हरियाणा मेल ब्यूरो
21/04/2017  :  09:38 HH:MM
पहले परमाणु संयंत्र पुन:डिजाइन समझौते पर चीनी और ईरानी कंपनियां के बीच करार
Total View  36

ईरान के परमाणु कार्यक्रम को लेकर वर्ष 2015 में हुए अंतरराष्ट्रीय समझौते के मद्देनजर ईरानी परमाणु संयंत्र के पुन: डिजाइन के मामले में इस सह्रश्वताह के अंत में ईरान और चीन की कंपनियां पहले वाणिज्यक समझौते पर हस्ताक्षर करेंगी।

चीनी विदेश मंत्रालय ने आज यह जानकारी दी। दरअसल ईरान के परमाणु कार्यक्रम को लेकर पश्चिमी देश काफी पहले से ङ्क्षचतित थे कि वह इसकी आड़ में परमाणु सामग्री का निर्माण कर रहा है लेकिन ईरान ने बार-बार इसका खंडन किया । दो वर्ष पहले हुए समझौते में ईरान, अमेरिका, ब्रिटेन,फ्रांस,चीन ,रूस तथा जर्मनी ने हस्ताक्षर किए थे । अब अराक स्थित इस संयंत्र को दोबारा डिजाइन किया जाएगा ताकि इससे ह्रश्वलूटोनियम रेडियो एक्टिव का निर्माण न हो सके जिसका इस्तेमाल परमाणु बम बनाने में होता है।

चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता लु कांग ने बताया कि इस मामले में शुरुआती समझौते बीङ्क्षजग में ही हो गए थे और संयंत्र को दोबारा डिजाइन करने को लेकर रविवार को आस्ट्रिया की राजधानी विएना में समझौते पर हस्ताक्षर किए जाएंगें जो ईरान के परमाणु कार्यक्रम का एक अहम हिस्सा होगा। प्रवक्ता ने बताया कि 
अराक संयंत्र पर कार्यकारी समूह में चीन और अमेरिका संयुक्त प्रमुख हैं और इस मामले में प्रगति हो रही है और यह समझौता होने के बाद इसका दोबारा डिजाइन करने में काफी मदद मिलेगी। ईरान ने बार-बार कहा है कि 40 मेगावाट के भारी जल वाले इस परमाणु संयंत्र में कैंसर और अन्य बीमारियों के उपचार के
लिए रेडियो आइसोटोप का निर्माण होता है और उसका मकसद किसी भी तरह के परमाणु हथियार विकसित करना नहीं है । गौरतलब है कि अमेरिका के नए राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने ईरान के प्रति अपनी नीति की समीक्षा की है और हाल ही में अमेरिकी रक्षा मंत्री रैक्स टिलेरसन ने कहा था कि ईरान की गतिविधियां उकसावे
वाली हैं और वह मध्य एशिया के अन्य देशों में स्थिरता पैदा कर रहा है । उन्होंने कहा था कि समीक्षा में वर्ष 2015 के समझौते के अनुपालन में ईरान के सहयोग करने के अलावा सीरिया,इराक ,यमन और लेबनान के प्रति उसके रवैये की समीक्षा की जाएगी। प्रवक्ता ने हालांकि श्री टिलेरसन का नाम लिए बगैर कहा कि चीन
को उम्मीद है कि सभी पक्ष इसके क्रियान्वयन में सहयोग देंगे और परमाणु अप्रसार की दिशा में सकारात्मक प्रयास करेंगे ताकि मध्य एशिया में शांति और स्थिरता कायम हो सके ।





----------------------------------------------------

Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   980226
 
     
Related Links :-
चीन में भूस्खलन,141 लोगों के लापता होने की आशंका
श्रीलंकाई नौसेना ने आठ भारतीय मछुआरों को गिरफ्तार किया
कार बम धमाके में अफग़ानिस्तान दहला, 29 नागरिकों की मौत
इवांका ट्रंप और जैरेड कुशनर को चीन का न्यौता
फिलीपींस में बंधक संकट समाप्त
भारत की हार के बाद बांग्लादेशी युवक ने की आत्महत्या
अफगानिस्तान में पुलिस मुख्यालय पर हमला, कई पुलिसकर्मियों की मौत
बम विस्फोट में फ्रांस की महिला सहित तीन लोगों की मौत
लंदन अग्निकांड : मरने वालों की संख्या १२ हुई
इजरायली लेखक डेविड ग्रॉसमैन को मैन बुकर पुरस्कार