हरियाणा मेल ब्यूरो
17/04/2017  :  11:18 HH:MM
अच्छा सिनेमा अच्छी किताब पढऩे से भी अच्छा होता है : मनोज वाजपेयी
Total View  31

फि ल्म अभिनेता मनोज वाजपेयी ने कहा कि अच्छा सिनेमा अच्छी किताब पढऩे से भी अच्छा होता है। अच्छा सिनेमा देखने से अच्छे संस्कार मिलते है और सामाजिक कुरीतियों का अंत होता है।

इसलिए दर्शकों को हमेशा अच्छा सिनेमा देखने का प्रयास करना चाहिए। वे आज कुरुक्षेत्र में मैक के आडोटोरियम हाल में संस्कृति सोसायटी फार आर्ट एंड कल्चरल डिवैलपमेंट, जिला प्रशासन, सांस्कृतिक कार्यक्रम विभाग हरियाणा, हरियाणा कला परिषद व मल्टी आर्ट कल्चरल सैंटर कुरुक्षेत्र के संयुक्त तत्वाधान में आयोजित चार दिवसीय हरियाणा अन्तर्राष्ट्रीय लघु फिल्म महोत्सव के समापन समारोह के पहले सत्र का शुभारंभ करने के उपरांत दर्शकों से अपने मन की बात को सांझा कर रहे थे। इससे पहले फिल्म अभिनेता मनोज वाजपेयी, उपायुक्त सुमेधा कटारिया, फिल्म अभिनेता यशपाल शर्मा,फिल्म अभिनेता अखिलेन्द्र मिश्रा, महोत्सव के निदेशक धमेन्द्र डांगी, सयोंजक सचिव दिनेश गोयल,कार्यकारी निदेशक कमलजीत मोदगिल,डॉ. महा सिंह पुनिया,फिल्मी कलाकार दरियाव सिंह मलिक,देवराज सिरोहीवाल सहित अन्य लोगों ने दीप शिखा प्रज्जवलित कर विधिवत रूप से कार्यक्रम का शुभारंभ किया। इस दौरान उपायुक्त सुमेधा कटारिया ने फिल्म अभिनेता
मनोज वाजपेयी को स्मृति चिन्ह भेंट कर सम्मानित किया। फिल्म अभिनेता मनोज वाजपेयी ने अपने कैरियर के अनुभव को सांझा करते हुए कहा कि स्थानीय फिल्मों के विकास के लिए दर्शकों का होना बहुत जरूरी है। दर्शकों को मूलधारा के साथ जोडने का काम स्थानीय फिल्मों द्वारा किया जाता है और स्थानीय फिल्मों के विकास के लिए दर्शकों का जुडाव बहुत जरूरी है। उन्होंने कहा कि स्थानीय कलाकारों को अपने सामाजिक दायित्व का निर्वाह करते हुए फिल्मों और अभिनय में समाज हितैषी विषयों को शामिल करना चाहिए। इतना ही नहीं युवा पीढ़ी के व्यक्तित्व को सवांरने और प्रेरित करने का सिनेमा सबसे सशक्त माध्यम है। बच्चों को प्रेरित करने के लिए प्रतिष्ठावान व्यक्तित्व से जुडी फिल्मों को जरूर दिखाना चाहिए।

उपायुक्त सुमेधा कटारिया ने मेहमानों का स्वागत करते हुए कहा कि चार दिवसीय हरियाणा अन्तर्राष्ट्रीय लघु फिल्म महोत्सव में 12 देशों की 17भाषाओं में 65 फिल्में दिखाई गई है। इन फिल्मों को सभी दर्शकों ने खूब सराहा है और इसे नियमित गतिविधि के रूप में शामिल करने का आग्रह भी किया है। फिल्म अभिनेता यशपाल शर्मा ने मेहमानों का आभार व्यक्त किया। हरियाणा अन्तर्राष्ट्रीय लघु फिल्म महोत्सव के समापन समारोह में सुबह के सत्र में हरियाणवी फिल्मों के हाऊस फूल करने के गंभीर विषयों पर विषय विशेषज्ञों और दर्शकों को लेकर खुले मंच पर खुलकर विचार विर्मश सांझा किए गए। इस महोत्सव में फिल्म अभिनेता यशपाल
शर्मा, रामकिशोर, हरिश कटारिया, राम बलहारा, राजीव भाटिया, सीताराम पांचाल,फिल्मी कलाकार बेचैन,हास्य फिल्म कलाकार दरियाव सिंह मलिक ने हरियाणवी सिनेमा को एक मुकाम तक पहुंचाने पर चर्चा की गई। इन तमाम विषय विशेषज्ञों और दर्शकों के बीच बातचीत के दौरान यह तथ्य सामने आएं कि हरियाणवी फिल्मों के लिए दर्शकों का अकाल पडा हुआ है। जबकि साथ लगते पडोसी राज्य पंजाबी फिल्मों के हाऊस फुल रहते है। इस चर्चा में हरियाणवी फिल्मों के हाऊस फुल करने की राह को जानने का प्रयास किया गया। इस चर्चा के दौरान हरियाणवी फिल्मों की तकनीकी,कहानी के तथ्यों, निर्देशन और तमाम पहलुओं के साथ-साथ
योजना के अनुसार फिल्म को बनाने का प्रयास किया जाना चाहिए।





----------------------------------------------------

Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   18617
 
     
Related Links :-
ट्यूबलाइट से ५०० करोड़ रुपए के कारोबार की उम्मीद
करिश्मा ने दिलाई अभिनेत्रियों को अलग पहचान
सुनील ग्रोवर कॉमेडियन की तरह नहीं दिखते : सलमान
एंटी भूमिका निभाने में महारत राज बब्बर
जाह्नवी ने साइन की तीन फिल्मों की डील
दीपिका ने घरवालों के लिए काम से ली छुट्टी
अनिल कपूर के साथ अच्छा तालमेल : अनीस
जीवन में विभिन्न चीजों को आजमाना चाहती हैं नरिगस फाखरी
हमेशा से स्पाइडर मैन बनना चाहता था : टाइगर श्रॉफ
दीपिका पादुकोण एक जिम्मेदार बेटी!