हरियाणा मेल ब्यूरो
21/03/2017  :  10:06 HH:MM
संवेदनशील जगहों की कवरेज पर पत्रकारों को मिलेंगे बॉडी प्रोटेक्टर
Total View  79

हरियाणा के पुलिस महानिदेशक के.पी. ङ्क्षसह ने आज कहा है कि राज्य में संवेदनशील जगहों की कवरेज के दौरान पत्रकारों की सुरक्षा के लिये उन्हें बॉडी प्रोटेक्टर और हैलमेट उपलब्ध कराये जाएंगे। फतेहाबाद जिले के ढाणी गोपाल चौक के निकट असामाजिक तत्वों के हमले में घायल मीडियाकर्मियों और पुलिसकर्मियों का हाल जानने के लिये सिविल अस्पताल पहुंचे श्री ङ्क्षसह ने मीडिया से बातचीत में यह जानकारी दी।
उन्होंने घायल मीडियाकर्मियों को इस वर्ष राज्य स्तरीय स्वतंत्रता दिवस समारोह में स मानित किया जाएगा। उन्होंने अपनी तरफ से उन्हें प्रथम श्रेणी का प्रशस्ति पत्र और पांचपांच हजार रूपये की राशि देने की भी घोषणा की। उन्होंने कहा कि घायल मीडियाकर्मियों और पुलिसकर्मियों के इलाज का सारा खर्च प्रशासन वहन करेगा तथा दंगाइयों द्वारा मीडियाकर्मियों के तोड़े गए कैमरे तथा लूटे गये मोबाइल फोन तथा नकदी की भरपाई भी प्रशासन द्वारा की जाएगी। उन्होंने कहा कि जिस बहादुरी से पत्रकारों और पुलिस के जवानों ने दंगाइयों का सामना किया उसकी वह सराहना करते हैं। श्री ङ्क्षसह ने कहा कि पुलिस बल ने यदि सूझबूझ और संयम नहीं बरता होता तो कई लोगों की जान जा सकती थी। उन्होंने इस स्थिति में साहस का परिचय देने वाले पुलिसकर्मियों को भी स मानित किये जाने का एलान किया। पुलिस महानिदेशक ने कहा कि पुलिस और पत्रकारों पर जान लेवा हमला करने वाले दंगाइयों की पहचान की जा रही है। पुलिस के पास वीडियो फुटेज भी उपलब्ध है जिसमें इन असामाजिक तत्वों के चेहरे साफ दिखाई दे रहे हैं।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   8541377
 
     
Related Links :-
कांग्रेस-हार्दिक पर भाजपा का तंज- एक मूर्ख ने अर्जी दी
‘पंजाब स्टार्टअप एंड इंटरप्रिन्योरशिप डिवेल्पमेंट पॉलिसी’ से पर्दा उठा
संसद से पद्मावती तक आखिर क्यों खामोश हैं मोदी
मोदी का उड़ाया मजाक तो बोले नकवी, कांग्रेस बेचैन
हर जिले में मिनरल फांउडेशन का गठन
भारत में होगा कोरिया कल्चर एवं पर्यटन महोत्सव
सुखोई फाइटर जेट से ब्रह्मोस का सफल परीक्षण
15 दिसंबर से 5 जनवरी के बीच होगा संसद का शीतकालीन सत्र
हरियाणा नगर निगम अधिनियम में संशोधन के प्रस्ताव को मंजूरी
बच्चों के लिए हिंसा और शिक्षा महत्वपूर्ण चिंताएं