हरियाणा मेल ब्यूरो
04/05/2017  :  10:03 HH:MM
डेढ़ दशक बाद मिला माता शीतला को न्याय: पं. अमरचंद
Total View  23

गुरुग्रामत्न सर्वशक्ति प्रदायिनी कही जाने वाली मां भगवती को भी न्याय के लिए 14 वर्ष तक इंतजार करना पड़ा और अब न्यायालय ने श्रीमाता शीतला मंदिर की जमीन पर चल रहे विवाद का फैसला माता मंदिर के पक्ष में किया है।
श्रीमाता शीतला देवी श्राइन बोर्ड के सदस्य व आचार्य पुरोहित संघ के अध्यक्ष पं. अमरचंद भारद्वाज ने कहा कि जैसा कहा जाता है कि मां के दरबार में देर है अंधेर नहीं, यही कहावत सुप्रीम कोर्ट ने भी चरितार्थ करते हुए देर ही सही लेकिन न्यायिक फैसला सुनाया है। पं. अमरचंद ने बताया कि सुप्रीम कोर्ट द्वारा गुरुग्राम तहसील व जिला गुरुग्राम आराजी खसरा नंबर 15475/2290/4/11547 4/2290/1 की जमीन जो मंदिर के साथ सेक्टर 12 रोड से सटी हुई है, के विरुद्ध दायर की गई एसएलपी को खारिज कर दिया गया है। जमीन का फैसला श्रीमाता शीतला देवी पूजा स्थल बोर्ड ग्राम के पक्ष में सुप्रीम कोर्ट द्वारा दिया गया है। पं. अमरचंद ने बताया कि उक्त जमीन का फैसला आने के बाद बुधवार को श्रीमाता शीतला देवी पूजा स्थल बोर्ड के मुख्य कार्यकारी अधिकारी वत्सल वशिष्ठ के साथ उपायुक्त द्वारा नियुक्त ड्यूटी मजिस्ट्रेट जयभगवान वत्स (तहसीलदार गुरुग्राम), बोर्ड सदस्य ब्रह्मप्रकाश आदि की मौजूदगी में उक्त जमीन को बोर्ड माता मंदिर के अधीन लिया गया। पं. अमरचंद ने कहा कि करीब सैकड़ों वर्ग गज श्रीमाता मंदिर को मिली है। इस जमीन के रिए मंदिर में आने वाली आने वाले श्रद्धालुओं को सुविधा प्रदान करने के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण है।





----------------------------------------------------

Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   3057557
 
     
Related Links :-
हरियाणा कृषि प्रधान प्रदेश है: मनीष ग्रोवर
भाईचारा बढ़ाने के लिए सरकार मना रही संतों-महापुरुषों की जयंतियां : राजीव जैन
पंजाब में आप और अकाली दल के बीच सांठगांठ : कांग्रेस
जीएसटी : देश की अर्थव्यवस्था सुधार में एक अहम कदम : मुख्यमंत्री
जींद बनेगा भौगोलिक सूचना तंत्र स्थापित करने वाला 5वां जिला
सिपाही के पदों का परिणाम घोषित
कृष्णा गहलावत करेंगी पूजा को सम्मानित
कविता जैन दादा भैया वार्षिकोत्सव में
बजाज वी ने किया अजेय भारतीयों का दूसरा संस्करण लांच
इंजीनियरों ने कर्नाटक के मंत्री से छंटनी रोकने को कहा