healthprose viagra http://tramadoltobuy.com/ http://buypropeciaonlinecheap.com/
 
 
हरियाणा मेल ब्यूरो
20/04/2017  :  08:40 HH:MM
समूचा पश्चिमोत्तर लू की चपेट मे
Total View  17

पश्चिमोत्तर क्षेत्र पिछले कुछ दिनों से भीषण लू की चपेट में है जिससे आम जनजीवन प्रभावित रहा और अगले 36 घंटों तक गर्मी से राहत मिलने की भी संभावना नहीं है। मौसम केन्द्र के अनुसार क्षेत्र के कुछ इलाके प्रचंड लू की चपेट में है तथा रातें भी गर्म रहेंगी। इसके बाद 21 से 22 अप्रैल तक लू से राहत मिलने के आसार हैं और कहीं कहीं 45 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से धूल भरी आंधी के साथ बारिश या बूंदाबांदी की भी संभावना है । हरियाणा में नारनौल, हिसार सहित कुछ इलाकों में आज भी भीषण गर्मी और लू का सितम जारी रहा।

इन इलाकों मे पारा 45 डिग्री सेल्सियस से अधिक बना रहा। अंबाला तथा चंडीगढ़ का पारा 41 डिग्री रहा। पंजाब में राजस्थान से लगे इलाके बङ्क्षठडा में भी लू का प्रकोप बने रहने से जनजीवन पर असर पड़ा। शहर का पारा 44 डिग्री के पार रहा। अमृतसर में 42 डिग्री, हलवारा में 43 डिग्री, पटियाला में 43 डिग्री, लुधियाना में 43 डिग्री, पठानकोट में 40 डिग्री, दिल्ली में 42 डिग्री, श्रीनगर में 27 डिग्री और जम्मू में 41 डिग्री सेल्सियस रहा । हिमाचल में गर्मी तेज पडऩे लगी है तथा गर्मी के चलते कुछ इलाकों में पानी की आपूर्ति पर असर पड़ा है। पर्यटक मैदानी इलाकों की तपन से राहत पाने के लिये पर्यटन स्थलों पर पहुंच रहे हैं। शिमला का पारा 27 डिग्री,
कांगडा का 37, मनाली का 25, उना का 41 डिग्री, सोलन का 33, कल्पा का 23, सुंदरनगर का 35, भुंतर का 34, धर्मशाला का 32 और नाहन का पारा 33 डिग्री रहा ।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   4578248
 
     
Related Links :-
स्वच्छता को लेकर आयोजित की जाएगी इनामी प्रतियोगिता : कविता
पश्चिमोत्तर क्षेत्र में अंधड़ के साथ ओले और बारिश की संभावना
उत्तराखंड के ब्लड बैंकों में खून महंगा हुआ
दस में से हर तीसरा व्यक्ति हाईप्रटेैनशन का शिकार
एटना इंटरनेशनल ने लाँच की डिजिटल प्राथमिक स्वास्थ्य सेवा
करनाल में रोगी जागरूकता शिविर
पहले बच्चे पर सभी महिलाओं को मिलेंगे छह हजार रुपए
जागरूकता से ही होगा डेंगू का खात्मा : ब्रहम
हैल्प लाईन की गतिविधियों पर सख्ती से की जा रही है निगरानी
हड्डी रोग विशेषज्ञ और रेडियोलॉजिस्ट के बीच समन्वय जरूरी : बीओए