समाचार ब्यूरो
12/06/2017  :  09:19 HH:MM
हरियाणा के पांच सौ ट्रक मध्य प्रदेश में फंसे
Total View  321

मध्यप्रदेश के किसान आंदोलन का असर हरियाणा के परिवहन व्यवसाय पर पड़ रहा है। हरियाणा के करीब पांच सौ ट्रक मध्यप्रदेश , राजस्थान और महाराष्ट्र में फंसे हैं। ट्रक एसोसिएशन के अध्यक्ष संत प्रकाश राजलीवाला ने आज यहां बताया कि हरियाणा के लगभग 500 ट्रक मध्यप्रदेश, राजस्थान और महाराष्ट्र में फंस गए हैं। यह गनीमत है कि अभी उनके क्षतिग्रस्त होने की रिपोर्ट नहीं है।

उन्होंने बताया कि हरियाणा से दक्षिण भारत में हैदराबाद और नागपुर जाने वाले ट्रकों को आंदोलन से प्रभावित क्षेत्रों से गुजरना होता है। उस दिशा में जाने वाले ज्यादा ट्रक गुडग़ांव और फरीदाबाद से जाते हैं। हरियाणा से स्टील पाइह्रश्वस, ह्रश्वलास्टिक दाना एवं लोहे की ह्रश्वलेट, विज्ञान का सामान आदि वहां भेजे जाते हैं और
वहां से आम, टमाटर,गेहूं , बिनौला व सोयाबीन आदि लाए जाते हैं। हरियाणा के ट्रक मालिकों ने अपने चालकों को निर्देश दिए हैं कि जब तक स्थिति सामान्य नहीं हो जाती तब तक नया गांव, कोटा एवं नागपुर आदि स्थानों पर अपने वाहनों को सुरक्षित स्थानों पर खड़ा कर दें और पुलिस की सुरक्षा के लिए प्रार्थना करें। फिलहाल मध्यप्रदेश और महाराष्ट्र की नयी बुङ्क्षकग रोक दी गई है।

हिसार में सबसे पुरानी जयभारत ट्रांसपोर्ट के स्वामी नरेन्द्र कुमार ने बताया कि मध्यप्रदेश में किसानों के आंदोलन का असर उत्तर भारत और दक्षिण भारत के अंतरराज्यीय ट्रांसपोर्ट पर हुआ है और सैंकड़ों ट्रक फंस गए हैं। नए कारोबार में रूकावट आ गई है। हरियाणा के पड़ोसी राज्यों हिमाचल, पंजाब, उत्तर प्रदेश, राजस्थान और दिल्ली की बुङ्क्षकग सामान्य है।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   7561687
 
     
Related Links :-
आरबीआई ने फर्जी वेबसाइट से सचेत रहने की चेतावनी जारी की
तिलक करके विदा करेगी महिला मोर्चा की कार्यकता
वशिष्ठ गोयल ने किया रैली स्थल का दौरा
जम्मू-कश्मीर विधानसभा में लगे पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे
भगवंत मान ने संसद में मुद्दे उठाने का बनाया रिकार्ड
हरियाणा को एक आदर्श राज्य बनाने में यूएनडीपी से मांगा सहयोग
युवा खाद्य प्रसंस्करण उद्योग विकसित करें : राष्ट्रपति
‘आधार’ न होने पर इस्तेमाल ईएमएस : लंदन कर सकते हैं वोटर कार्ड
उत्तराखंड की राजधानी गैरसैंण के लिए प्रधानमंत्री से गुहार उत्तराखंडियों ने प्रेस क्लब से संसद तक किया कूच
शहादत का कर्जदार है पूरा देश : सुभाष बराला