समाचार ब्यूरो
18/05/2017  :  11:07 HH:MM
झारखंड से खो-खो में सोना जीती बेटियों का सम्मान
Total View  339

झारखंड की राजधानी रांची में आयोजित पांचवी जूनियर खो खो मार्डन प्रतियोगिता में सोना जीतकर लौटी बेटियों का बुधवार को मनाना पहुंचने पर सम्मान किया गया। खो खो एसोसिएशन के प्रदेश सचिव व जिला प्रधान निर्मल कादियान ने उन्हें मिठाई खिलाकर जीत की बधाई देते हुए पुरस्कृत किया।

गांव की दो खिलाड़ी मुकेश व अंजू का इंडिया कैंप के लिए भी चयन हुआ है। बेटियों की जीत से पूरे गांव में खुशी का माहौल है। कोच रविंद्र कुमार ने बताया कि झारखंड खो खो मार्डन एसोसिएशन की ओर से रांची स्थित केंद्रीय प्रशिक्षण संस्थान गृह रक्षा वाहिनी प्रांगण में 12 से 14 अप्रैल तक तीन दिवसीय पांचवी जूनियर राष्ट्रीय
मार्डन खो खो बालक बालिका प्रतियोगिता का आयोजन हुआ था। जिसमें देश भर से पच्चीस स्टेट की टीमों ने भाग लिया। लड़कियों में हरियाणा की टीम फाइनल में पहुंची और पश्चिम बंगाल की टीम को 18-13 से मात देकर चैम्पियन बनते हुए गोल्ड पर कब्जा खिताब जीतकर प्रदेश व अभिभावकों का नाम रोशन किया। टीम में अकेले मनाना गांव से पांच बेटियां मुकेश रानी, अंजू, मीनू, रेनू व आट्टा गांव से खेल रही थी। जिनमें से इंडिया कैंप के लिए मनाना गांव की मुकेश रानी व अंजू का चयन हुआ है। वहीं लडक़ों की टीम भी क्र्वाटर सेमीफाइनल तक पहुंची। जिसमें मनाना से प्रिंस अकेला टीम में शामिल था। इस अवसर पर मार्डन खो खो एसोसिएशन के जिला सचिव राजेश राठी, प्रिंसिपल सरिता, महिला सरपंच पति संदीप, रत्न लाल, समिता गोयल, राजेश दहिया, जितेंद्र, शीला, वीरभान, मीनाक्षी, धर्मपाल पंच आदि मौजूद थे।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   4216215
 
     
Related Links :-
एशियाई खेलों के कोचिंग कैंप से बाहर हुई हरियाणा की फोगाट बहनें
शशांक मनोहर दोबारा बने आईसीसी चेयरमैन
मुंबई और पंजाब के बीच ‘करो या मरो’ का मुकाबला आज
सुशील को कभी डांटने की जरूरत नहीं पड़ी : सतपाल
फुटबाल में भी बेहतर करियर : शेर सिंह चौहान
प्रणीत और समीर आस्ट्रेलियाई ओपन बैडमिंटन के क्वार्टर फाइनल में पहुंच
चेन्नई से राजस्थान रॉयल्स की कड़ी परीक्षा
पट्टीकल्याणा की पहलवान बेटी को किया गया सम्मानित
हरियाणा में लड़कियों को ज्यादा सुविधाएं मिल रही है : मनु भाकर
पंजाब के दो पावर लिटरों ने जीते स्वर्ण पदक