हरियाणा मेल ब्यूरो
20/05/2017  :  08:45 HH:MM
कुछ अधिकारी इस दिशा में गंभीर नही
Total View  31

सरकार एवं प्रशासन के अधिकारियों को हिदायत है कि वे लोगों की समस्या का समाधान निर्धारित अवधि में करवाना सुनिश्चित करें लेकिन कुछ अधिकारी इस दिशा में गंभीर नहीं है। 30 जनवरी को समपन्न हुई जिला लोकसपंर्क एवं कष्ट निवारण समिति की बैठक में शिकायत की गई थी कुएं की जगह लगी नाजायज चार कुंर्डिय़ा उठाने बारे जो आबादी के भीतर है इस पर उपायुक्त कार्यालय की ओर से कार्यकारी अधिकारी नगर निगम को 3 फरवरी को पत्र लिखा गया।

गांव निवासी निर्मल सिंह राणा पुत्र अमर सिंह राणा द्वारा 30 जनवरी को शहरी स्थानीय निकाय मंत्री कविता जैन की अध्यक्षता में जिला लोक संपर्क एवं कष्ट निवारण समिति की समपन्न हुई बैठक में आवेदन पत्र दिया गया था। उपायुक्त कार्यालय द्वारा नगर निगम के अधिकारियों को लिखा गया था कि मामले में शिकायत कर्ता को व्यक्तिगत तौर पर शामिल करके शिकायत का प्राथमिकता के आधार पर समाधान करें। शिकायतकर्ता द्वारा स्वयं हस्ताक्षरित समाधान संबंधी सहमति की रिपोर्ट 10 दिन के अंदर-अंदर जिला सचिवालय के कार्यालय 318 दूसरी मंजिल जिला सचिवालय में दस्ती भिजवाई जाएं। उपायुक्त कार्यालय द्वारा नगर निगम में भिजवाएं
गए पत्र की एक कॉपी शिकायतकर्ता एवं मंत्री महोदय को भी भेजी गई थी। शिकायतकर्ता का कहना है कि आज तक नगरर निगम का कोई भी अधिकारी इस समस्या के समाधान के लिए नहीं आया और कुर्डिय़ों के ढेर अभी तक लगे हुए है। उनका कहना है कि वर्तमान सरकार गांवों में शहरों की तर्ज पर साफ सफाई की ओर विशेष तव्वजो दे रही है ताकि गांवों के लोगों को भी साफ सुथरा वातावरण मिले और लोगों का सरकार एवं प्रशासन की कार्य प्रणाली में ओर विश्वास बढ़े।





----------------------------------------------------

Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   326234
 
     
Related Links :-
विधानसभा में नारेबाजी और हंगामा जारी
एयरपोर्ट पर कृषि मंत्री का जोरदार स्वागत
अंबाला, गुरुग्राम, फरीदाबाद, हिसार और रोहतक रेंजों में जिला कार्यालय
4036 आवारा पशुओं का किया पुर्नवास : पांडुरंग
नीदरलैंड का एक शिष्टमंडल
लिंक अधिकारी के रूप में नियुक्ति
खंड बरवाला, जिला पंचकूला में शामिल
शिवसेना का कोविंद को समर्थन डीसीसीबी से जुड़ा हो सकता है : चिदंबरम
आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस में प्रतिभाओं की मांग आपूर्ति से अधिक
कर्नाटक में किसानों के फसल ऋण माफ