26/10/2019  :  10:52 HH:MM
आरसीईपी के विरोध में गरजे किसान, किया प्रदर्शन
Total View  774

करनाल की सडक़ों पर उतरकर किया प्रदर्शन केंद्रिय वाणिज्य मंत्री व प्रधानमंत्री के नाम नायब तहसीलदार को सौंपा ज्ञापन कें द्र सरकार के खिलाफ की जोरदार नारेबाजी कहा भारतीय किसानों को बर्बाद करने पर तूली है केंद्र में शासित भाजपा सरकार करनाल। भारतीय किसान यूनियन के सैंकड़ों कार्यकर्ताओं ने क्षेत्रिय व्यापक, आर्थिक भागेदारी(आरसीईपी) प्रस्तावित समझौते के विरोध में करनाल की सडकों पर उतर कर जोरदार प्रदर्शन किया।
कार्यकर्ताओं ने इस दौरान क्रेंद्र में शासित भाजपा सरकार के खिलाफ जोरदार ढंग से नारेबाजी कर रोष जाहिर किया। प्रदर्शन करने के उपरांत लघु सचिवालय पहुंच कर केंद्रिय वाणिज्य मंत्री व प्रधानमंत्री के नाम करनाल के नायब तहसीलदार को ज्ञापन सौंप कर भारतीय किसानों के हित में निर्णय लेने की मांग की गई। इससे पूर्व महात्मा गांधी चौंक पर जिलेभर से आए सैंकड़ों किसानों ने लामबंद्व होकर किसान महापंचायत का आयोजन किया। भाकियू नेताओं ने इस समझौते को लेकर केंद्र सरकार की जमकर आलोचना करते हुए कहा कि सरकार खेती किसानी किसानों को खत्म करने पर तुली हुई है और किसानों का जमकर शोषण किया जा रहा है। केंद्र सरकार ने आरसीईपी समझौते को लागू करने के साथ किसानों को तबाह करने की तैयारी कर ली है। किसान नेताओं ने एक स्वर में कहा कि क्षेत्रिय व्यापक, आर्थिक भागेदारी(आरसीईपी) को लेकर किए जा रहे केंद्र सरकार के समझौते को किसी भी कीमत पर सहन नही किया जाएगा। चाहे इसके विरोध में किसानों को किसी प्रकार की कुर्बानी क्यों न देनी पड़े। भाकियू नेताओं ने कहा कि सरकार ने किसानों की रायशुमारी के बिना आरसीईपी थोपना चाहती है। इस समझौते के लागू होंने के बाद विदेशी कंपनियों का राज कायम हो जाएगा और किसानों के हाथ में कुछ नही रहेगा। भाकियू नेताओं का कहना है कि जो देश में हमारे डेयरी जैसे क्षेत्र में जो हमारे लाखों सीमांत किसान महिलाओं की आजीविका का जरिया है, वह चौपट हो जाएगा। इसमें बीज कंपनियों को अपने बौद्धिक संपदा अधिकारों की रक्षा करने के लिए अधिक शक्तियां मिलेंगी। किसान जब अगली फसल या विनियम के लिए बीज बचाएंगे तो इसे अपराध की श्रेणी में माना जाएगा। अत: प्रधानमंत्री को देश के किसानों के साथ बैठक करके आरसीईपी के प्रस्तावित समझौते पर बात करनी चाहिए। क्योंकि यह समझौता किसानों के हितों के साथ जुडा हुआ है। इस अवसर पर प्रदेश उपाध्यक्ष सुरेंद्र सिंह घुम्मन, महिला विंग की अध्यक्षा नीलम राणा, प्रदेश संगठन सचिव श्याम सिंह मान, जिलाध्यक्ष यशपाल राणा, जिला महासचिव सतपाल बड़थल, जिला सरंक्षक महताब कादियान, पूर्व जिलाध्यक्ष बाबूराम बड़थल, जिला प्रवक्ता सुरेंद्र सांगवान, जोगिंद्र सिंह झींडा, वासुदेव सचदेवा, धनेतर राणा, रणजीत सिंह जलमाना, विनोद राणा, नेकीराम, रामफल नरवाल, हुकम सिंह दादुपुर, अंग्रेज सिंह, जयपाल शर्मा, दिलावर डबकोली, सतबीर गढ़ी बीरबल, भरतरी मान, जोगिंद्र सांगवान, राजबीर मान, सुरेंद्र सिंह बैनीवाल, भलेराम मान, वेद सांगवान, रणबीर कतलाहेडी सहित काफी संख्या में किसान मौजूद थे।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   2352680
 
     
Related Links :-
भाजपा-जजपा गठबंधन जनादेश का अपमान है : सुधा भारद्वाज
राष्ट्रीय एकता दिवस के रूप में मनाया जा रहा है पटेल जयंती
रन फॉर यूनिटी के आयोजन की तैयारियां पूरी, ओपी सिंह ने वीडियो कांफ्रेंस कर अधिकारियों को दिए निर्देश सीएम के स्पेशल अधिकारी ने लिया जायजा
कल्याण ने फिर शुरू किया जन समस्याएं सुनने का कार्यक्रम
लौह पुरूष की जयंती को मनाया जा रहा है रन फॉर यूनिटी के रूप में : ओपी सिंह
प्रदेश के किसान व आढ़ती सडक़ों पर आने को हो जाएंगे मजबूर: बजरंग गर्ग
केंटर पलटने से टोल टैक्स कर्मी की मौत
स्वास्थ्य मंत्री सिद्धू ने गुरपर्व समागम साझे तौर पर मनाए जाने का न्योता श्रद्धालुओं को सुविधाएं प्रदान करने के लिए विभाग की तैयारी पूरी
आतंकवाद सबसे बड़ी समस्या
जेजेपी ने दिया कांग्रेस को झटका पूर्व डिह्रश्वटी स्पीकर आजाद मोहम्मद और कांग्रेस नेता जजपा में शामिल