healthprose viagra http://tramadoltobuy.com/ http://buypropeciaonlinecheap.com/
 
 
समाचार ब्यूरो
21/04/2017  :  09:18 HH:MM
ईपीई पर इंटर-चेंज सुविधा का शीघ्र हो निर्माण
Total View  4

मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने केन्द्रीय सडक़ परिवहन राजमार्ग और जहाजरानी मंत्री नितिन गडकऱी से पलवल-अलीगढ़ सडक़ के लिए ईस्ट्रन पेरीफेरियल एक्सप्रैस-वे (ईपीई) पर इंटर-चेंज सुविधा का निर्माण कराने का अनुरोध किया है।

केन्द्रीय मंत्री श्री नितिन गडकऱी को सम्बोधित एक अर्ध-सरकारी पत्र में मुख्यमंत्री ने प्रदेश की विभिन्न चार मार्गी और छह मार्गी परियोजनाओं के क्रियान्वयन में रूचि लेने के लिए भी उनका आभार व्यक्त किया। मुख्यमंत्री ने कहा कि पलवल-अलीगढ़ सडक़ उ.प्र, से हरियाणा को जोडऩे वाली एक महत्वपूर्ण अन्तर्राज्यीय सडक़ है।
यह 126.137 किलोमीटर पर ईस्ट्रन पेरीफेरियल एक्सप्रैस-वे को क्रॉस करती है, जहां 30 मीटर स्पेन का अंडर-पास उपलब्ध करवाया गया है। वह भी बिना किसी इंटर-चेज सुविधा के। उन्होंने कहा कि ईस्ट्रन पेरीफेरियल एक्सप्रैस-वे के साथ पलवल-अलीगढ़ सडक़ को क्रॉस करने के लिए नजदीकी इंटर-चेज 134.948  किलोमीटर पर प्रदान किया गया है, जो आठ किलोमीटर से अधिक की दूरी पर है और यह 108.570 किलोमीटर पर बल्लभगढ़- अटेली-छैंसा सडक़ को क्रॉस करता है, जो पलवल-अलीगढ़ सडक़ से 17 किलोमीटर से अधिक की दूरी पर है। इस अन्तर्राज्यीय सडक़ के महत्व को देखते हुए पलवल-अलीगढ़ सडक़ के लिए ईपीई के साथ इंटर-चेंज सुविधा प्रदान करना उचित होगा। उन्होंने श्री गडकऱी से बेहतर यातायात के लिए भारत के राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचएआई) को आवश्यक निर्देश जारी करने का अनुरोध किया।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   5795957
 
     
Related Links :-
सुषमा की मदद से डेनियल घर लाया पाकिस्तानी पत्नी
डीडीए के साथ केंद्रीय खेल मंत्रालय करेगा मसौदे पर हस्ताक्षर
इनेलो ने जंतरम ंतर पर दिया धरना
बीईओ कार्यालय व स्कूल गेट पर नारेबाजी
राष्ट्रीय पुरस्कार जीतकर राज्य का नाम रोशन किया : बाजवा
राजनाथ सिंह से मिलीं महबूबा कहा, दो से तीन महीने लगेंगे हालात बदलने मे
किसानों की आय दुगनी करने के विजन पर होगी बैठक
बोले मुख्यमंत्री-आखिर वे कौन होते हैं हरियाणा का पानी रोकने वाले
मिशन इन्द्रधनुष अभियान 7 से 14 मई तक
संशोधित गरीबी रेखा सीमाओं को स्वीकार करने की स्वीकृति