healthprose viagra http://tramadoltobuy.com/ http://buypropeciaonlinecheap.com/
 
 
हरियाणा मेल ब्यूरो
04/05/2017  :  10:03 HH:MM
डेढ़ दशक बाद मिला माता शीतला को न्याय: पं. अमरचंद
Total View  7

गुरुग्रामत्न सर्वशक्ति प्रदायिनी कही जाने वाली मां भगवती को भी न्याय के लिए 14 वर्ष तक इंतजार करना पड़ा और अब न्यायालय ने श्रीमाता शीतला मंदिर की जमीन पर चल रहे विवाद का फैसला माता मंदिर के पक्ष में किया है।
श्रीमाता शीतला देवी श्राइन बोर्ड के सदस्य व आचार्य पुरोहित संघ के अध्यक्ष पं. अमरचंद भारद्वाज ने कहा कि जैसा कहा जाता है कि मां के दरबार में देर है अंधेर नहीं, यही कहावत सुप्रीम कोर्ट ने भी चरितार्थ करते हुए देर ही सही लेकिन न्यायिक फैसला सुनाया है। पं. अमरचंद ने बताया कि सुप्रीम कोर्ट द्वारा गुरुग्राम तहसील व जिला गुरुग्राम आराजी खसरा नंबर 15475/2290/4/11547 4/2290/1 की जमीन जो मंदिर के साथ सेक्टर 12 रोड से सटी हुई है, के विरुद्ध दायर की गई एसएलपी को खारिज कर दिया गया है। जमीन का फैसला श्रीमाता शीतला देवी पूजा स्थल बोर्ड ग्राम के पक्ष में सुप्रीम कोर्ट द्वारा दिया गया है। पं. अमरचंद ने बताया कि उक्त जमीन का फैसला आने के बाद बुधवार को श्रीमाता शीतला देवी पूजा स्थल बोर्ड के मुख्य कार्यकारी अधिकारी वत्सल वशिष्ठ के साथ उपायुक्त द्वारा नियुक्त ड्यूटी मजिस्ट्रेट जयभगवान वत्स (तहसीलदार गुरुग्राम), बोर्ड सदस्य ब्रह्मप्रकाश आदि की मौजूदगी में उक्त जमीन को बोर्ड माता मंदिर के अधीन लिया गया। पं. अमरचंद ने कहा कि करीब सैकड़ों वर्ग गज श्रीमाता मंदिर को मिली है। इस जमीन के रिए मंदिर में आने वाली आने वाले श्रद्धालुओं को सुविधा प्रदान करने के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण है।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   3479310
 
     
Related Links :-
मुख्यमंत्री ने शिक्षा बोर्ड के चेयरमैन को इस्तीफा देने को कहा
सरकार पर नहीं लगा भ्रष्टाचार का दाग : मोदी
सिंगापुर-हांगकांग की यात्रा सफल रही : मुख्यमंत्री
सुपर एक्सप्रेस हाई-वे के निर्माण से खुलेंगे विकास के नए द्वार : बराला
दुर्गा अभियान की हो रही दुर्दशा : जयङ्क्षहद
भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान असम का मोदी करेंगे शिलान्यास
आर्थिक दावों पर श्वेतपत्र जारी करे सरकार : कांग्रेस
राजसिंह मान जदयू के राष्ट्रीय सचिव नियुक्त
बाबरी विध्वंस मामला : आडवाणी, जोशी, उमा को 30 को पेश होने का निर्देश
नागरिक जरूरी दस्तावेजों को ऑनलाइन सुरक्षित रख सकते हैं