हरियाणा मेल ब्यूरो
21/04/2017  :  09:31 HH:MM
बेटियों को अत्याचार से राहत
Total View  53

पंजाब राज्य महिला आयोग द्वारा राष्ट्रीय महिला आयोग के सहयोग से आज एन आर आई विवाहों के मुद्दे पर एक राष्ट्रीय सेमिनार महात्मा गांधी राज्य प्रशासनिक संस्थान (मैगसिपा) सैक्टर 26 में करवाया गया। सेमीनार में 8 राज्यों के महिला आयोगों द्वारा जालसाज विदेशी दूल्हों, जो विवाह के नाम पर मौजमस्ती करने आते हैं, से अपनी बेटियों के बचाने के लिये घरेलू अत्याचार रोकथाम कानून जैसा नया कानून बनाने हेतू एकमत हो गये।

मुख्य अतिथि के तौर पर राष्ट्रीय महिला आयोग की सदस्य रेखा शर्मा शामिल हुई जबकि डॉ तरीपूरना वैंकटरत्नम चेयरपर्सन महिला आयोग, तेलंगाना,लीला बेन अनकोलिया, चेयरपर्सन महिला आयोग, गुज़रात, डॉ. लोपामुद्रा बख्शीपातरा, चेयरपर्सन महिला आयोग, उड़ीसा, मिस जैनव चंदेल, चेयरपर्सन महिला आयोग, हिमाचल
प्रदेश, सुश्री कमलेश पंचाल चेयरपर्सन महिला आयोग, हरियाणा, विजया राहतकर चेयरपर्सन महिला आयोग, महाराष्ट्र,सरोजनी केंतूरा, चेयरपर्सन महिला आयोग, उत्तराखंड, विनय पटेल सदस्य सचिव, महिला आयोग, गुजरात और मैडम मंजूशा सदस्य सचिव महिला आयोग महाराष्ट्र भी विशेष तौर पर इस सैमीनार में शामिल हुये।
पंजाब राज्य महिला आयोग की चेयरपर्सन परमजीत कौर लांडरा ने कहा कि माता-पिता बड़े ध्यानपूर्वक और प्रेम से पली हुई बेटी की शादी करते समय अपनी हैसियत से अधिक खर्च करते हैं ताकि उनकी बेटी खुश रहे विदेशी दूल्हे के पूरी पृष्ठ भूमि की जांच करने में ढील कर जाते हैं जिस कारण शादीशुदा बेटियों का जीवन दुष्वार हो जाता है।

लूट का शिकार

रेखा शर्मा ने कहा कि राष्ट्रीय महिला आयोग द्वारा विदेशी दूल्हों के हाथों लूट का शिकार हुई बेटियों को न्याय दिलाने के लिये प्रयास किये जा रहें हैं और हमें भी बेटियों को पराई समझने की बजाये उनको पैरों पर खड़े करने पर अधिक जोर देना चाहिए। सैमीनार को संबोधित करते हुये पंजाब राज्य एन आर आई कमिशन के चेयरमैन जस्टिस आर के गर्ग (सेवा निवृत) ने कहा कि ऐसे विदेशी दूल्हे किसी अन्य के खर्च पर छुट्टी मनाने आते हैं और एक कन्या और उसके परिवार की जिंदगी बर्बाद कर देते हैं। ईश्वर सिंह आई पी एस, आई जी एन आर आई और महिला विंग ने कहा कि किसी भी लडक़ी की जब विदेश में शादी तय होती है तो उस लडक़े के पासपोर्ट की फोटो कॉपी अवश्य ले लेनी चाहिए क्योंकि पासपोर्ट से उस संबंधी हर प्रकार की जानकारी हासिल की जा सकती है और शादी के बाद भी दूल्हे के कहे एवं किसी गलत दस्तावेज़ पर हस्ताक्षर नही करने चाहिए क्योंकि इससे कई बार निर्दोष लड़कियों को ही दोषी बना दिया जाता है। सीनियर पत्रकार हमीर सिंह और एडवोकेट दलजीत कौर ने विचार रखे ग अतिरिक्त सतवीर कौर मनहेड़ा, उपचेयरमैन पंजाब राज्य महिला आयोग, बीर पाल कौर तरमाला, किरनप्रीत कौर धामी, दर्शन कौर और पूनम अरोड़ा, सदस्य पंजाब राज्य महिला आयोग उपिस्थत थे। 





----------------------------------------------------

Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   4960157
 
     
Related Links :-
बवाना उपचुनाव: केजरीवाल की फिर अग्नि परीक्षा
लंबा खिंच सकता है डोकलाम में चीन के साथ गतिरोध
जांगिड़ ब्राह्मण समाज के राष्ट्रीय अध्यक्ष बने नेमी चन्द शर्मा
शहीद लोंगोवाल की बरसी पर उमड़े लोग
मोदी, सोनिया, मनमोहन, राहुल और प्रियंका ने दी श्रद्धांजलि
पुलिस किसी भी स्थिति से निपटने में सक्षम : संधू
डोकलाम गतिरोध : भारत-चीन के आर्थिक संबंधों का नया आयाम
ट्रैंक्विल त्रिलोग्स नामक अनूठी चित्रकला प्रदर्शनी आज से
जाटों ने कैह्रश्वटन अभिमन्यु को दिखाए काले झंडे
पर्रिकर ने सामना के संपादकीय को बताया फर्जी खबरों पर आधारित