समाचार ब्यूरो
15/05/2017  :  18:07 HH:MM
हड्डी रोग विशेषज्ञ और रेडियोलॉजिस्ट के बीच समन्वय जरूरी : बीओए
Total View  322

बदलती जीवनशैली में जंकफूड के तरफ बढ़ते आकर्षण और समय के अभाव में व्यायाम को तरजीह नहीं देने जैसी प्रवृत्ति से लोगों में बढ़ रहे घुटने के दर्द की समस्या ने हड्डी रोग विशेषज्ञों के सामने चुनौती खड़ी कर दी है। ऐसे में घुटनों के बेहतर इलाज के लिए ऑर्थोपैडिक और रेडियोलॉजिस्ट के बेहतर संवाद और समन्वय का होना बेहद जरूरी है।
बिहार ऑर्थोपैडिक एसोसिएशन (बीओए) की ओर से आज यहां घुटने की रेडियोलॉजी विषय पर आयोजित कार्यशाला में एसोसिएशन के अध्यक्ष एवं पटना मेडिकल कॉलेज अस्पताल (पीएमसीएच) में हड्डी रोग के विभागाध्यक्ष डॉ. वी़ के़ सिन्हा ने बताया कि कार्यशाला में रेडियोलॉजिस्ट और हड्डी रोग विशेषज्ञों ने नई तकनीक की जानकारी साझा की। उन्होंने कहा कि हड्डी रोग के शल्य चिकित्सकों और रेडियोलॉजिस्टों के बीच संवाद और समन्वय बेहद जरूरी है ताकि दोनों मरीज की तकलीफ के संबंध में सटीक जानकारी लेकर एक दूसरे की अपेक्षाओं को पूरा कर सकें। वहीं, बीओए के सचिव एवं पीएमसीएच के ऑर्थोपैडिक विभाग में सहायक प्रोफेसर डॉ. राजीव आनंद ने कहा कि कई मामलों में चिकित्सक मरीज के एक्स रे, मैगनेटिक रेजोनेंस इमेजिंग (एमआरआई), कम्ह्रश्वयूटेड टैमोग्राफी (सीटी) स्कैन और अल्ट्रा साउंड के ह्रश्वलेट को नहीं बल्कि रिपोर्ट को देखकर मरीज का इलाज करते हैं। रिपोर्ट और वास्तविक स्थिति में कई बार थोड़ा-बहुत अंतर रहता है जिससे कठिनाई उत्पन्न होती है।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   8989530
 
     
Related Links :-
हलाली डैम स्थित गौशाला में 545 दिनों में 2948 गायों की मौत
एम्स से संसद तक मार्च के लिए आज जुटेंगे 10 हजार डॉक्टर
रक्तदान की मुहिम को जन आंदोलन बनाने का आहवान
पंजाब में खोले जाएंगे पांच सरकारी मेडिकल कालेज
केन्द्र सरकार देश के नागरिकों के स्वास्थ्य के प्रति प्रतिबद्घ : किरण खेर
योग से रहेंगी स्वस्थ और आकर्षक
इस प्रकार गोरा होगा रंग
अधिक मीठा खाने से बचें
अपने लीवर का रखें उचित ध्यान
डेंगू इलाज के अनुसंधान पर भारत सरकार संजीदा नहीं!