Breaking News
भाजपा ने महज 10 महीने में कांग्रेस से हथिया ली दो राज्यों की सत्ता   |  अवैध रूप से सीएंडडी वेस्ट डंपिंग करने वालों पर की जा रही है कार्रवाई  |  कोराना (कोविड-19) से स्वच्छता, सतर्कता व जागरुकता ही बचाव : नरेश नरवाल  |  आज का देश की महिलाओं व हमारी बच्ची के लिए ऐतिहासिक दिन है : बजरंग गर्ग  |  कोविड 2019 संक्रमण को फैलने से रोकने के उपायों के बारे में आम जनता को ज्यादा से ज्यादा जागरूक करें : उपायुक्त  |  संदिग्ध मरीजों के लिए गुरुग्राम जिला में 22 आइसोलेटिड वार्ड तथा 4 क्वारंर्टाइन सुविधा बनाई गई  |  स्वयंसेवी संस्थाओं द्वारा संक्रमण से बचने के लिए लोगों को जागरूक किया जा रहा है  |  भाजपा ने प्रदेश पदाधिकारियों तथा प्रदेश मोर्चा अध्यक्षों की घोषणा की   |  
 
 
समाचार ब्यूरो
29/10/2019  :  10:48 HH:MM
दिवाली पर चंडीगढ़ में मनाया गया कुकुर तिहार
Total View  909

चंडीगढ़ नेपाल का प्रसिद्ध त्यौहार कुकु र तिहार इस बार चंडीगढ़ सहित भारत के कई शहरों में मनाया गया। इस अवसर पर पालतू और बेघर कुत्तों के गले में माला पहना कर और माथे पर तिलक लगाकर उनका सम्मान किया गया। चंडीगढ़ में यह शुरुआत शहर के एक गैर-लाभकारी संगठन ज्वॉय फॉर एनिमल्स ने की। संगठन का कहना है कि अगली दिवाली पर ट्राइसिटी में यह त्यौहार बड़े पैमाने पर मनाया जायेगा।

ज्वॉय फॉर एनिमल्स जीवज ंतुओं के कल्याण हेतु प्रकाश फाउंडेशन द्वारा शुरू की गयी एक अभिनव पहल है, जिसके संस्थापक अध्यक्ष नरविजय यादव ने बताया कि पिछले कुछ वर्षों से देश में बेघर कुत्तों की समस्या तेजी से बढ़ी है। उनकी आबादी जितनी तेजी से बढ़ी है,
उतनी तेजी से मादा कुत्तों की नसबंदी नहीं की जा रही है। साथ ही, बढ़ते शहरीकरण के चलते मनुष्य का यह ह्रश्वयारा दोस्त उपेक्षित हो रहा है और इसे भोजन-पानी भी नहीं मिल पा रहा है। इस नाते कुकुर तिहार एक महत्वपूर्ण परंपरा है, जिसे देश में बड़े पैमाने पर मनाये जाने की आवश्यकता है। उल्लेखनीय है कि इंदौर की डॉगिटाइजेशन संस्था ने कुत्तों को लड्डू कहना शुरू किया है। कुत्ता शब्द एक गाली में तब्दील हो चुका है, ऐसे में कुत्तों की भला कौन कद्र करेगा। इसीलिए इन्हें लड्डू जैसा ह्रश्वयारा संबोधन दिया गया है, जिसे सभी पसंद कर रहे हैं। नरविजय ने कहा कि आप किसी अनजान बेघर कुत्ते को ह्रश्वयार से लड्डू कहकर पुकारिए, फिर देखिए कैसे वह पूंछ हिलाता हुआ आपकी ओर ह्रश्वयार से देखेगा। यह जीव ह्रश्वयार का भूखा है और इसके पास आपको देने के लिए सिर्फ प्रेम और वफादारी ही है। कुत्तों को कभी किसी अन्य इलाके में नहीं छोडऩा चाहिए। यह गैरकानूनी है और कुत्तों के साथ अन्याय भी। नयी जगह पर उन्हें वहां के कुत्ते नहीं जीने देते और भूखा भी रहना पड़ता है। जाहिर है, चिंता और परेशानी में जी रहा ऐसा कुत्ता छेडऩे पर किसी को  काट सकता है। कुत्तों और मनुष्य की दोस्ती को 12 हजार साल से अधिक समय हो चुका है। इतनी ह्रश्वयारी यारी को उपेक्षित करना मनुष्य का अपराध है।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   7691783
 
     
Related Links :-
सुखमिंदरपाल सिंह ग्रेवाल की मांग है कि गैंगस्टर थीम वाली फिल्मों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जानी चाहिए
पहले मैच में आस्ट्रेलिया को १७ रनों से हराया
कार्तिक और जान्हवी आएंगे एक साथ नजर
हिमेश रेशमिया ‘हैह्रश्वपी हार्डी एंड हीर’ का भव्य ट्रेलर लॉन्च करने वाले है
सावधान इंडिया के हर शो का मकसद दर्शकों के साहस को बढ़ाना है : सुशांत सिंह
कला उत्सव व टैलेंट सर्च की जिला प्रतियोगिता का आयोजन
बाला में आयुष्मान खुराना का लुक असल जिंदगी से प्रेरित है
आयुष्मान, भूमि पेडनेकर और टीम बाला ने दीवाली ब्रंच और मीडिया फ्रें ड्स के साथ फेस्टिव सीजन की शुरुआत की
रोटरी परिवार घरौंडा की ओर से दीपावली कार्यक्रम का आयोजन
इलियाना डिकू्रज का बोल्ड अंदाज देख फैन्स हुए मुरीद