समाचार ब्यूरो
18/06/2017  :  10:07 HH:MM
साहित्य में हास्य व्यंग्य का समकालीन परिदृश्य पर गोष्ठी
Total View  338

चंडीगढ़त्नहरियाणा साहित्य अकादमी द्वारा साहित्य में हास्य व्यंग्य का समकालीन परिदृश्य विषय पर चर्चा व हास्य व्यंग्य पर एक गोष्ठी का आयोजन किया गया। इस आयोजन की अध्यक्षता प्रसिद्ध नाटककार, रंगकर्मी डॉ़ वीरेन्द्र मेहंदीरत्ता जी ने की। कार्यक्रम में विशिष्ट अतिथि के रूप में प्रसिद्ध व्यंग्यकार श्री प्रेम जनमेजय जी, दिल्ली से पधारे। व्यंग्यकार श्री दीपक खेतरपाल ने अपनी कविता मुहूर्त में कहा, नया-नया श्मशान घाट बना था, आज इसका मुहूर्त था, बना हुआ था संशय कि नेता जी खुद आयेंगे या लोग उन्हें कंधों पर लायेंगे। कवि वीरेन्द्र ने कहा, जहां बच्चा बेचारा माँ के लाड को तरसे, कुता बैठे गोदी में, घूमे महंगी कारों में तो समझ लेना शहर आ गया।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   4095500
 
     
Related Links :-
प्रियंका के प्रोडक्शन हाउस का राज
हरियाणवी हास्य, संगीत एवं नृत्य के रंग, महाबीर गुड्डू के संग
निकी वालिया और समीर सोनी को किया साइन
भारतीय सिनेमा आईफा सप्ताहांत एवं पुरस्कार 2018 का सबसे बड़ा उत्सव बैंकॉक मे
मराठी फिल्म में फिर नजर आएंगी प्रियंका
गर्मी भी नहीं आ सकी रोहित पुरोहित के रास्ते में
आईफा का मंच होस्ट करने का आर्यन को पहला मौका!
एएलटी-बालाजी ने बॉलीवुड अभिनेत्री संदीपा धर को क्राइम ड्रामा द फैमिली इट्स ए ब्लडी बिजनेस के लिए साइन किया
मिक्स्ड मार्शल आर्ट सीख रहे हैं एक्टर अंकित गुप्ता
जय कन्हैया लाल की की जगह लेगा नया शो मुस्कान