Breaking News
सरकार को बेरोजगारी खत्म करने के लिए कुटीर उद्योगों को बढ़ावा देने की जरूरत है : बजरंग गर्ग  |  घरौंडा-चार दिन में चार यौन शोषण की घटनाएं आई सामने  |  केंद्रीय कर्मियों को पेंशन का बड़ा तोहफा, पुरानी पेंशन स्कीम ले सकते हैं कर्मी  |  अभी विचार-विमर्श के स्तर पर है जम्मू-कश्मीर के लिए थिएटर कमान का फैसला : जनरल नरवाणे  |  केंद्र सरकार बहुत जल्द ही घोषित करेगी नई किराया नीति : पुरी  |  शाहीन बाग में जाम लगा तो पुलिस ने कुछ देर के लिए खोला नोएडा-फरीदाबाद मार्ग, फिर बंद किया  |  शाहीन बाग में जाम लगा तो पुलिस ने कुछ देर के लिए खोला नोएडा-फरीदाबाद मार्ग, फिर बंद किया  |  प्राप्त शिकायतों का समाधान गंभीरता एवं तत्परता से करें  |  
 
10/10/2019  :  09:59 HH:MM
शरद पूर्णिमा का है विशेष महत्व
Total View  763

हिंदू शास्त्र के अनुसार सभी पूर्णिमाओं में आश्विन मास की पूर्णिमा का विशेष महत्व होता है। इस पूर्णिमा को शरद पूर्णिमा कहते हैं। इस बार 13 अक्टूबर को शरद पूर्णिमा है। ऐसी मान्यता है कि इस रात को चंद्रमा अपनी पूरी सोलह कलाओं के प्रदर्शन करते हुए दिखाई देता है। शरद पूर्णिमा को कोजागरी या कोजागर पूर्णिमा के नाम से भी जाना जाता है।

मान्यता के अनुसार शरद पूर्णिमा की रात को माता लक्ष्मी स्वर्ग लोक से पृथ्वी पर आती हैं। इस रात महालक्ष्मी को जो भी व्यक्ति जागते हुए दिखाई देता है और जो व्यक्ति पूजा ध्यान में लगाए हुआ होता है उन्हें देवी लक्ष्मी की कृपा मिलती है। किस प्रकार करें पूजा : शरद पूर्णिमा की रात में भगवान शिव को खीर का भोग लगाएं। खीर को पूर्णिमा वाली रात को छत पर रखें। भोग लगाने के बाद खीर का प्रसाद ग्रहण करें। इस उपाय स े कभी भी पसै े की कमी नही ं रहगे ी। शरद पूि णर्म ा की रात म ें हनमु ानजी के  सामन े चौमुखा दीपक जलाएं। इसके लिए आप मिट्टी का एक दीपक लें और उसमें तेल या घी भरें। मां लक्ष्मी को सुपारी बहुत पसंद है। सुपारी को पूजा में रखें। पूजा के बाद सुपारी पर लाल धागा लपेट कर उसका अक्षत, कुमकुम, पुष्प आदि से पूजन करके उसे तिजोरी में रखें, धन की कभी कमी नहीं होगी। एक अध्ययन के अनुसार शरद पूर्णिमा के दिन औषधियों की स्पंदन क्षमता अधिक होती ह।ै चादं नी रात म ें 10 स े मध्यरात्रि 12 बज े के बीच घमू न े वाल े व्यक्ति को ऊर्ज ा प्राप्त होती है। सोमचक्र, नक्षत्रीय चक्र और आश्विन के त्रिकोण के कारण शरद ऋतु से ऊर्जा का संग्रह होता है और बसंत में निग्रह होता है। अध्ययन के अनुसार दुग्ध में लैक्टिक अम्ल और अमृत तत्व होता ह।ै यह तत्व किरणो ं स े अधिक मात्रा म ें शक्ति का शोषण करता ह।ै चावल म ें
स्टार्च होने के कारण यह प्रक्रिया और आसान हो जाती है। इसी कारण ऋ षि-मुनियों ने शरद पूर्णिमा की रात्रि में खीर खुले आसमान में रखने का विधान किया है।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   3573874
 
     
Related Links :-
108 कुंडिया गौ संवर्धन गायत्री महायज्ञ का आयोजन एक से
भगवान विश्वकर्मा के दिखाए मार्ग और शिक्षाओं पर चलना चाहिए : कल्याण
मंदिर मॉडल टाउन समालखा में गोवर्धन पूजा की गई
श्रीमदभगवद् गीता की भूमिका पर सेमिनार का आयोजन
कार्तिक मास में ऐसे मिलेगी मां लक्ष्मी की कृपा
बनासकांठा का नाडेश्वरी माता का मंदिर है आस्था का केन्द्र
सेक्टर-9 ए में मनाया गया दशहरा
प्रभु को प्रेम भाता है क्रोध और अभिमान नहीं : प्रदीप कृष्ण शास्त्री
विजयदशमी : हुआ रावण का अंत
नवरात्रि पर्व का सातवां दिन : आज करें मां कालरात्रि की पूजा