समाचार ब्यूरो
13/06/2017  :  09:20 HH:MM
हिसार बाल सुधार गृह से फरार अपराधियों का सुराग नहीं
Total View  412

हरियाणा में हिसार के बाल सुधार गृह से सुरक्षा गार्ड को घायल करके फरार हुए छह बाल अपराधियों का 24 घंटे बाद भी कोई सुराग नहीं मिला है। वारदात के बाद से ही पुलिस और सीआईए की सात टीमें फरार हुए इन बाल अपराधियों की तलाश में जुटी हुई है लेकिन इन टीमों को अभी तक सफलता नहीं मिली है ।

यहां के बरवाला रोड़ स्थित बाल सुधार गृह में रखे गए रोहतक के चार, झज् जर और भिवानी का एक-एक बाल अपराधी रविवार देर शाम को फरार हो गए थे। फरार हुए अपराधियों में हत्या का एक आरोपी भी शामिल है। मिली जानकारी के मुताबिक रविवार देर शाम पानी की कैन देने के लिए बैरक में एक कर्मचारी पहुंचा। पानी
देने के लिए जैसे ही उसने गेट खोला तो बैरक में मौजूद बाल अपराधियों ने उसे अंदर खींच लिया। कर्मचारी को बैरक के अंदर बंद कर बाहर से कुंडी लगा दी और गेट पर बैठे गार्ड के सिर पर डंडे और रॉड से प्रहार कर दिया जिससे वह गार्ड घायल हो गया। इसके बाद अपराधी मुख्य दरवाजे की कुंडी खोलकर फरार हो गए। बैरक में बंद कर्मचारी ने शोर मचाकर अन्य कर्मचारियों को बुलाया। कर्मचारी ने अपने साथ हुई मारपीट और बाल अपराधियों की फरारी की बात बताई। इसके बाद सदर थाना पुलिस को सूचना दी गई। सूचना मिलते ही पुलिस ने बाल अपराधियों की धरपकड़ के लिए इलाके की नाकेबंदी कर दी तथा कई टीमों को तलाश अभियान पर लगा दिया।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   6539994
 
     
Related Links :-
सब्जी मंडी या फिर रेत-बजरी के गोदाम! सब्जी मंडी में चल रहा रेत-बजरी का व्यापार, आढ़ती हो रहे परेशान
मालवा में मूसा की दस्तक से खुफिया तंत्र सतर्क, हाई अलर्ट
रॉबर्ट वाड्रा के सुखदेव विहार दफ्तर पर ईडी का छापा
एम3एम बिल्डर पर इतना मेहरवान क्यों है नगर निगम : राजेश यादव
बुलंदशहर हिंसा मामले में चार गिरफ्तार, सामान्य हो रहे हालात
एससी-एसटी मामलों के निपटान के लिए बनेगी विशेष अदालत
जिला कोर्ट ने दिए 7 तहसीलदर व 14 बिल्डरों पर मामला दर्ज करने के आदेश गुरुग्राम मानेसर तहसील में की गई थी करोड़ों की गड़बड़ी
20 साल बड़े जीजा के साथ करवाई जा रही थी नाबालिग की शादी, रूकवाइ
एक्साइज शुल्क की वसूली जमानतदार से करने पर हाईकोर्ट में याचिका
आर्थिक भगोड़ो के प्रत्यर्पण के लिए वैश्विक सहयोग आवश्यक