समाचार ब्यूरो
14/02/2017  :  10:25 HH:MM
कुष्ठ रोग निवारण जागरुकता अभियान का दिया सन्देश
Total View  340

राजकीय आदर्श वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय, सराय ख्वाजा में आज उपप्रार्चाय बी के गर्ग की अघ्यक्षता में राष्ट्रीय सेवा योजना - एन एस एस यूनिट, सैंट जान एंबुलैंस बिग्रेड व जूनियर रैडक्रास ने जिला स्वास्थय विभाग के सहयोग से कुष्ठ रोग निवारण जागरुकता अभियान चलाया।
विद्यालय के अंग्रेजीे प्रवक्ता, सैंट जान एंबुलैंस बिग्रेड, जूनियर रैडक्रास तथा राष्ट्रीय सेवा योजना - एन एस एस यूनिट के क्रार्यक्रम अघिकारी रविन्द्र कुमार मनचन्दा ने बताया कि आज मनचन्दा ने कहा कि कुष्ठ रोग चिकित्सक गेरहार्ड आर्मोर हैन्सन के नाम पर माइक्रोबैक्टेरियम लेप्री और माइक्रोबैक्टेरियम लेप्रोमेटासिस जीवाणुओं  के कारण होने वाली दीर्धकालिक बीमारी है, यह रोग मुख्यत: उपरी श्वसन तंत्र के श्लेष्म और बाहय नसों की एक ग्रैन्युलोमा- सम्बन्धी बीमारी है तथा त्वचा पर घाव इस के प्रारम्भिक बाहय संकेत है यदि इसे अनुपचारित छोड दिया जाए तो यह रोग बढ सकता है जिस से त्वचा, नसों, हाथों, पैरों और ऑखों में स्थायी छति हो सकती है। लोककथाओं के विपरीत कुष्ठ रोग के कारण शरीर के अंग अलग हो कर गिरते नही तथा इस बीमारी के कारण सुन एवम् रोगी बन सकते है। यह रोग 4000 से भी अधिक वर्षो से मानवता को प्रभावित कर रहा है तथा प्राचीन चीन, मिस्र और भारत की सभ्यताओं में इसे बहुत अच्छी तरह पहचाना गया है। विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार 1995 में इस रोग के कारण विकलांग हो चुके लोगों की संख्या बीस से तीस लाख के बीच थी। रूप किशोर शर्मा व उपप्रार्चाय बी के गर्ग ने छात्रों को सम्बोधित करते हुए बताया कि पिछले बीस वर्षो में विश्व के डेढ करोड लोगों को कुष्ठ रोग से मुक्त किया जा चुका है परन्तु अभी भी भारत में एक हजार से अधिक कुष्ठ बस्तियां है ऐसा माना जाता है कि कुष्ठ रोग संभवत: सिफिलिस के मामलों से जुडा होगा, अब यह ज्ञात हो चुका है कि कुष्ठ रोग न तो यौन संक्रमण द्वारा संचालित होता है और न ही उपचार के बाद यह अत्याधिक संक्रामक है और इस से पीडित लोग उपचार के मात्र दो सप्ताह बाद ही संक्रामक नही रह जाते। एम डी टी यानि  मल्टी डरग थैरेपी के आगमन से पूर्व तक इस बीमारी का निदान व उपचार कर पाना सम्भव ही नही था। इस अवसर पर मनदीप कौर, रविन्द्र मनचन्दा, रेणु शर्मा, रुप किशोर शर्मा, वीरपाल पीलवान, सोमबीर यादव, संदीप गुप्ता, रेणु चौधरी, ब्रहम्देव यादव व स्टाफ के सभी अघ्यापकों ने छात्रों से कहा कि वे अपने आस पडोस में यदि कोई कुष्ठ रोग से पीडित हो तो निकटतम स्वास्थ्य केन्द्र में जाकर बहुत शीघ्र ठीक हो सकता है। रविन्द्र मनचन्दा ने बताया कि प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र में 12 माह तक एम डी टी, राइफैम्पिसिन, डैह्रश्वसोन और क्लोफैजिमाइन की उपयुक्त रुप से समायोजित खुराकें ब्लिस्टिर पैकेट के रुप में ले कर कोई भी कुष्ठ रोग का मरीज उपचार कर स्वास्थ्य लाभ प्राप्त कर सकता है।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   4471074
 
     
Related Links :-
मुलेठी है कई रोगों की दवा
राज्य के तालाबों में गमबुजि़आ मछलियों को छोड़ा जाएगा
हर जिले में पशुओं के लिए एक-एक पॉली क्लीनिक : ओपी धनखड़
नगर निगम द्वारा शुरू किया गया विशेष सफाई अभियान
मेंडिसिटी और फोर्टिस अस्पतालों का निरीक्षण
पहली बार में ही मादक पदार्थों को ‘ना’ कहें : डा. प्रदीप
गुरूग्राम के 1732 स्कूलों में टीकाकरण
रक्तदान से बचाई जा सकती है जिंदगी : नरेन्द्र सिंह
बड़ी मस्जिद में २५८ बच्चों का किया गया टीकाकरण
चलेगी पुलिसकर्मियों को नशा मुक्त करने की मुहिम