हरियाणा मेल ब्यूरो
20/04/2017  :  10:00 HH:MM
मिस्र में खुदाई में मिला तीन हजार साल पुराना मकबरा
Total View  73

मिस्र के पुरातत्वविदों ने नील शहर में खुदाई के दौरान 3,000 से अधिक साल पुराने एक मकबरे का पता लगाया है। पुरातत्व मंत्रालय ने आज बताया कि यह मकबरा लक्सर के नील शहर में दबा मिला है। यह यू•ारहाट का मकबरा है जो एक न्यायाधीश था। यहां पर एक खुली अदालत थी जिसमें एक आयताकार कक्ष, एक गलियारे और भीतर भी एक कक्ष बना हुआ था।

पुरातत्वविदों को मकबरे के कमरों से मूर्तियों का एक संग्रह, लकड़ी के मुखौटे और एक प्रकार का ढक्कन मिला है। दूसरे कक्ष में भी उत्खनन कार्य जारी है। इस साल के शुरू में, स्विडिश पुरातत्वविदों ने दक्षिणी शहर असवान के पास 12 प्राचीन मिस्र के कब्रिस्तानों की खोज की थी, जो लगभग 3,500 साल पुरानी थी।
इसी वर्ष मार्च में, मिस्र ने काहिरा के एक झुग्गी बस्तियों में एक आठ मीटर की मूर्ति का पर्दाफाश किया, जिसे माना जाता है कि यह राजा सामतिक प्रथम का था जो 664 से 610 बीसी तक शासन किया था। मिस्र के पर्यटन विकास प्राधिकरण के प्रमुख हिशम एल डेमेरी ने कहा कि देश में पर्यटन उद्योग बढ़ रहा है और लक्सर में होने वाली खोजों से पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा। उन्होंने कहा, Þइस तरह की खोजें मिस्र के पर्यटन उद्योग के लिए सकारात्मक खबर है, जो हम सब की •ारूरत है। हमें उम्मीद है कि राजनीति अस्थिरता से बुरी तरह प्रभावित हुए पर्यटन व्यापार पुनर्जीवित होगा।Þ 2011 में पूर्व राष्ट्रपति होस्नी मुबारक को अपदस्थ करने के लिए बड़े पैमाने पर हुए विरोध प्रदर्शनों के बाद मिस्र में पर्यटन उद्योग को काफी धक्का लगा था। आतंकवादी हमलों ने विदेशी पर्यटकों को भी इस क्षेत्र की तरफ विचलित किया है।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   5873548
 
     
Related Links :-
अमेरिकी विशेषज्ञ ने ओबीओआर के खिलाफ खड़े होने पर मोदी की तारीफ
अमेरिका को भारत में निवेश जारी रखना चाहिए : श्राइवर
मसूद पर प्रस्ताव ब्लॉक करने में कोई अंतर्विरोध नहीं : चीन
जापान और अमेरिका में नौसैन्य अभ्यास शुरू
नेपाल ने चीनी कंपनी के साथ हाइड्रो प्रोजेक्ट डील की रद्द
रूस का दावा आईएस की मदद कर रहा है अमेरिका
सैन्य सहयोग का फैसला अभूतपूर्व
इराक-ईरान सीमा पर, मौत का तांडव
पीएम मोदी ने की ट्रंप से मुलाकात
रूस से लडऩे साइबर हथियार क्षमता बढ़ाएगा नाटो