हरियाणा मेल ब्यूरो
03/11/2016  :  11:01 HH:MM
छत्तीसगढ़ में उग्रवादियों से लड़ते- लड़ते शहीद हो गया दीपक
Total View  156

छत्तीसगढ़ में उग्रवादियों से लोहा लेते हुए हरियाणा का एक और आईटीबीपी जवान शहीद हो गया। दीपक का पार्थिव जब गांव आया तब हर किसी की आंखें नम थी। दीपक ने अपनी तीनों बहनों ममता, सीमा व स्वदेश से वादा किया था कि वो भैया दूज पर गांव आएगा। इस बारे में उसने पहले ही फोन पर जानकारी दी थी। परिवार वाले उसके घर आने का बेसब्री से इंतजार कर रहे थे, लेकिन तिरंगे से लिपटा उसका शव घर पहुंचा।

उल्लेखनीय है कि दिवाली की रात जब आतिशबाजी का शोर हो रहा था तभी उग्रवादियों ने कैंप में फायरिंग की। इससे पहले सेना को लगा कि ये गोलियों की नहीं पटाखों की आवाज है। इसी गलत फहमी के कारण दीपक शहीद हो गया। दिवाली की रात छत्तीसगढ़ के बसैली में शहीद हुए दीपक का मंगलवार को तिरंगे में लिपटा शव जैसे ही सेना के जवान गांव में लेकर पहुंचे, पूरा गांव गमगीन हो गया। जवान का शव देख शहीद की मां शकुंतला, तीनों बहनें तथा फैमिली वाले बेसुध हो गए। शव उनके घर लाया गया जहां सबने उनके अंतिम दर्शन किए। इसके बाद शहीद का शव राजकीय स मान के साथ पंचतत्व में विलीन हो गया। दिवाली से पहले दीपक ने परिवारवालों से जब बात की तब उसे इस बात की खुशी हुई कि गांव में नया मकान बनाने की तैयारी पूरी है और उसके माता-पिता की इच्छा है कि नींव की पहली ईंट रखी जाए तो वो साथ हो।
दीपक ने भी वादा किया था कि नए मकान की नींव रखे जाने के समय जरूर मौजूद रहेगा। भैया दूज तिलक के बाद नए मकान की नींव रखनी थी। शहीद पति का शव देख होश खो बैठी पत्नी, ष्टरू की आंखों से भी झलके आंसू शहीद पति के शव से ऐसे लिपटी पत्नी, नजारा देख रोने लगे सेना के जवान।





----------------------------------------------------
----------------------------------------------------
----------------------------------------------------

Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   1383229
 
     
Related Links :-
फिर गुलजार होने लगा धरती का स्वर्ग
रविशंकर प्रसाद से मिले त्रिवेंद्र सिंह रावत
आईबी और सीबीआई के बराबर हो, हमारा वेतन
रूस, भारत और चीन ने आतंक के खिलाफ हाथ मिलाया
हरियाणा में पार्टी चिन्ह पर लड़े जाएंगे सभी चुनाव
सुप्रीम कोर्ट ने मांगा माल्या पर विदेश मंत्रालय से जवाब
से सामूहिक निर्णय लेना भाजपा की परंपरा रही है : धनखड़
दागी नेताओं के आएंगे बुरे दिन
जानिए कौन हैं सलमान निजामी, जिसके ट्वीट को मोदी ने बनाया मुद्दा
पुलिसकर्मियों की पुरानी मांग होगी पूरी