15/05/2017  :  14:42 HH:MM
गरीबी के बाद भी पैर गंवा चुके बेटे का करवाया इलाज
Total View  53

बाकी माओं का संघर्ष सिटी के डा. अंबेडकर नगर में रहने वाली गीता रानी जैसा नहीं है। परिवार में बेअंत गरीबी तो पति डेढ़ दशक से मानसिक रूप से बीमार... चार बच्चे पालने के लिए शुरू किया कोठियों में काम करना लेकिन कमाई पूरी नहीं पड़ी।
बड़े बेटे को साथ काम पर ले जाने लगी और किसी तरह उसने दसवीं भी की। हालात सुधारने के लिए उसे दुकान पर नौकरी करनी पड़ी। गीता रानी कहती हैं, उन्होंने छोटे दो बेटों बेटी की पढ़ाई के लिए बड़े बेटे अमर की पढ़ाई छुड़वा कर काम पर लगा दिया। बेटे आकाश मेहरा आजाद मेहरा बड़े हुए तो हाकी खेलने लगे। दोनों को इंटरनेशनल खिलाड़ी बनाने का सपना देखा पर 23 नवंबर, 2012 को कैंट रेलवे स्टेशन पर हादसे में आकाश की दोनों टांगें कट गईं। तंदरुस्त होने में ही तीन साल लग गए। आकाश वीर वबरीक चौक में एपीजी स्कूल में पढ़ता था। वह हिमाचल में पंजाब की तरफ से खेलने गया था। वहां जाकर पता लगा कि सर्टिफिकेट घर पर ही रह गए हैं। अगले दिन जम्मू तवी ट्रेन में बैठकर वापस आया। तभी जालंधर कैंट स्टेशन पर उतरते हुए, पीछे से धक्का लगा और वह नीचे गिर गया। हादसे ने उसकी दोनों टांगें छीन लीं। वह तीन साल बेड पर रहा। मां होने के नाते बेटे को फिर से तैयार किया दोबारा खेल के मैदान में भेजा है। अब वह पैरा ओलंपिक्स के लिए दोबारा खेल मैदान में उतर चुका है।





----------------------------------------------------

Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   5076264
 
     
Related Links :-
बेसहारा लोगों के लिए नेत्र जांच शिविर
अच्छे स्वास्थ्य के लिए साइकिल को दिनचर्या में शामिल करें : पांडुरंग
140 मरीजों को स्वास्थ्य जांच शिविर का मिला लाभ
पंजाब में स्वाइन फ्फलू को काबू करने के लिए मुहिम तेज
उप्र में स्वाइन फ्लू के मरीजों की संख्या बढक़र 1155 पहुंची
‘फर्स्ट-एड’ तथा ‘होम नर्सिंग’ का कोर्स अनिवार्य
पर्यावरण बचाओ और जीवन बचाओ जागरूकता अभियान
आज और कल बारिश की उम्मीद, पारा बढ़ा
विटामिन डी की कमी भारत में चिंताजनक स्तर पर
पेयजल आपूर्ति बुनियादी ढ़ांचे को टेकओवर नगर निगम ने