हरियाणा मेल ब्यूरो
20/05/2017  :  08:34 HH:MM
पाकिस्तान ने मुंह की खाई जाधव की सजा पर रोक
Total View  36

भारत को आज एक बड़ी राजनयिक जीत हासिल हुयी जब अंतर्राष्ट्रीय न्यायालय ने पाकिस्तान की सभी दलीलों को खारिज करते हुये नौसेना के पूर्व अधिकारी क ु ल भ ू ष ण् ा जाधव की फांसी की सजा पर अंतिम फैसला आने तक रोक लगा दी।

हेग स्थित पीस पैलेस में अंतर्राष्ट्रीय न्यायालय के अध्यक्ष रोनी अब्राहम ने इस मामले में फैसला सुनाते हुए पाकिस्तान सरकार को कड़ा निर्देश दिया कि वह यह सुनिश्चित करे कि न्यायालय का अंतिम आदेश आने तक श्री जाधव को फांसी नहीं दी जायेगी। इसके लिए वह जरूरी कदम उठाये और उनकी जानकारी न्यायालय को दे। न्यायालय का यह निर्देश इसलिए अहम है कि पाक ने अपनी दलील के दौरान ऐसा कोई आश्वासन नहीं दिया कि मामले में अंतिम फैसला आने तक वह श्री जाधव की साा पर अमल नहीं करेगा। न्यायालय ने श्री जाधव को विएना संधि के अनुच्छेद 36 के तहत राजनयिक संपर्क दिये जाने की भारत की अपील को सही ठहराया है और पाकिस्तान की इस दलील को खारिज कर दिया कि श्री जाधव का मामला न्यायालय के अधिकार क्षेत्र में नहीं आता। न्यायालय की 11 सदस्यीय ज् यूरी ने अपने सर्वसम्मत फैसले में भारत द्वारा विएना संधि के तहत उठाये गये सवालों को जाया माना। उसने स्वीकार किया कि पाकिस्तान दुर्भावना से प्रेरित है और श्री जाधव की जान खतरे में है।

न्यायालय ने कहा कि पाक ने संकेत दिया है कि आगामी अगस्त तक श्री जाधव को फांसी नहीं दी जाएगी लेकिन उसने ऐसा कोई आश्वासन नहीं दिया है कि मामले में अंतिम फैसला आने तक साा पर अमल नहीं करेगा। पाकिस्तान के रुख को देखते हुये सजा पर रोक लगाने का फैसला देना जरुरी है। पाकिस्तान की सैन्य अदालत ने फांसी की सजा सुनायी थी। भारत ने कड़ा विरोध जताते हुए पाकिस्तान से श्री जाधव के विरुद्ध आरोपपत्र तथा मुकदमे के अन्य दस्तावेा देने को कहा था लेकिन उसकी ओर से कोई भी जवाब नहीं मिलने पर उसने अंतर्राष्ट्रीय न्यायालय का दरवाजा खटखटाया था। न्यायालय ने नौ मई को श्री जाधव की साा पर अंतरिम रोक लगा दी थी और 15 मई को इस मामले में भारत और पाक की दलीलें सुनने के बाद फैसला सुरक्षित रख लिया था।

वरिष्ठ वकील हरीश साल्वे ने न्यायालय में विस्तार से भारत का पक्ष रखा था। अंतर्राष्ट्रीय न्यायालय का फैसला आते ही देश भर में खुशी की लहर दौड़ गयी। प्रधानमंत्री ने विदेश से बात की तथा अदालत के फैसले और वरिष्ठ अधिवक्ता हरीश साल्वे एवं उनकी टीम के प्रयासों पर संतोष व्यक्त किया। श्रीमती स्वराज ने कहा
कि अंतर्राष्ट्रीय न्यायालय के आदेश से कुलभूषण जाधव के परिवार एवं भारत की जनता को बड़ी राहत मिली है।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   4469290
 
     
Related Links :-
हमारा रिश्ता किसी से खराब नही
तेजस्वी के साथ राहुल ने किया लंच, राजनीतिक गलियारे में हलचल
मां की पुकार सुन पसीज गया फुटबॉलर से आतंकी बने माजिद का दिल
नवनिर्वाचित उपाध्यक्ष जोगिन्द्र महेश्वरी सम्मानित
‘अपनी जड़ों से जुड़ो ’ प्रोग्राम को हरी झंडी
बच्चों को अच्छे संस्कार देना बहुत आवश्यक : मुख्यमंत्री खट्टर
नूंह जिलावासियों को लगभग 119 करोड़ रुपए की सौगाते
आधार नामांकन का उद्देश्य सामाजिक लाभों से वंचित रखना नहीं है
पूर्व वित्त मंत्री कैह्रश्वटन अजय सिंह यादव का स्वागत
ग्रामीणों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है