हरियाणा मेल ब्यूरो
17/04/2017  :  10:00 HH:MM
बनाए जाएंगे 9 लाख मीट्रिक टन क्षमता के साईलोज भंडारण गृह
Total View  31

हरियाणा में साढ़े 9 लाख मीट्रिक टन क्षमता के साईलोज भंडारण गृह बनाए जाएंगे। भारतीय खाद्य निगम (एफसीआई) द्वारा साढ़े 3 लाख मीट्रिक टन साईलोज भंडारण और राज्य की एजेंसियों द्वारा 6 लाख मीट्रिक टन साईलोज भंडारण बनाए जाएंगे। खाद्य, नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता मामले राज्य मंत्री कर्णदेव क बोज ने आज फतेहाबाद में पत्रकारों से बातचीत करते हुए यह जानकारी दी।

प्रदेश में गेहूं के भंडारण के लिए आधुनिक भंडारण सुविधाओं की दिशा में कार्य किया जा रहा है। राज्य मंत्री श्री क बोज ने कहा कि प्रदेश में 100 लाख मीट्रिक टन खाद्यान्न रखने के लिए भंडार गृह है, जिसमें से 80 प्रतिशत कवर क्षेत्र में है। उन्होंने बताया कि किसानों द्वारा पैदा की गई फसल का एक- एक दाना सुरक्षित हो, इसके लिए हम भंडारण व्यवस्था को मजबूत कर रहे हैं। प्रदेश के चार विधायकों ने मध्य प्रदेश और छतीसगढ़ की अच्छी तकनीक द्वारा निर्मित साईलोज भंडारण का निरीक्षण किया और यह पाया कि यह भंडारण अनाज की सुरक्षा में बेहतर साबित होते हैं। इसलिए प्रदेश सरकार ने निर्णय लिया है कि जहां भंडारण की कमी
है, वहां पर साढ़े 9 लाख मीट्रिक टन क्षमता के साईलोज तकनीक भंडारण बनाए जाएंगे।

खाद्य आपूर्ति राज्य मंत्रीने कहा कि प्रदेश की मंडियों में गेहूं की आवक बढ़ी है और अब तक 38 लाख मीट्रिक गेहूं की खरीद की जा चुकी है। उन्होंने कहा कि प्रदेश की मंडियों में 75 लाख मीट्रिक टन गेहूं की आवक की संभावनाहै। पिछले वर्ष प्रदेश में 68 लाख मीट्रिक टन गेहूं की आवक हुईथी।





----------------------------------------------------

Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   5862122
 
     
Related Links :-
जियो के मुफ्त ऑफर से उद्योग का राजस्व 11.7त्न घटा : जेफरीज
सोना 105 रुपये और चांदी 30 रुपये मजबूत
दलहनों के समर्थन मूल्यों में भारी वृद्धि
बिंगो ने लॉच किया नया स्मार्टवॉच टी-30
डीटीसी 1000 नई बसें खरीदेगा
भारत-कतर के बीच अतिरिक्त उड़ानें जल्द
शेयर बाजारों में गिरावट सेंसेक्स 14 अंक नीच
पंजाब का 118237.90 रूपए का बजट पेश
माइक्रोसॉफ्ट ने चंडीगढ़ में एसएमबी को सशक्त बनाया
मप्र में राशन दुकानों पर दो रुपए किलो बिकेगी ह्रश्वयाज