगिस कोमा में चली गयीं। 3 मई 1981 को मुंबई में उनका निधन हुआ।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   529131
 
     
Related Links :-
सारा अली खान ने शेयर किया मजेदार मीम
वोट डालने के लाभ बताने वाले वोटिंग ताऊ को लोग कर रहें हैं पसंद
कॉलेज में दीपावली के अवसर पर उद्यमोत्सव का आयोजन
तृष्णा मंडल बनीं मिसेज इंडिया डैजलिंग 2019- 20 की विजेता
पार्क ह्रश्वलाजा जीरकपुर में अदिरा ईवेंट्स का ‘ट्राइसिटी का करवा चौथ बैश’ संपन्न
सोशल मीडिया पर छाया ‘शैतान का साला बाला’
मेड इन चाइना में देखें डांस का नया तडक़ा
सान्या ने शकुंतला देवी की बेटी के ऑन-स्क्रीन अवतार को शेयर किया
‘83’ की शूटिंग खत्म, दीपिका देंगी बड़ी पार्टी
हंगामा ह्रश्वले के एंथोलॉजी शो ‘कश्‍मकश’ में नजर आएंगे कई बड़े सितारे