23/10/2019  :  09:41 HH:MM
डॉ.बेदी ने मिनिमली इनवेसिव सर्जरी में नए डेवलपमेंट्स पर गेस्ट लेक्चर दिया
Total View  757

मोहाली कार्डियो वैस्कुलर सर्जन, डॉ.हरिंदर सिंह बेदी ने शनिवार को हैदराबाद में प्रतिष्ठित वैस्कुलर सोसाइटी ऑफ इंडिया (वीएसआई) के 26वें वार्षिक कॉन्फ्रें स में मिनिमली इनवेसिव सर्जरी में नए एडवांसेज और डेवलपमेंट्स पर एक गेस्ट लेक्चर दिया।
अपने लेक्चर में उन्होंने कहा कि वैस्कुलर सर्जरी काफी तेजी से आश्चर्यजनक तौर पर प्रगति कर रही है। दुनिया अब लेजर्स से काफी आगे बढ़ चुकी है और वैरिकाज वेन्स के लिए बेहतर नॉन-थर्मल तकनीकों के लिए थैरेपी की सबसे अधिक और आम उपयोगी में लाई जानी वाली तकनीक है। डॉ.बेदी जो कि आईवी हॉस्पिटल, मोहाली में डायरेक्टर, कार्डियो वैस्कुलर एंडोवैस्कुलर एंड थोरैसिस साइंसेस हैं, ने बताया कि हम वैरिकाज नसों (डीम्ड एबनॉर्मल लेग वेन्स) के इलाज के लिए ओपन सर्जिकल तकनीक से आगे बढ़ गए हैं ताकि इनवेसिव लेजर तकनीक को कम से कम किया जा सके। हालांकि लेजर काफी अधिक हीट पैदा करती है और दर्द का कारण बनती है और कुछ हद तक एनीथीसिया की भी जरूरत पड़ती है। उन्होंने कहा कि अब नई तकनीकों के तहत, जो काफी आधुनिक और संवेदनशीन  बॉयो-कम्पेटेबल ग्लू या फ्लेबोग्रिप नामक डिवाइस का उपयोग किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि ये न गर्मी पैदा करते हैं और न दर्द पैदा करते हैं। सर्जरी के अगले ही दिन काम पर लौटा जा सकता है और मिड-टर्म में काफी बेहतरीन परिणाम प्राप्त होते हैं।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   4046399
 
     
Related Links :-
रोटरी हेल्थ कार्निवाल में रोटेरियंस ने हेल्थ के प्रति किया जागरुक
डॉक्टर्स दिवाली की शुभकामनाएं देने मरीजों के घर पहुंच
डायबटीज से पीडि़तों के लिए आर्ट एग्जीबिशन
ऑर्थो कैम्प में 60 सीनियर सिटिजन की जांच की गई
रक्त की कमी से होने वाले थैलेसीमिया रोग का जागरुकता शिविर आयोजित
50 सीनियर सिटीजंस ने ‘मीट योअर डॉक्टर्स’ प्रोग्राम में हिस्सा लिया
भारत में कैंसर दूसरा सबसे बड़ा हत्यारा
वल्र्ड मेंटल हेल्थ डे: युवाओं ने खास अंदाज में दिया जागरूकता संदेश
स्तन कैंसर से बचने के लिए जागरूक और सावधान रहना जरूरी
एफआरएआई ने तंबाकू उत्पादों की बिक्री पर प्रस्तावित सुझाव पर जताई चिंता दुकानदारों को लाइसेंस दिए जाने के प्रस्ताव का किया विरोध