Breaking News
अस्थायी तौर पर जेट की सभी उड़ानें रद्द की गइ  |  मतदान में बुजुर्ग भी नहीं रहे पीछे कोई एम्बुलेंस से तो कोई व्हील चेयर पर वोट डालने पहुंचे  |  अमेरिका, ब्रिटेन और फ्रांस के प्रस्ताव को किया खारिज मसूद अजहर को लेकर चीन के रुख में कोई बदलाव नहीं  |  गुड फ्रायडे : त्याग और बलिदान का दिन  |  दिनों दिन बढ़ती जा रही है वोटिंग ताऊ की लोकप्रियत  |  राइडिंग को बनाए रोमांचक! होंडा ने भारत में शुरू किया अपना एक्सक्लुसिव प्रीमियम रीटेल होंडा बिग विंग  |  प्रशासन, विभागों और आमजन के बीच में तालमेल आवश्यक : एक्सपेंडिचर ऑब्जर्वर  |  राव अभय सिंह के भाजपा कार्यालय का राव इंद्रजीत सिंह ने किया उद्घाटन ‘विकास के हर कार्य का हिसाब दंूगा’  |  
 
 
समाचार ब्यूरो
08/05/2017  :  09:24 HH:MM
किसान को जोखिम फ्री बनाने में हरियाणा सबसे आगे : धनखड
Total View  537

राज्य के हर किसान को जोखिम फ्री बनाने में हरियाणा सबसे आगे है। जब भी किसान की उंगली में कांटा भी लगता है तो दर्द प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी तक को भी होता है। हर किसान के दुख: दर्द में यह सरकार सांझीदार है। जब भी किसान पर किसी भी तहर की दिक्कत आई तो सरकार किसानों की मदद में खड़ी मिली।

किसान की खराब हुई फसल के मुआवजे देने से लेकर गा्रम के विकास की परिकल्पना साकार करने की दिशा में वर्तमान सरकार जुटी है। ये कहना है कृषि एवं पंचायत विकास मंत्री ओपी धनखड़ का। कैथल के गांव बालू में किसान खेतीहर मजदूर एवं पंचायत प्रतिनिधि सम्मेलन में धनखड़ ने कहा कि इनेलो और कांग्रेस ने
अपने कार्यकाल में किसानों के लिए ऐसा कुछ विशेष नहीं किया, मगर अब जब भाजपा सरकार किसानों की मदद करती है तो विपक्षी जनता को भ्रमित करने और बरगलाने का काम करते हैं।

राज्य को 11 लाख टन खाद की जरूरत

राज्य के किसानों को जोखिफ फ्री बनाने की दिशा में उठाए गए कदमों का हवाला देते हुए कृषि मंत्री ओपी धनखड़ ने कहा कि जब 26 अक्तूबर को भाजपा की सरकार बनी और काम संभाला तो गेहूं की बुआई पर खाद का संकट आया था। उस समय अधिकारियों से पता किया तो पाया कि हुड्डा सरकार केवल 35 हजार टन खाद स्टॉक में छोड़ गई थी। जबकि हरियाणा में 11 लाख टन खाद की जरूरत होती है। उसके बाद हमने व्यवस्था की और आज तक दोबारा खाद की कोई कमी नही होने दी। धनखड़ ने कहा कि उसी दिन मैंने समझ लिया था कि जाने वाली सरकार हमारे रास्ते में कांटे बोकर गई है और हमें सावधानी से काम करना है। उन्होंने कहा कि उसके बाद गेहूं की फसल पर भारी ओलावृष्टि हुई और नुकसान की भरपाई के लिए सरकार ने प्रति एकड़ 12 हजार का मुआवजा दिया। बाद में कपास भी मक्खी का प्रकोप आया तो कपास के किसानों को भी मदद दी। इस तरह सरकार ने पहले ही वर्ष में किसानों केा 2200 करोड़ का मुआवजा बांटा। जो
कि रिकार्ड है। उन्होंने कहा कि किसानों की  आय दुगुनी करने और उन्हें जोखिम फ्री बनाने के लिए प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना आरंभ हुई।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   208304
 
     
Related Links :-
मतदान में बुजुर्ग भी नहीं रहे पीछे कोई एम्बुलेंस से तो कोई व्हील चेयर पर वोट डालने पहुंचे
प्रशासन, विभागों और आमजन के बीच में तालमेल आवश्यक : एक्सपेंडिचर ऑब्जर्वर
हरियाणा में भाजपा ने इन 10 चेहरों पर खेला दांव
आतंकवाद को घाटी के ढाई जिलों तक सीमित करने में सफल रही सरकार: मोदी
गुजरात को मुआवजा देने पर कमलनाथ ने पीएम को घेरा
पश्चिमी दिल्ली की जनता के बीच बहुत लोकप्रिय है पत्रकार सुनील सौरभ
बाला प्रीतम हरक्रिशन जी का जोति ज्योति समाने का गुरूपर्व बड़ी श्रद्धापूर्वक मनाया गया
भगवान महावीर जयंती पर विभिन्न धार्मिक और सामाजिक कार्यक्रम
विपक्ष विहीन लोकसभा क्षेत्र है गुरुग्राम राव इंद्रजीत के मुकाबले में कोई नहीं : उमेश अग्रवाल
महावीर जयंती पर निकाली प्रभात फेरी