समाचार ब्यूरो
16/04/2017  :  11:11 HH:MM
निजी क्षेत्र में आरक्षण का कोई प्रस्ताव नहीं : गहलोत
Total View  339

केंद्रीय सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री थावर चंद गहलोत ने आज कहा कि सरकार के पास निजी क्षेत्र में अनुसूचित जाति, जनजाति और अन्य पिछड़े वर्ग के लिए आरक्षण का कोई प्रस्ताव नहीं है, हालांकि इसके लिए माहौल बनाने का प्रयास किया जा रहा है।

श्री गहलोत ने यहां डा. भीमराव अम्बेडकर की 126 वीं जयंती के उपलक्ष्य में किए गए कार्यों की जानकारी देने के लिए आयोजित किए गए एक संवाददाता सम्मेलन में बताया कि सरकार समाज के निचले एवं वंचित वर्ग के सामाजिक, शैक्षिक एवं आर्थिक सशक्तीकरण के प्रयास कर रही है और इसके लिए विभिन्न मंत्रालयों और
विभागों के माध्यम से कई कार्यक्रम और योजानओं का क्रियान्वयन किया जा रहा है। इस अवसर पर केंद्रीय सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता राज्य मंत्री रामदास आठवले भी मौजूद थे। एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि निजी क्षेत्र में अनुसूचित जाति, जनजाति और अन्य पिछड़ा वर्ग के लिए आरक्षण देने का कोई प्रस्ताव
फिलहाल सरकार के पास नहीं है लेकिन इसके लिए माहौल बनाने की कोशिश हो रही है। उन्होंने कहा कि अन्य पिछड़ा वर्ग के आरक्षण में क्रीमी लेयर की समीक्षा प्रत्येक तीसरे वर्ष करने का प्रावधान है लेकिन अन्य पिछड़ा वर्ग आयोग को संवैधानिक दर्जा देने की प्रक्रिया चल रही है। इससे संबंधित विधेयक लोकसभा में पारित
हो गया है और राज्यसभा में यह प्रवर समिति के पास भेजा गया है इसलिए क्रीमी लेयर की समीक्षा का समय तय करना अभी संभव नहीं है।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   5251267
 
     
Related Links :-
अब चंडीगढ़-दिल्ली की सडक़ों पर दिखाई देंगी डीलक्स एसी बसे
व्यापारी वर्ग फार्म ‘सी’ के लिए तरसे
लगातार चौथे दिन पेट्रोल और डीजल के दाम बढ
फसल अवशेष प्रबंधन को 1100 करोड़ के पैकेज की घोषणा
रियलमी 1’ स्मार्टफोन ने मचाई हलचल, गुरुग्राम में लॉच
बढ़ती आबादी की जरूरतों को पूरा करने के लिए तीन दशक तक 1० प्रतिशत वृद्धि की जरूरत : कांत
हरियाणा में निवेश को लेकर विदेशी निवेशकों में भारी उत्साह : मुख्यमंत्री
हरियाणा में 800 करोड़ के निवेश की परियोजना पर समझौता
कैट का सरकार के 30 बिलियन डिजिटल भुगतान लक्ष्य को समर्थन
तीन दिन बाद लगा बाजार की तेजी पर ब्रेक